• पति-पत्नी और चोर!

    एक बार एक घर में रात को चोर घुस आया। जब वो पैसे और सामान चुरा रहा तो उसने बेडरूम से कुछ आवाज़ें सुनी और वो बेडरूम में चला गया।

    वहाँ उसने देखा कि पति-पत्नी दोनों सेक्स कर रहे हैं।

    उसने पति के ऊपर पिस्तौल तान दी और उसे बिस्तर से बाहर खींच कर कुर्सी के साथ बांध दिया और फिर पत्नी के ऊपर चढ़ गया और उसे चूमने लगा। थोड़ी देर बाद वो बाथरूम में चला गया।

    जब वो बाथरूम में गया तो पति जल्दी से अपनी पत्नी को कहने लगा कि लगता है इस चोर ने बहुत समय से सेक्स नहीं किया और इसीलिए वो तुम्हें ऐसे चूम रहा था और अगर वो तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहे तो उसे मना मत करना नहीं तो हो सकता है वो हमें मार दे, प्लीज तुम उसके साथ सेक्स कर लेना। मुझे पता है कि तुम्हें अच्छा नहीं लगेगा पर फिर भी तुम मना मत करना। "आई लव यू!"

    पत्नी: तुम घबराओ मत वो मेरे साथ सेक्स नहीं करना चाहता और ना ही वो मुझे चूम रहा था।
    वो तो मेरे कान में यह कह रहा था कि वो 'गे' है और पूछ रहा था कि घर में वेसिलीन पड़ी है तो मैंने कहा कि बाथरूम में है।

    अब तुम प्लीज घबराना मत और उसे मना मत करना। "आई लव यू!"
  • शक्की पति!

    एक शक्की पति ने अपनी पत्नी को फ़ोन किया।

    पति: कहाँ हो?

    पत्नी: घर पर।

    पति: अच्छा तो फिर मिक्सी चलाओ।

    पत्नी ने मिक्सी चला दी पति ने आवाज़ सुनी और फ़ोन काट दिया।

    अगले दिन पति ने फिर फ़ोन किया और पूछा कि कहाँ हो?

    पत्नी ने फिर जवाब दिया कि घर पर और पति ने उसे मिक्सी चलाने के लिए कहा।

    पत्नी ने मिक्सी चला दी।

    अब ऐसा कई दिनों तक चलता रहा, एक दिन पति घर आया तो देखा कि पत्नी घर पर नहीं है।
    उसने नौकरानी से पूछा कि मालकिन कहाँ है?

    नौकरानी ने जवाब दिया कि मालकिन तो रोज़ इस समय बाहर चली जाती हैं, पर साहब एक बात नहीं समझ आयी कि वो रोज़ साथ में मिक्सी क्यों लेकर जाती हैं!
  • लंड का घमंड!

    सो रहा था एक रोज़ लंड, रख कर टट्टों पर अपना सिर;

    पास से हुआ चूत का गुज़र, लंड ने देखा उसे उठा कर सिर;

    लंड ने पूछा जा रही हो किधर, अगर वक़्त हो तो ज़रा आ जा इधर;

    चूत ने कहा अजी मुझे माफ़ कीजिये, पहले जो मुंह से टपक रहा है उसे साफ़ कीजिये;

    लंड ने जो यह सुना तो वो गया बिगड़, फिर जो कुछ न होना था वो हो गया उधर;

    चोद कर चूत को लंड सो गया फिर;

    देख कर यह चूत बोली लंड से चुद जाने के बाद;

    बात ही नहीं करते जनाब अपना मतलब निकल जाने के बाद!
  • संता बना शेख चिल्ली!

    एक बार संता को कहीं जाना था। दरवाजा खोला तो देखा हल्की बारिश हो रही है। जाना पैदल है और बारिश बढ़ भी सकती है।

    सोचने लगा कि क्या करूँ फिर ख्याल आया कि,"पास के मिश्रा जी के घर से छाता ले लूँगा।"

    छाता लेने के लिए उनके घर की ओर चल पड़ा तो रास्ते में सोचने लगा कि,"हो सकता है मिश्रा जी घर पर न हों कोई बात नहीं भाभी जी तो इस समय घर पे ही होंगी। वैसे अच्छी औरत है पर क्या भरोसा मना कर दे।"

    अरे नहीं सात बज रहे हैं मिश्रा जी अभी घर पे ही होंगे। आदमी सही है पर मूड का कुछ कह नहीं सकते खुश है तो खुश नहीं तो फिर बस।

    अरे पर मैंने क्या करना है उसके मूड का एक छाता ही तो मांग रहा हूँ कोई जायदाद थोड़ी न मांग ली।

    वैसे भी मना नहीं करेंगे।

    कितनी बार मेरा स्कूटर मांग के ले गए हैं मैंने तो कभी मना नहीं किया, पर इंसान का क्या पता मना ना करे कोई बहाना ही बना दे।

    एक छाते के लिए बहानेबाजी,छि!! इंसान अपना वक़्त कितनी जल्दी भूल जाता है।

    ये तो अच्छी बात नहीं है। मैं भी चुप रहने वाला नहीं हूँ। होगा मिश्रा अपने घर का साला एहसान फरामोश।

    गुस्से में संता ने मुठियाँ भींच ली।

    छाता न हुआ कोई बड़ी चीज़ हो गयी। मुझे क्या चुतिया समझा है बहनचोद, नहीं देना है तो न दे। पर ये न सोच लेना की कोई हम गिरे हुए है। एक छाता नहीं खरीद सकते।

    सोचते-सोचते मिश्रा जी का घर आ गया।

    संता ने डोर बेल बजायी।

    मिश्रा जी लुंगी पहने हुए बाहर निकले, "अरे आईये आईये संता जी!"

    संता गुस्से से एकदम लाल सामने आया घुमा के मिश्रा जी के नाक पे एक घूंसा जमाया और बोला: "गांड में डाल ले अपना छाता। बहनचोद!"