• आरज़ू वस्ल की रखती है परेशाँ क्या क्या;<br/>
क्या बताऊँ कि मेरे दिल में है अरमाँ क्या क्या!
    आरज़ू वस्ल की रखती है परेशाँ क्या क्या;
    क्या बताऊँ कि मेरे दिल में है अरमाँ क्या क्या!
    ~ Akhtar Sheerani
  • इन्हीं ग़म की घटाओं से ख़ुशी का चाँद निकलेगा;<br/>
अँधेरी रात के पर्दे में दिन की रौशनी भी है!
    इन्हीं ग़म की घटाओं से ख़ुशी का चाँद निकलेगा;
    अँधेरी रात के पर्दे में दिन की रौशनी भी है!
    ~ Akhtar Sheerani