Hindi Jokes Page 2

New
Hindi Jokes > Hindi Jokes
Page: 2
कुदरत का करिश्मा!

कुदरत ने औरत को हसींन बनाया।

खूबसूरती दी।

चाँद सा चेहरा दिया।

हिरणी सी आँखें दी।

मोरनी जैसी चाल दी।

रेशम से बाल दिए।

कोयल जैसी मीठी आवाज़ दी।

फूल सी मासूमियत दी।

गुलाब से होंठ दिए।

शहद सी मिठास दी।

प्यार भरा दिल दिया।

और फिर....

फिर क्या हुआ जानते हो?

एक ज़ुबान दी।
और सब सत्यानाश हो गया।

हर वक़्त टर्र, टर्र, टर्र।

पुलिस और पत्नी में समानताऐं:

1. ना इनकी दोस्ती अच्छी और ना ही दुश्मनी।

2. इनसे बनाकर रखना मजबूरी है।

3. इनका पता नहीं कब बिगङ जाऐं।

4. अगर ये प्यार से बात करे तो अलर्ट हो जाऐं।

5. दोंनों ही खतरनाक धमकी देते हैं।

6. इनसे बहस में जीतना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है।

7. ये पहला हिसाब याद रखते हैं।

8. अपने राज कभी नहीं खोलते।

9. इनको जबरदस्ती तारीफ चाहिए।

10. इनसे पंगा लेना खतरनाक साबित हो सकता है।

11. विरोध मौका देखकर करते हैं।

12. सुन भले ही लें आपकी लेकिन करेंगे मन की ही।

13. ये दुश्मन से भी ज्यादा खतरनाक साबित हो सकते हैं।

14. प्यार में लेकर भी वार करते हैं।

15. दोंनों ही रौब से काम लेते हैं।

16. अपना राज इन्हें बताना खतरनाक साबित हो सकता है।

17. इनकी नजर जेब पर ही रहती है।

गलतफहमी!

एक औरत हाथ में हथौड़ा लिये अपने बेटे के स्कूल में पहुंची और चपरासी से पूछ्ने लगी, "शुक्ला सर की क्लास कौन सी है?"

"क्यों पूछ रही हैं?" हथौड़े को देखकर चपरासी ने डरते हुए पूछा।

"अरे वो मेरे बेटे के क्लास टीचर है।" हथौड़ा हिलाते हुए वो औरत उतावलेपन से बोली।

चपरासी ने दौड़कर शुक्ला सर को खबर दी, कि एक औरत हाथ में हथौड़ा लिये आपको ढूंढ रही है। शुक्ला सर के छक्के छूट गये। वो दौड़कर प्रिसिंपल की शरण में पहुंचे। प्रिंसिपल तत्काल उस औरत के पास पहुंचा और विनय पूर्वक बोला, "कृपया करके आप शांत हो जाईये।"

"मै शांत ही हूं।" वो औरत बोली।

प्रिंसिपल: आप मुझे बताईये कि बात क्या है?

औरत: बात कुछ भी नही हैं। मैं बस शुक्ला सर की क्लास में जाना चाहती हूं।

प्रिंसिपल: लेकिन क्यों?

औरत: क्यों, क्योंकि मुझे वहाँ उस बेंच की कील ठोकनी है, जिस पर मेरा बेटा बैठता है। क़ल वो स्कूल से तीसरी पेंट फ़ाड़ कर आया है।

पप्पू का प्यार!

दस वर्षीय पप्पू और उसके पड़ोस में रहने वाली नौ-वर्षीय चिंकी को साथ-साथ खेलते हुए यह एहसास हो जाता है कि वे एक-दूसरे से बेहद प्यार करते हैं, और उन्हें शादी कर लेनी चाहिए।

पप्पू चिंकी के पिता के पास पहुंच गया, और हिम्मत जुटाकर बोला, "अंकल, मैं और आपकी बेटी चिंकी एक-दूसरे से प्यार करते हैं, और मैं आपसे शादी के लिए उसका हाथ मांगने आया हूं।"

चिंकी के पिता को नन्हे शरारती पप्पू की हरकत बेहद प्यारी लगी, और वह डांटने के बजाए मुस्कुराते हुए उससे से पूछते हैं, "यार, तुम अभी सिर्फ 10 साल के हो, और तुम्हारे पास घर भी नहीं है... तुम और चिंकी रहोगे कहां?"

पप्पू तपाक से बोला, "चिंकी के कमरे में, क्योंकि वह मेरे कमरे से बड़ा है, और वहां हम दोनों के लिए ज़्यादा जगह है।"

चिंकी के पिता को अब भी पप्पू की इस मासूमियत पर प्यार आता है, और वह फिर पूछते हैं, "ठीक है, लेकिन तुम लोग गुज़ारा कैसे चलाओगे, आखिर इस उम्र में तुम्हें नौकरी तो मिल नहीं सकती?"

पप्पू फिर बहुत शांत स्वर में जवाब देता है, "हमारा जेबखर्च है न उसे 50 रुपये प्रति सप्ताह मिलता है, और मुझे 100 रुपये प्रति सप्ताह, इस हिसाब से हम दोनों के लगभग 600 रुपये हर महीने मिल जाता है, जो हमारी ज़रूरतों के लिए काफी रहेगा।"

चिंकी के पिता इस बात से भौंचक्के रह जाते हैं, कि पप्पू ने इस विषय पर इतनी गंभीरता से, और इतनी आगे तक सोच रखा है सो, वह सोचने लगते हैं कि ऐसा क्या कहें कि पप्पू को जवाब न सूझे, और उसे इस उम्र में चिंकी से शादी न करने के लिए समझाया जा सके कुछ देर बाद वह फिर मुस्कुराते हुए पप्पू से सवाल करते हैं, "यह बहुत अच्छी बात है बेटे कि तुमने इतनी अच्छी तरह सब प्लान किया हुआ है, लेकिन यह बताओ, कि अगर तुम दोनों के बच्चे हो गए, तो क्या यह जेबखर्च कम नहीं पड़ेगा?"

पप्पू ने इस बार भी तपाक से जवाब दिया, "अंकल, हम बेवकूफ नहीं हैं... जब आज तक नहीं होने दिए, तो आगे भी रोक लेंगे।"

चिंकी के पापा आज तक कोमा में हैं और घरवालों को इसकी वजह तक नही पता।

Quotes

बीवियों के बारे में मेरी किस्मत हमेशा ख़राब रही... पहली मुझे छोड़कर चली गई, और दूसरी नहीं गई।

Trivia

Director Subhash Ghai made a cameo appearance in 'Aradhana' (1969), which he anyway does for all his films.

Graffiti

Life not only begins at forty, it begins to show.