• आपकी दया मेरी सामाजिक स्थिति है!
    आपकी दया मेरी सामाजिक स्थिति है!
    ~ Guru Nanak Dev Ji
  • ओछी बुद्धि से, चित्त ओछा हो जाता है, और व्यक्ति मिठाई के साथ मक्खी भी खाता है।
    ओछी बुद्धि से, चित्त ओछा हो जाता है, और व्यक्ति मिठाई के साथ मक्खी भी खाता है।
    ~ Guru Nanak Dev Ji
  • दुनिया में किसी भी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिए. बिना गुरु के कोई भी दुसरे किनारे तक नहीं जा सकता है|
    दुनिया में किसी भी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिए. बिना गुरु के कोई भी दुसरे किनारे तक नहीं जा सकता है|
    ~ Guru Nanak Dev Ji
  • भगवान एक है, लेकिन उसके कई रूप हैं। वो सभी का निर्माणकर्ता है और वो खुद मनुष्य का रूप लेता है।
    भगवान एक है, लेकिन उसके कई रूप हैं। वो सभी का निर्माणकर्ता है और वो खुद मनुष्य का रूप लेता है।
    ~ Guru Nanak Dev Ji
  • दुनिया में किसी भी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिए। बिना गुरु के कोई भी दुसरे किनारे तक नहीं जा सकता है।
    दुनिया में किसी भी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिए। बिना गुरु के कोई भी दुसरे किनारे तक नहीं जा सकता है।
    ~ Guru Nanak Dev Ji
  • नानक, पूरी दुनिया को संकट में है। जो नाम में विश्वास रखता है वह विजयी हो जाता है।
    नानक, पूरी दुनिया को संकट में है। जो नाम में विश्वास रखता है वह विजयी हो जाता है।
    ~ Guru Nanak Dev Ji
  • धन-समृद्धि से युक्त बड़े बड़े राज्यों के राजा-महाराजों की तुलना भी उस चींटी से नहीं की जा सकती है जिसमे में ईश्वर का प्रेम भरा हो।
    धन-समृद्धि से युक्त बड़े बड़े राज्यों के राजा-महाराजों की तुलना भी उस चींटी से नहीं की जा सकती है जिसमे में ईश्वर का प्रेम भरा हो।
    ~ Guru Nanak Dev Ji
  • प्रभु के लिए खुशियों के गीत गाओ, प्रभु के नाम की सेवा करो, और उसके सेवकों के सेवक बन जाओ।
    प्रभु के लिए खुशियों के गीत गाओ, प्रभु के नाम की सेवा करो, और उसके सेवकों के सेवक बन जाओ।
    ~ Guru Nanak Dev Ji
  • भगवान एक है, लेकिन उसके कई रूप हैं। वो सभी का निर्माणकर्ता है और वो खुद मनुष्य का रूप लेता है।
    भगवान एक है, लेकिन उसके कई रूप हैं। वो सभी का निर्माणकर्ता है और वो खुद मनुष्य का रूप लेता है।
    ~ Guru Nanak Dev Ji
  • दुनिया में किसी भी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिए। बिना गुरु के कोई भी दूसरे किनारे तक नहीं जा सकता है।
    दुनिया में किसी भी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिए। बिना गुरु के कोई भी दूसरे किनारे तक नहीं जा सकता है।
    ~ Guru Nanak Dev Ji