• ਸਰਪੰਚ ਦਾ ਟੋਟਕਾ!

    ਇੱਕ ਪਿੰਡ ਦਾ ਸਰਪੰਚ ਜਨਾਨੀਆ ਪੱਟਣ ਚ ਬੜਾ ਮਸ਼ਾਹੂਰ ਸੀ। ਲੋਕ ਤਾਂ ਉਸ ਨੂੰ ਇਮਰਾਨ ਹਾਸ਼ਮੀ ਜਾਨ ਇਬਰਾਹੀਮ ਕਹਿੰਦੇ ਸੀ। ਇੱਕ ਦਿਨ ਇੱਕ ਬਾਣੀਆ ਸਰਪੰਚ ਕੋਲ ਜਾ ਕੇ ਕਹਿੰਦਾ ਕਿ ਸਰਪੰਚ ਸਾਬ ਮੈਨੂੰ ਵੀ ਕੋਈ ਨੁਕਤਾ ਦਸੋ ਕਿ ਜਨਾਨੀ ਕਿਵੇਂ ਫਸਾਉਂਦੇ ਹੋ?

    ਸਰਪੰਚ ਖਚਰਾ ਜਿਹਾ ਹਾਸਾ ਹੱਸ ਕੇ ਕਹਿੰਦਾ, "ਜਾ ਬਾਣੀਆ ਤੂੰ ਕੀ ਲੈਣਾ? ਤੇਰੇ ਵੱਲ ਦੀ ਨਹੀਂ ਇਹ ਗੱਲ।"

    ਪਰ ਬਾਣੀਏ ਦੇ ਬਾਹਲਾ ਖਹਿੜੇ ਪੈਣ ਤੇ ਸਰਪੰਚ ਕਹਿੰਦਾ, "ਪਹਿਲਾ ਸੁੰਹ ਖਾਹ ਕਿ ਕਿਸੇ ਹੋਰ ਨੂੰ ਨਹੀਂ ਆਹ ਨੁਕਤਾ ਦਸਦਾ।"

    ਬਾਣੀਆ ਆਪਣੇ ਦੇਵੀ ਦੇਵਤਿਆਂ ਦੀ ਸੁੰਹ ਖਾ ਗਿਆ ਤੇ ਸਰਪੰਚ ਨੇ ਨੁਕਤਾ ਦੱਸ ਦਿੱਤਾ ਕਿ ਜਨਾਨੀ ਦੇ ਸੱਜੇ ਕੰਨ ਚ ਆਹ ਮੰਤਰ ਪੜਨ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਜਨਾਨੀ ਦੇ ਲੱਕ ਨੂੰ ਪਿਛਲੇ ਪਾਸਿਉਂ ਪੋਲਾ ਜਿਹਾ ਦੋ ਬਾਰ ਪਲੋਸਣਾ।

    ਨੁਕਤਾ ਸੁਣ ਬਾਣੀਆ ਪਾਵੇ ਚਾਬੰਲੇ ਕਿ ਕਦੇ ਸੁਨੀਤਾ ਕਦੇ ਪਾਲੋ ਕਦੇ ਹੇਮੋ ਨਾਲ ਨਜਾਰੇ ਲਊਂਗਾ।

    ਪੱਪੂ ਬਾਣੀਆ ਘਰ ਆ ਕੇ ਰੋਟੀ ਖਾ ਚਾਅ ਚ ਸੌਂ ਗਿਆ ਕਿ ਕਲ ਤੋਂ ਕਾਰਵਾਈ ਸ਼ੁਰੂ। ਜਦੋਂ ਸਵੇਰੇ ਚਾਰ ਵਜੇ ਅੱਖ ਖੁਲੀ ਤਾਂ ਉਹਨੇ ਸੋਚਿਆ ਕਿ ਪਹਿਲਾਂ ਘਰ ਵਾਲੀ ਤੇ ਨੁਕਤਾ ਅਜਮਾ ਕੇ ਦੇਖਦੇ ਆ ਕਿਤੇ ਸਰਪੰਚ ਫੁੱਦੂ ਈ ਨਾ ਬਣਾ ਗਿਆ ਹੋਵੇ। ਉਹਨੇ ਘਰਵਾਲੀ ਦੇ ਕੰਨ ਚ ਮੰਤਰ ਪੜਿਆ ਤੇ ਪਿਛਲੇ ਪਾਸੇ ਲੱਕ ਕੋਲੋ ਦੋ ਵਾਰ ਪਲੋਸਿਆ।

