• पप्पू की परेशानी!

    एक दिन पप्पू बंटी से मिलने आया तो थोडा परेशान था।

    बंटी: क्या बात है? इतने परेशान क्यों हो?

    पप्पू: कुछ नहीं यार, तुम्हें तो पता है न कि कल रात मुझे एक मस्त सी आइटम मिल गयी थी।

    बंटी: हाँ-हाँ पता है मुझे जिसके कारण तू मुझे बीच रास्ते में ही छोड़ गया था।

    पप्पू: हाँ बस उसे मैं होटल में ले गया। इम्प्रेस करने के चक्कर में मैंने उसके लिए
    शैम्पेन मंगवा ली और वो एक ही गिलास में ही घूम गयी।
    बस उसके बाद पूछो मत कि रात कितनी हसीन रही।

    बंटी: अगर सारी रात मज़े किये तो फिर परेशानी क्या है?

    पप्पू: बस एक ही बात का अफ़सोस हो रहा है कि उसके साथ तो बियर से ही काम चल जाता!
  • लुकाछिपी बंद!

    पप्पू जब संता के साथ पिकनिक मना कर वापिस आया तो
    जीतो ने उसे पूछा: आज तो तुम्हें बहुत मज़ा आया होगा अपने पापा के साथ पिकनिक मना कर?

    पप्पू: हाँ मम्मी, अच्छा लगा। हम सब ने मिलकर लुकाछिपी खेली।

    जीतो: और कितने बच्चे थे वहाँ?

    पप्पू: बच्चा तो मैं अकेला ही था।

    जीतो: फिर तुमने लुकाछिपी किसके साथ खेली?

    पप्पू: मैं, पापा और एक सुन्दर सी आंटी।

    जीतो: आंटी?

    पप्पू: हाँ मम्मी, पर अब मैं पापा के साथ कभी नहीं खेलूंगा।
    उन्हें तो खेलना ही नहीं आता। जब हम खेल रहे थे तो वो आंटी एक
    कमरे में छिप गयी और पापा उसे ढूंढ़ने के लिए अंदर गए तो पूरे आधे घंटे बाद वापिस निकले।

    जीतो(गुस्से में आग-बबूला होते हुए): बस बेटा आज के बाद तुम्हारे पापा कभी लुकाछिपी खेल ही नहीं पाएंगे!
  • पप्पू की सर्कस!

    पप्पू अपनी गर्लफ्रेंड से: ये लो सर्कस के टिकट।

    गर्लफ्रेंड टिकट गिनने के बाद: इसमें तो दो टिकट कम हैं।

    मम्मी, डैडी, भइया, भाभी और मुन्ना सब जा सकते हैं, पर हमारे दो टिकट कहाँ हैं?

    क्या हम सर्कस देखने नहीं जा पाएंगे?

    पप्पू: सर्कस का तो मुझे भी बहुत शौंक है, मगर उन सब के सामने हम अपने करतब

    नहीं दिखा पाते। अब तीन घंटे हमारा शो चलेगा!
  • पप्पू की एम्बुलेंस!

    पप्पू की एक लड़की से काफी समय से सेटिंग चल रही थी।
    बहुत दिनों तक मनाने के बाद वो सेक्स के लिए राज़ी हो गयी।

    पप्पू ने शाम को उसे अपने घर बुलाया और बोला:
    चलो आज हम एम्बुलेंस-एम्बुलेंस खेलते हैं।

    लड़की: यह कैसी गेम है? मैंने तो आज तक इसका नाम नहीं सुना।

    पप्पू(मुस्कुराते हुए): अरे, बहुत आसान है, जब मैं अपना लंड तुम्हारे अंदर डालूं और जब तुम्हे दर्द हो और तुम मुझ्हे रोकना चाहो तो बस तुम 'रेड लाइट-रेड लाइट' बोलना।

    लड़की: ठीक है।

    पप्पू ने जैसे ही उसके अंदर डाल कर 2-3 धक्के दिए तो लड़की दर्द के मारे चिल्ला उठी,
    'रेड लाइट-रेड लाइट', रुक जाओ रेड लाइट, मर गयी रेड लाइट।

    मगर पप्पू रुका नहीं और शैतानी हंसी हँसते हुए बोला,
    "अरे बहन की लोड़ी, एम्बुलेंस भी कभी रेड लाइट पे रूकती है क्या?"