• हीरोइन की महानता!

    एक बार एक हीरोइन शूटिंग के लिए पानी के जहाज में यात्रा कर रही थी। यात्रा के दौरान उसने डायरी लिखी।

    पहले दिन की डायरी में लिखा था, "अब जहाज चल पड़ा है। बड़ा मज़ा आ रहा है। दिल चाहता है कि इस यात्रा का अंत ही ना हो।"

    दूसरे दिन की डायरी में लिखा था, "आज कैप्टन ने मुझे पूरा जहाज दिखाया। खाना भी खिलाया और ड्रिंक कराई और कहा कि रात को उस के कमरे में आकर एक अंतिम घूंट उसके साथ लूं। मैंने इंकार किया तो वो बोला कि यदि आप मेरी बात नहीं मानेंगी तो पूरा जहाज समुंदर में डुबो दूंगा।"

    तीसरे दिन की डायरी में लिखा था, "आज मैंने 2000 लोगों की जान बचा ली।"
  • हनीमून!

    एक सहेली जब हनीमून मना कर लौटी तो उसकी सहेली ने पूछा, "कैसा रहा तुम्हारा हनीमून?"

    दूसरी सहेली: मेरी तो जान पर बन आयी थी।

    पहली सहेली: क्यों क्या हो गया था?

    दूसरी सहेली: बस ऊपर-नीचे, उपर-नीचे और फिर थकान से चूर।

    पहली सहेली: तो तुझे तो खुश होना चाहिए, परेशान क्यों हो?

    पहली सहेली: अरे, तू गलत समझ रही है मैं तो अपने सफ़र की बात कर रही हूँ। पहाड़ियों में ऊपर-नीचे हो रही थी।
  • उदासी का अनोखा कारण!

    पिंकी कक्षा में बहुत उदास बैठी थी।

    उसकी सहेली ने पूछा: क्यों पिंकी क्या बात है? तुम उदास क्यों हो?

    पिंकी: बात यह है कि कल रात मैं एक पार्टी में गई थी। वहाँ हमने एक नया खेल खेला। खेल यह था कि जब कोई प्रेमी किसी प्रेमिका के सवाल का उत्तर नहीं दे पाता था, तो उसे प्रेमिका को चूमना पड़ता था या दस रूपए देने होते थे।

    सहेली: बड़ा मज़ेदार खेल था। इसमें उदास होने की क्या बात है?

    पिंकी: कल रात मेरे पास एक सौ रूपए इकठ्ठा हो गए।
  • थकान से बेहाल!

    एक बड़ी फर्म के प्रोपराइटर दुखी मुद्रा में रात को अपने मित्र के घर पहुंचे और बताया पत्नी से लड़ाई हो गई है, अंत: वह उसके पास सोने आए हैं।

    मित्र ने पूछा: पर हुआ क्या?

    प्रोपराइटर: आज जब ऑफिस से घर पहुंचा तो थका हुआ था, कुसुम ने मेरे गले में बांहें डालकर स्वागत किया और कश्मीर इम्पोरियम में नई-नई रेशमी साड़ी के लिए अठारह सौ रूपए मांगे।

    मित्र: मैं समझ गया, कंजूस आदमी हो। लखपति होकर भी तुम्हारी यह आदत नहीं गई, तुमने बचत योजना पर भाषण दिया होगा?

    प्रोपराइटर (ठंडी सांस लेते हुए): नहीं यार! मैं थकान से इतना बेहाल था कि कह गया, 'अवश्य डार्लिंग, अठारह सौ तुमसे ज्यादा हैं क्या, बस यह लेटर टाइप करके क्लर्क को दे दो।'