• सबसे पवित्र चीज

    सबसे पवित्र चीज है पुरुष का लिंग।

    ये बहूत विनम्र है,
    हमेशा झुका रहता है।

    ये बहुत दयालु है,
    लडकियों की गोद भरता है।

    ये असली गुरु है,
    जो अपने दो चेलों का साथ नही छोडता।

    इसमें सादगी है,
    ये छोटी सी गुफा में रात गुजार लेता है।

    ये आदरणीय है,
    नारी को देख कर खड़ा हो जाता है।

    ये कोमल है,
    चाहे कितना भी मरोड़ो इसमें से अमृत ही निकलता है, जिससे सृष्टि चलती है।
  • पठान की चालाकी!

    एक डॉक्टर पठान के पीछे ब्लेड लेकर भाग रहा था और चिल्ला रहा था, "ठहर जा बहन के लोड़े, तेरी माँ चोद दूंगा, रूक साले कमीने, एक बार हाथ लग जा तेरे को जान से मार दूँगा।"

    यह सुन कर कुछ लोगो ने डॉक्टर को पकड़ा और पूछा, "भाई साहब हुआ क्या है, क्यों उसको मारने पर तुले हो?"

    डॉक्टर गुस्से से बोला, "ये साला भोसड़ी का हरामी, पिछली 4 बार से ऐसा ही कर रहा है, नसबंदी करवाने आता है और झाँटे कटवा कर भाग जाता है।"
  • कोई तो कारण है!

    फौजी तीन साल बाद जंग से वापस घर आया। खिड़की के पास उदास बेठा था। बीवी 3 साल से सेक्स की भूखी थी, दुपट्टा गिरा कर बोली, "देखो हवा ने मेरा क्या उडा दिया।"

    फौजी चुप्प।

    फिर बीवी ने कुर्ती निकाली और बोली, "देखो हवा ने मेरा क्या उड़ा दिया।"

    फौजी फिर चुप।

    बीवी ने फिर सलवार और पेंटी उतारी और बोली, "देखो हवा ने मेरा क्या उड़ा दिया।"

    फौजी को गुस्सा आ गया। उसने अपनी पेंट उतारी और बोला, "देखो बम्ब ने मेरा क्या उड़ा दिया।"

    अब...बीवी चुप्प।
  • गारंटी घुस गयी गांड में!

    एक बार जंगल में एक गधे का सेक्स करने बड़ा का मन करता है तो वो गधी के पास जाता है। गधी उसे यह कह कर मना कर देती है कि तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है और बहुत दर्द होती है। गधा उसे बहुत मनाने की कोशिश करता है, आखिरकार गधी मान जाती है पर कहती है कि जा कर कोई गारंटी ले कर आओ कि तुम अपना पूरा लंड अंदर नहीं डालोगे।

    गधा गारंटी के लिए जंगल में दूसरे जानवरों के पास जाता है लेकिन कोई भी जानवर उसकी गारंटी देने को तैयार नहीं होता। आखिर में एक मेंढक को रहम आ जाता है वो गारंटी के लिए तैयार हो जाता है। मेंढक गधे से कहता है, "मैं तेरे लंड पे एक निशान लगा दूंगा तुम उससे आगे नहीं जाना। जब भी निशान से आगे जाओगे तो मैं सीटी बजा दूंगा तो तुम लंड को बाहर निकाल लेना।

    गधा तैयार हो जाता है। दोनों गधी के पास जाते हैं।

    गधा सैक़स करना शुरू करता है। जब भी गधे का लंड निशान से जयादा अंदर जाता मेंढक सीटी बजा देता और गधा वापस लंड बाहर निकाल लेता। जैसे-जैसे समय बीतता गया, गधे का बार-बार निशान से अंदर को जाने लगता है तो मेंढक सीटी बजाने लगता। जब गधा पूरे जोश में आ गया तो उसे मेंढक की सीटी भी नहीं सुनी तो मेंढक छलांग लगा कर गधे के लंड पर बैठ गया पर गधा कहाँ रुकने वाला था। उसने लगाया अपना फाइनल शॉट तो मेंढक ही गधी की गांड में घुस गया।

    यह सब पेड़ पर बैठा एक बंदर देख रहा था। वो जोर ज़ोर से ताली बजा कर बोलने लगा, "गई गारंटी गांड में।" "गई गारंटी गांड में।"

    आप ने इस कहानी से क्या सीखा: कभी भी किसी की गारंटी नहीं लेनी चाहिए नहीं तो गांड में घुसने की नौबत आ सकती है।