• फेसबुक की हकीकत:

    काली-कलूटी लड़की
    फेसबुक पर नाम White Angel,

    मोटा गैंडा लड़का
    फेसबुक पर नाम Smart Guy,

    अँधेरे से भी डरने वाला लड़का
    फेसबुक पर नाम The Killer,

    मोहल्ले की सबसे देसी लड़की
    फेसबुक पर नाम Princess Rocks

    45 साल की आंटी
    फेसबुक पर नाम The Doll Returns

    60 साल का बाबा
    फेसबुक पर नाम The King

    ऐसे फेसबुक नामों से सावधान क्योंकि हो सकता है कि आप भी इनका शिकार हो जायें।
  • नाम में क्या रखा है!

    एक बार स्टीवन स्पीलबर्ग एक होटल में डिनर कर रहा था।

    एक चीनी फ़ैन उनके पास गया और आटोग्राफ माँगने लगा।

    स्पीलबर्ग ने उसे दो थप्पड़ मारे और कहा,"तुम लोगों ने पर्ल हार्बर पर बम फेका था मैं तुम्हे कोई ऑटोग्राफ नहीं दूंगा, भागो यहाँ से।"

    चीनी: वो हम नहीं थे वो तो जापानी थे।

    स्पीलबर्ग: चीनी, जापानी और ताईवानी सब एक ही हैं।

    चीनी: तुमने भी तो टाइटॅनिक को डूबा दिया था उसमें मेरे परदादा थे।

    स्पीलबर्ग: अरे, वो मैं नहीं था वो तो आइसबर्ग था।

    चीनी: आइसबर्ग, स्पीलबर्ग, कार्ल्सबर्ग सब एक ही हैं।
  • तारीफ भी पड़ गयी महंगी!

    एक आदमी की शादी को 20 साल हो गए थे लेकिन उसने आज तक अपनी पत्नी के हाथ से बने खाने की तारीफ नहीं की।

    एक दिन जब वो दफ्तर से घर वापस आ रहा था तो रास्ते में उसे एक बाबा मिले। बाबा ने उस आदमी को रोका और कुछ खाने को माँगा तो आदमी ने बाबा को खाना खिला दिया। बाबा आदमी से बहुत प्रसन्न हुए तो उन्होंने आदमी से कहा कि अगर उसे कोई समस्या है तो बताओ, हम उसका हल कर देंगे।

    आदमी बोला, "बाबा जी, बहुत समय से कोशिश कर रहा हूँ लेकिन काम में तरक्की नहीं हो रही।"

    बाबा: बेटा, तुमने अपनी पत्नी के खाने की कभी तारीफ नहीं की। अपनी पत्नी के खाने की तारीफ करो, तुम्हें अवश्य तरक्की मिलेगी।

    आदमी बाबा को धन्यवाद बोल कर चल दिया।

    घर पहुँच कर उसकी पत्नी ने खाना परोसा, आदमी ने खाना खाया और खाने की जम कर तारीफ की।

    पत्नी एक दम से उठी और रसोई घर से बेलन लेकर आई और आदमी की पिटाई शुरू कर दी।

    आदमी: क्या हुआ? मैं तो तुम्हारे खाने की तारीफ कर रहा हूँ।

    पत्नी: 20 साल हो गए आज तक तो खाने की तारीफ नहीं की और आज जब पड़ोसन खाना दे कर गयी है तो तुम्हें ज़िन्दगी का मज़ा आ गया।
  • मोहब्बत!

    एक लड़की जब रोज़ अपने कॉलेज से वापस आती तो एक लड़के को रोज़ अपने घर के बाहर खडा हुआ देखती।

    ऐसा रोज़ होता था, और एक साल बीत गया, वह लड़का रोज़ उसे अपने घर के सामने खडा नज़र आता।

    वो कुछ नहीं कहता था और बस कभी आगे पीछे और कभी अपने मोबाइल फ़ोन को देखता रहता।

    वक्त के गुजरने की साथ लड़की को विश्वास हो चला था की लड़का उसे चाहता है।

    एक दिन लड़की ने हिम्मत कर के उसके पास जाकर पूछ लिया,"तुम रोज़ मेरे घर के बाहर क्यों खड़े रहते हो?"

    लड़का घबरा कर, "माफ़ करना बहन, वो क्या है की तुम्हारे वाई-फाई (Wi-Fi) पर पासवर्ड नहीं लगा हुआ है, तो मैं तो वो इस्तेमाल करने आता हूँ।"