• नशे में सेक्स ठीक नहीं!

    दो बूढ़े शराब के नशे में टुन्न होकर एक कोठे पर सेक्स करने गए।

    कोई भी लड़की बूढ़ों से सेक्स के लिए नहीं मानी तो दलाल ने दो रबर की गुड़िया में हवा भर के बूढ़ों को दे दी और बोला, "लड़कियां नशे में हैं। अपना-अपना काम कर लो।"

    जब सुबह दोनों कोठे से बाहर निकले तो आपस में बातें कर रहे थे।

    पहला बूढा: यार लड़की नशे में नहीं थी, साली लाश थी। सारी रात खुद ही हिल-हिल कर करना पड़ा।

    दूसरा बूढा रोते हुए बोला, "मुझे तो सालों ने भूतनी दे दी। मैंने जोश-जोश में उसकी चूची काट ली तो सूं की आवाज़ के साथ तेज़ हवा आई और लड़की उड़ के खिड़की के बाहर चली गयी। सारी रात मेरी डर के मारे गांड फटी रही।"
  • महिलाओं के लिए!

    एक बार एक आदमी ने बहुत शराब पी ली उसे बहुत जोर से पेशाब आ गया।

    वह जल्दी से एक शौचालय में घुस गया और उसने इधर-उधर कोई ध्यान नही दिया और खड़े होकर पेशाब करने लगा।

    जब वह पेशाब करके हटने लगा तो उसने देखा कि वह गलती से महिला शौचालय में घुस गया है और वहां एक महिला थी।

    महिला ने आदमी से कहा, "यह महिलाओं के लिए है।"

    आदमी अपने लंड को हिलाते हुए बोला, "ये कौन सा मसाले कूटने के लिए है, ये भी महिलाओं के लिए ही है।"
  • नशे में सेक्स ठीक नहीं!

    दो बूढ़े शराब के नशे में टुन्न होकर एक कोठे पर सेक्स करने गए।

    कोई भी लड़की बूढ़ों से सेक्स के लिए नहीं मानी तो दलाल ने दो रबर की गुड़िया में हवा भर के बूढ़ों को दे दी और बोला, "लड़कियां नशे में हैं। अपना-अपना काम कर लो।"

    जब सुबह दोनों कोठे से बाहर निकले तो आपस में बातें कर रहे थे।

    पहला बूढा: यार लड़की नशे में नहीं थी, साली लाश थी। सारी रात खुद ही हिल-हिल कर करना पड़ा।

    दूसरा बूढा रोते हुए बोला, "मुझे तो सालों ने भूतनी दे दी। मैंने जोश-जोश में उसकी चूची काट ली तो सूं की आवाज़ के साथ तेज़ हवा आई और लड़की उड़ के खिड़की के बाहर चली गयी। सारी रात मेरी डर के मारे गांड फटी रही।"
  • मैं शादीशुदा हूँ!

    एक शराबी ने एक रात बहुत ज्यादा पी ली! इतनी ज्यादा कि उसे होश ही नहीं रहा कि वह कहाँ है! सुबह जब वह जागा तो उसने पाया कि वह अपने घर में ही है! लेकिन साथ ही उसे डर भी सताने लगा कि आज तो पत्नी जबरदस्त हंगामा करेगी!

    जैसे-तैसे डरते-डरते उसने आँखें खोलीं तो देखा कि घर में बिजली नहीं है और उसकी पत्नी बड़े प्यार से उसे पंखा झल रही है, उसके जागते ही पत्नी प्यार से बोली - जाग गए आप ? बैठिये, मैं आपके लिए अभी चाय लेकर आती हूँ!

    शराबी ने चुपचाप चाय पी ली, इसके बाद पत्नी बोली - मैं ज़रा सामान लेने बाज़ार जा रही हूँ तब तक आप फ्रेश होकर नाश्ता कर लीजिए, गरमागरम नाश्ता किचन में तैयार रखा है, वापस आकर आपका मनपसंद खाना बनाऊँगी!

    शराबी सन्न था, उसे पत्नी के इस बदले व्यवहार की वजह समझ में नहीं आ रही थी, पत्नी के जाते ही उसने अपने बेटे को बुलाया और पूछा - बेटा, रात को क्या हुआ था ?

    बेटे ने बताया, रात को 3 बजे आपके दोस्त आपको घर पर लेकर आये थे, आपको बिलकुल भी होश नहीं था, आते ही आप टेबल पर गिर पड़े जिससे टेबल का कांच टूट गया, आपने फर्श पर उलटी भी की थी!

    शराबी: फिर तो तुम्हारी माँ को बहुत नाराज़ होना चाहिए था पर ऐसा लग नहीं रहा, क्यों ?

    बेटा: वो तो आपने नशे की हालत में एक ऐसी बात कह दी कि उनका दिल ही जीत लिया बस!

    शराबी: क्या? ऐसा क्या कहा मैंने ?

    बेटा: आपको बिस्तर पर लिटाकर जब वो आपकी गन्दी पैंट उतारने की कोशिश कर रहीं थीं तो आप तो आप अपने लंड को पकड़ कर चिल्लाये - भगवान के लिए ऐसा मत करो ..... मैं शादीशुदा हूँ!