Hindi Jokes Page 7

New
Hindi Jokes > Hindi Jokes
Page: 7
गूगल आरती!

ओम जय गूगल हरे !! स्वामी ओम जय गूगल हरे !!
प्रोग्रामर्स के संकट, डेवलपर्स के संकट क्षण में दूर करे !!
ओम जय गूगल हरे !!
जो ध्यावे वो पावे, दुख बिन से मन का,
स्वामी दुख बिन से मन का !!

होमपेज की सम्पति लावे, होमपेज पूर्ण करावे !
कष्ट मिटे वर्क का!
स्वामी ओम जय गूगल हरे !!

तुम पूर्ण सर्च इंजिन तुम इंटरनेट यामी !
स्वामी तुम इंटरनेट यामी !!
पार करो हमारे पगार, पार करो हमारे साक्षात्कार !
तुम दुनिया के स्वामी !!

स्वामी ओम जय गूगल हरे !
तुम जानकारी के सागर,
तुम पालन कर्ता, स्वामी तुम पालन कर्ता!!
मैं मुर्ख खलकामी, मैं सर्चर तुम सर्वर,
स्वामी तुम कर्ता-धर्ता !!

स्वामी ओम जय गूगल हरे !!
दीन बन्धु दुख हर्ता, तुम रक्षक मेरे,
स्वामी तुम ठाकुर मेरे !!
अपनी सर्च दिखाओ, सारे रिसर्च कराओ;
साइट पर खड़ा मैं तेरे !!

स्वामी ओम जय गूगल हरे !!
गूगल देवता की आरती जो कोई प्रोग्रामर गावे,
स्वामी जो कोई भी प्रोग्रामर गावे;
कहत सुन स्वामी, लैरी पेज स्वामी,
मनवांछित फल पावे !!

स्वामी ओम जय गूगल हरे !!
बोलो गूगल देवता की जय !

डॉक्टर की घंटी बज गयी!

एक दरवाजे पर एक घंटी लगी हुई थी, जिस पर लिखा था, 'डॉक्टर के लिए घंटी बजाइए।'

आधी रात को संता शराब में टुन्न उधर से निकला, उसने घंटी देखी, फिर ऊपर लिखी लाइन पढ़ी और फिर घंटी बजाने लगा।

थोड़ी देर बाद दरवाजा खुला और आँखें मलता हुआ एक आदमी बाहर निकला।

संता ने पूछा,"आप डॉक्टर हैं?"

डॉक्टर: हाँ।

संता: यह घंटी आप खुद नहीं बजा सकते?

हमेशा बोलना ज़रूरी नहीं!

कार वाले को ट्रैफिक पुलिस ने रोका और पूछा: क्यों, आपने कार के सामने की बत्तियाँ क्यों नहीं जलाई हैं?

कार वाला: बात यह है कि हवालदार साहब, अभी-अभी गाड़ी एक ट्रक से टकरा गई और दोनों ही बत्तियाँ फूट गई।

ट्रैफिक पुलिस वाले: अच्छा तुम्हारा लाइसेंस कहाँ है?

कार वाला: वह अभी निकालना है।

ट्रैफिक पुलिस: ठीक है, एक साथ दो अपराध करने के कारण मुझे आपको गिरफ्तार करना पड़ेगा।

तभी कार वाले की पत्नी बोली: रुकिए हवालदार साहब। इनकी बातों पर ध्यान मत दीजिए। जब यह अधिक पी लेते हैं तो ऐसी ही बातें करते हैं।

परमात्मा का शुक्र है!

ज़िंदगी में पहली बार तीन मित्र किसी के यहाँ मातम के लिए गए। जब कुछ देर चुप बैठे हो गई तो मरने वाले के बाप से पूछा: आखिर आपके बेटे की मौत हुई कैसे?

जवाब मिला: उससे गलती से बंदूक का घोड़ा दब गया था, गोली लगी और मर गया।

तभी दुसरे ने पूछा: गोली कहाँ लगी थी?

जवाब मिला: आँख के नीचे।

तभी तीसरा मित्र बोला: परमात्मा का शुक्र है, गोली आँख के नीचे ही लगी वरना आँख चली जाती।

Quotes

​संघर्ष और उथल-पुथल के बिना जीवन बिल्कुल नीरस हो जाता है। इसलिए जीवन में आने वाली विषमताओं को सह लेना ही समझदारी है।

Trivia

Ketchup was sold in the 1830s as a medicine.

Graffiti

Work in bakery if you knead dough.