• लुकाछिपी बंद!

    पप्पू जब संता के साथ पिकनिक मना कर वापिस आया तो
    जीतो ने उसे पूछा: आज तो तुम्हें बहुत मज़ा आया होगा अपने पापा के साथ पिकनिक मना कर?

    पप्पू: हाँ मम्मी, अच्छा लगा। हम सब ने मिलकर लुकाछिपी खेली।

    जीतो: और कितने बच्चे थे वहाँ?

    पप्पू: बच्चा तो मैं अकेला ही था।

    जीतो: फिर तुमने लुकाछिपी किसके साथ खेली?

    पप्पू: मैं, पापा और एक सुन्दर सी आंटी।

    जीतो: आंटी?

    पप्पू: हाँ मम्मी, पर अब मैं पापा के साथ कभी नहीं खेलूंगा।
    उन्हें तो खेलना ही नहीं आता। जब हम खेल रहे थे तो वो आंटी एक
    कमरे में छिप गयी और पापा उसे ढूंढ़ने के लिए अंदर गए तो पूरे आधे घंटे बाद वापिस निकले।

    जीतो(गुस्से में आग-बबूला होते हुए): बस बेटा आज के बाद तुम्हारे पापा कभी लुकाछिपी खेल ही नहीं पाएंगे!
  • वाह री किस्मत!

    संता और बंता दोनों छुट्टियां मना कर वापिस लौट रहे थे।
    रास्ते में उनकी कार खराब हो गयी। काफी देर तक कोशिश करने के बाद भी कार
    स्टार्ट ना हो सकी तो उन्होंने वहाँ एक मकान का दरवाज़ा खटखटाया।
    एक सुन्दर सी लड़की ने दरवाज़ा खोला तो संता और बंता ने उससे शरण मांगी।
    लड़की ने उन्हें अपने घर में रात को ठहरा लिया।

    चार महीने बाद बंता को एक बड़ा सा मोटा कानूनी लिफाफा पोस्ट से मिला।
    बंता ने लिफाफा खोला और पढ़ने के बाद तुरंत संता को फ़ोन किया।

    बंता: क्यों भाई याद है तुम्हें जब हम छुट्टियां मनाने गए थे और रास्ते में हमारी कार ख़राब हो गयी थी, तब हम एक मकान में ठहरे थे।

    संता: हाँ-हाँ याद है मुझे।

    बंता: तो वहाँ तुमने उस लड़की के साथ कुछ किया था?

    संता: हाँ यार, वो कुछ अकेली महसूस कर रही थी बस इसलिए।

    बंता: और उसके पूछे जाने पर तुमने नाम और पता मेरा बता दिया था।

    संता: अरे बुरा मत मानो, मैंने तो बस मज़ाक किया था।

    बंता: मैं बुरा नहीं मान रहा। मैं तो तुम्हारा शुक्रिया अदा कर रहा हूँ,
    क्योंकि आज सुबह उसके वकील का मुझे एक ख़त मिला है। उस लड़की का पिछले
    हफ्ते देहांत हो गया है और उसने अपना वो मकान और सारी जायदाद मेरे नाम कर दी है।
  • महंगा मशवरा!

    एक पार्टी में एक वकील की पत्नी एक डॉक्टर से अपना रोना रो रही थी
    कि उसका पति बहुत दफा पार्टियों में उसके साथ जाने से मना कर देता है,
    क्योंकि वहाँ लोग उससे सलाह-मशवरा पूछ-पूछ कर उसकी शाम ख़राब कर देते हैं।

    "क्या आपके साथ भी ऐसा होता है?" महिला ने पूछा।

    डॉक्टर: हाँ, हमेशा।

    महिला: तो आप उनसे कैसे बचते हैं?

    डॉक्टर: मेरे पास बहुत अच्छा आईडिया है।

    महिला: वो क्या?

    डॉक्टर: जो मुझसे अपनी बीमारी के बारे में पूछते हैं या बात करते हैं,
    मैं उन्हें एक सुनसान कोने में ले जाकर कहता हूँ कि अपने कपडे उतारो!
  • माली की तनख्वाह!

    संता को अपने घर के छोटे से बगीचे में काम करने का बड़ा शौंक था।
    रोज़ दफ्तर से लौटने के बाद वह अपने छोटे से बगीचे में जुट जाता था।

    एक दिन संता रोज़ की तरह अपना शौंक पूरा कर रहा था तो
    घर के बाहर एक कार आ कर रुकी जिसमे से एक औरत ने उतर कर
    संता को पुकारा, "सुनो, तुम यहाँ क्या लेते हो?
    तुम मेरे साथ चलो मैं तुम्हें यहाँ से ज्यादा दूंगी।"

    संता: नहीं मैडम, आप नहीं दे पाओगी।
    इस घर की मालकिन रात को मुझे अपने साथ सोने देती है!