    ਘਰਵਾਲੀ ਨੇ ਬੰਦ ਅੱਖਾਂ ਨਾਲ ਈ ਘੁੱਟ ਕੇ ਜੱਫੀ ਪਾ ਲਈ ਤੇ ਕਹਿੰਦੀ...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    "ਸਰਪੰਚ ਸਾਬ ਅੱਜ ਸਵੇਰੇ ਸਵੇਰੇ ਹੀ ਆ ਗਏ।"
  • इतने कम नंबर!

    काम पर से थक हार कर घर आया, सोफे पर बैठ गया। पत्नी ने पानी का गिलास दिया और बच्चे ने मार्कशीट सामने रखी।

    हिंदी 44
    अंग्रेजी 35
    गणित 37

    आगे कुछ पढ़ने से पहले... "बेटा ! क्या मार्क है ये ? गधे, शर्म नहीं आती तुझे ? नालायक है तू नालायक..."

    पत्नी: अरे आप सुनो तो?

    "तू चुप बैठ! तेरे लाड़ प्यार ने ही बिगाड़ा है इसे. नालायक,अरे बाप दिनभर मेहनत करता है और तू ऐसे मार्क लाता है।"

    लड़का चुपचाप गर्दन नीचे।

    "अरे सुनो... तो!"

    "तू चुप कर, एक शब्द भी मत बोल. आज इसको बताता हूँ।"

    "अरे!"

    पत्नी का आवाज बढ़ गयी, मैं थोडा रुक गया।"

    "सुन तो लो जरा!"

    "सुबह अलमारी साफ करते समय मिली आपकी ही मार्कशीट है वो..."

    भयानक सन्नाटा!
  • कवित्री की सुहागरात!

    एक कवित्री की सुहागरात के बाद उसकी सहेली ने जब पूछा कि कैसी रही उसकी सुहागरात तो कवित्री ने अपने अंदाज़ में कुछ यूँ दिया जवाब:

    आये थे वो ज़रा देर से, दिल जला दिया;
    पहले किया उन्होंने दरवाज़ा बंद और फिर दीपक बुझा दिया;
    पहले दबाई चूचियाँ उन्होंने टटोलकर,
    फिर खेलने लगे मेरी चूत से चड्डी खोल कर;
    एक जंग ऐसी छिड़ी पलंग पर,
    फिर तैयार कर गोले वाली तोप अपनी दाग दी उन्होंने मेरी सुरंग पर;
    करते रहे हमला लगातार वो, आने लगा मुझे भी अजीब सा मज़ा;
    इसी मज़े में छाया कुछ ऐसा नशा कि भूल गयी मैं इसके बाद की सजा;
    कुछ यूँ गुज़री सुहागरात मेरी कि पूरी हो गयी मेरे मन की हर एक रज़ा।
  • नसबंदी की दास्ताँ!

    एक गाँव में जिलाधिकारी नसबंदी के महत्व के बारे में भाषण दे रहा था। भाषण के बाद उसने कहा कि अगर कोई सवाल पूछना चाहे तो पूछ सकता है।

    एक ग्राम सेवक खडा हुआ और बोला, "गाँव वाले पूछते हैं कि क्या आपने खुद नसबंदी कराई है?"

    जिलाधिकारी ने कहा, "नहीं मैंने नसबंदी नहीं कराई है।"

    ग्राम सेवक ने पूछा, "क्या कमिश्नर ने नसबंदी कराई है?"

    जिलाधिकारी ने कहा, "जहाँ तक मुझे जानकारी है कमिश्नर ने भी नसबंदी नहीं कराई है।"

    ग्राम सेवक ने फिर पूछा, "क्या मंत्रालय के सचिव ने कराई है?"

    जिलाधिकारी ने कहा, "मैं तुम्हारा सवाल समझ गया... देखो हम सब पढ़े-लिखे लोग हैं। हम बिना नसबंदी कराए ही परिवार नियोजन करते हैं।"

    ग्राम सेवक ने कहा, "तो मादरचोद, हमें भी पढ़ाओ लिखाओ, हमारे लण्ड के पीछे क्यों पड़े हो?"
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT