• गुज्जु सेलसमैन!

    एक सेठ ने एक गुज्जु सेल्समेन रखा जिस कारण सेल्स 4 गुणा हो गयी।

    सेठ एक दिन गुज्जु से मिलने दुकान पर गया तो गुज्जु एक ग्राहक को मछली पकड़ने वाली रॉड बेच रहा था,
    सेठ खड़ा होकर देखने लगा।

    ग्राहक ने रॉड खरीद ली।

    गुज्जु सेल्समेन: इतने महंगे जूते पहन कर मछली पकड़ोगे, स्पोर्ट्स शूज ले लीजिये।

    ग्राहक ने जूते ले लिए।

    गुज्जु सेल्समेन: कितनी धूप है बाहर टोपी ले लीजिये।

    ग्राहक ने टोपी भी ले ली।

    गुज्जु सेल्समेन: मछली पकड़ते भूख भी लगेगी कुछ खाने के लिए भी ले लीजिये।

    ग्राहक ने खाने का सामान भी ले लिया।

    ऐसे करते-करते गुज्जु सेल्समेन ने काफी सामान बेच दिया। जिसे देख सेठ बहुत खुश हुआ और बोला, "तुम एक अच्छे सेल्समेन हो। वो केवल रॉड लेने आया था और तुमने इतना सारा सामान बेच दिया।"

    गुज्जु सेल्समेन: सेठ जी वो तो सिर्फ अपनी बीवी के लिए Whisper लेने आया था। मैंने कहा 4 दिन क्या करोगे? जाओ मछली पकड़ो!!!
  • बातों पे ना जाओ अपनी अक्ल लगाओ! बुरा न सोचो होली है!

    कृपया होली वाले दिन इनका वही मतलब निकालना जो बचपन में समझते थे;
    मैं गीली हो गयी हूँ

    और कहीं भी डालो बस मुंह पे मत डालना

    कपड़े मत फाड़ो, मैं डलवा रही हूँ न

    अच्छा बाबा लो डाल लो

    एक-एक करके डालो यार

    तेल लगा कर आना नहीं तो जायेगा नहीं

    यार मेरे गुब्बारे में छेद है

    मेरे गुब्बारे मत छेड़ो

    तुम मेरी पिचकारी पकड़ो मैं तुम्हारे गुब्बारों में हवा भरता हूँ

    तुम्हारी पिचकारी किसी काम की नहीं
  • बूब्स की किस्मे !

    एक बार बंता ने संता से पूछा कि बूब्स कितने प्रकार के होते हैं?

    संता: बूब्स तीन प्रकार के होते हैं, 20 साल की उम्र में खरबूजे जैसे बिलकुल गोल और सख्त।
    30-40 साल की उम्र में आम की तरह, अच्छे पर लटके हुए और 50 साल की उम्र में प्याज़।

    बंता हैरानी से: प्याज़!

    संता: हाँ, प्याज़ तुम उन्हें देखते हो और वो तुम्हें रुला देते हैं।
  • लंड पे निबन्ध:

    1. प्रस्तावना: लंड ये एक ऐसी चीज है जो धरती पर पाए जाने वाले प्रत्येक मर्द के पास पाया जाता है। इसका जन्म मानव शारीर के साथ ही हो जाता है। इसको शरीर का गन्दा तरल पदार्थ निकालने के लिए बनाया गया है लेकिन मानव ने इसके कई उपयोग किये हैं।

    2. प्रकार: लंड कई प्रकार के होते हैं पर चलन में मुख्य तरह के 4 लंड हैं:-
    i. टोपी वाला
    ii. चमड़ी वाला
    iii. टेड़ा
    iv. लटका हुआ

    यह दो साइजो में पाया जाता है, लम्बा एवम छोटा

    3. नाम: लंड को अलग - अलग जगह अलग - अलग नाम से पुकारा जाता है। कही लवड़ा, लौड़ा, मुन्नी,चुन्नू,घंटा, शिश्न,पेनिस,डंडा इत्यादि।

    4. प्रयोग: लंड के कई प्रयोग हैं। शुरुआत में यह शरीर के तरल अवयव बाहर निकलने के काम आता है। किशोर अवस्था आते आते इसके दुसरे प्रयोग समझ आते हैं।इसके अंदर कुछ हारमोन के कारण किशोरावस्था में हलचल चालू हो जाती है।बाद में युवा अवस्था में यह किसी भी महिला को देखकर व उनके उभार व गांड देखकर अपने आप हिलने लगता है। फिर यह खड़ा होने लगता है।

    5. किरयायें: लगभग 16 वर्ष आते - आते इसके आस पास घने बाल उग आते हैं। इसके बाद किशोरों को रात को कुछ सपने आते हैं अजीब से जिससे इसमे से कुछ चिकनाई युक्त पदार्थ निकलता है जो कि शुरू में किशोरों को डरा देता है। लेकिन कुछ समय बाद मजा आने पर किशोर अपने लंड की चमड़ी को आगे पीछे कर के माल(जिसे वीर्य कहा जाता है) निकालते हैं।वो फिर धीरे धीरे अपनी हम उम्र या बड़ी उम्र की महिलाओं के बारे सोच कर चमड़ी को आगे पीछे करते है। इस क्रिया को ह्स्त्मेथुन कहा जाता है। कुछ लोग इसे गणित की भाषा में 61-62 भी कहते हैं।

    6. नुकसान: ह्स्त्मेथुन क्रिया शरीर को काफी नुकसान पहुचाती है। इससे शारीर की नसें कमजोर पडती हैं। उंगलिया चटकनी पडती हैं। यदि लंड की बराबर सफाई न की जाए तो यह घातक हो जाता है। इसके आसपास काफी फोड़े फुंसी हो जाते है।

    7. चाहत: लंड की भी किसी इन्सान की तरह चाहत होती है। धीरे से घर वाले भी आपके लंड की चाहत को समझ कर इसके लिए एक गड्डे की व्यवस्था करने में लग जाते है। व्यवस्था होने के बाद शुरू होती है इसकी धमा - चौकड़ी। आपकी शादी होने से जितनी ख़ुशी आपको नही होती उससे ज्यादा खुश यह आपका लाडला होता है।फिर यह उस औरत के गड्डे में घुसता है। उसके मुह में घुसता है। गांड की और घुसने की कोशिश करता है और इस तरह से इसका नया उपयोग दिनो - दिन चालू हो जाता है।

    8. समापन: लंड यह प्रक्रति द्वारा बनाई गई एक ऐसी चीज है जिसके बिना दुनिया की कल्पना सम्भव नही है। भाइयो इसका खूब प्रयोग करो लेकिन अप्रकार्तिक मैथुन से बचते रहना नही तो इसकी उम्र कम हो जाती है। सही उपयोग जितना ज्यादा करोगे उतनी ही इसकी उम्र और आपकी तथा आपकी औरत की ख़ुशी बढेगी।

    आपके लंड को और शक्ति मिले इसी मंगलकामना के साथ आपके मित्र का प्रणाम।
    यह साहित्यिक क्रति कैसी लगी अपना मत दे हमारा हौसला बड़ेगा।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT