• पठान की मुसीबत!

    एक बार एक पठान बड़ा दुखी होकर डॉक्टर के पास गया।

    डॉक्टर: क्या हुआ, इतने दुखी क्यों हो?

    पठान: डॉक्टर साहब, कोई सस्ता तरीका बताओ कि मेरी बीवी प्रेग्नेंट ना हो?

    डॉक्टर: तुम नसबंदी करवा लो।

    पठान: नहीं महंगा है।

    डॉक्टर: बीवी को iPill ले दो।

    पठान: नहीं यह भी महंगा है।

    डॉक्टर: तो सबसे सस्ता है कि कंडोम ले लो।

    पठान: नहीं कंडोम भी महंगा है।

    डॉक्टर: तो साले बीवी को चोदना बंद कर।

    पठान: यह तरीका तो 5 साल से इस्तेमाल कर रहा हूँ फिर भी बीवी प्रेग्नेंट हो जाती है।
  • गुज्जु सेलसमैन!

    एक सेठ ने एक गुज्जु सेल्समेन रखा जिस कारण सेल्स 4 गुणा हो गयी।

    सेठ एक दिन गुज्जु से मिलने दुकान पर गया तो गुज्जु एक ग्राहक को मछली पकड़ने वाली रॉड बेच रहा था,
    सेठ खड़ा होकर देखने लगा।

    ग्राहक ने रॉड खरीद ली।

    गुज्जु सेल्समेन: इतने महंगे जूते पहन कर मछली पकड़ोगे, स्पोर्ट्स शूज ले लीजिये।

    ग्राहक ने जूते ले लिए।

    गुज्जु सेल्समेन: कितनी धूप है बाहर टोपी ले लीजिये।

    ग्राहक ने टोपी भी ले ली।

    गुज्जु सेल्समेन: मछली पकड़ते भूख भी लगेगी कुछ खाने के लिए भी ले लीजिये।

    ग्राहक ने खाने का सामान भी ले लिया।

    ऐसे करते-करते गुज्जु सेल्समेन ने काफी सामान बेच दिया। जिसे देख सेठ बहुत खुश हुआ और बोला, "तुम एक अच्छे सेल्समेन हो। वो केवल रॉड लेने आया था और तुमने इतना सारा सामान बेच दिया।"

    गुज्जु सेल्समेन: सेठ जी वो तो सिर्फ अपनी बीवी के लिए Whisper लेने आया था। मैंने कहा 4 दिन क्या करोगे? जाओ मछली पकड़ो!!!
  • बातों पे ना जाओ अपनी अक्ल लगाओ! बुरा न सोचो होली है!

    कृपया होली वाले दिन इनका वही मतलब निकालना जो बचपन में समझते थे;
    मैं गीली हो गयी हूँ

    और कहीं भी डालो बस मुंह पे मत डालना

    कपड़े मत फाड़ो, मैं डलवा रही हूँ न

    अच्छा बाबा लो डाल लो

    एक-एक करके डालो यार

    तेल लगा कर आना नहीं तो जायेगा नहीं

    यार मेरे गुब्बारे में छेद है

    मेरे गुब्बारे मत छेड़ो

    तुम मेरी पिचकारी पकड़ो मैं तुम्हारे गुब्बारों में हवा भरता हूँ

    तुम्हारी पिचकारी किसी काम की नहीं
  • बूब्स की किस्मे !

    एक बार बंता ने संता से पूछा कि बूब्स कितने प्रकार के होते हैं?

    संता: बूब्स तीन प्रकार के होते हैं, 20 साल की उम्र में खरबूजे जैसे बिलकुल गोल और सख्त।
    30-40 साल की उम्र में आम की तरह, अच्छे पर लटके हुए और 50 साल की उम्र में प्याज़।

    बंता हैरानी से: प्याज़!

    संता: हाँ, प्याज़ तुम उन्हें देखते हो और वो तुम्हें रुला देते हैं।