• आपकी आत्मा से परे कोई भी शत्रु नहीं है| असली शत्रु आपके भीतर रहते हैं, वो शत्रु हैं क्रोध, घमंड, लालच,आसक्ति और नफरत|Upload to Facebook
    आपकी आत्मा से परे कोई भी शत्रु नहीं है| असली शत्रु आपके भीतर रहते हैं, वो शत्रु हैं क्रोध, घमंड, लालच,आसक्ति और नफरत|
    ~ Lord Mahavira
  • योग वह प्रकश है जो एक बार जला दिया जाए तो कभी कम नहीं होता। जितना अच्छा आप अभ्यास करेंगे, लौ उतनी ही उज्जवल होगी।Upload to Facebook
    योग वह प्रकश है जो एक बार जला दिया जाए तो कभी कम नहीं होता। जितना अच्छा आप अभ्यास करेंगे, लौ उतनी ही उज्जवल होगी।
    ~ B.K.S. Iyengar
  • डिक्शनरी एक मात्र जगह है जहाँ वर्क से पहले सक्सेस आती है।Upload to Facebook
    डिक्शनरी एक मात्र जगह है जहाँ वर्क से पहले सक्सेस आती है।
    ~ Vidal Sassoon
  • मैं जातिवाद से घृणा करता हूँ, मुझे यह बर्बरता लगती है, फिर चाहे वह अश्वेत व्यक्ति से आ रही हो या श्वेत व्यक्ति से|
Upload to Facebook
    मैं जातिवाद से घृणा करता हूँ, मुझे यह बर्बरता लगती है, फिर चाहे वह अश्वेत व्यक्ति से आ रही हो या श्वेत व्यक्ति से|
    ~ Nelson Mandela
  • बुराई को देखना और सुनना ही बुराई की शुरुआत है|Upload to Facebook
    बुराई को देखना और सुनना ही बुराई की शुरुआत है|
    ~ Confucius
  • जैसा कि बिल्डर कहते हैं; बड़े पत्थर बिना छोटे पत्थरों के सही से नहीं लग सकते हैं|Upload to Facebook
    जैसा कि बिल्डर कहते हैं; बड़े पत्थर बिना छोटे पत्थरों के सही से नहीं लग सकते हैं|
    ~ Plato
  • अज्ञानी होना उतनी शर्म की बात नहीं है जितना कि सीखने की इच्छा ना रखना|Upload to Facebook
    अज्ञानी होना उतनी शर्म की बात नहीं है जितना कि सीखने की इच्छा ना रखना|
    ~ Benjamin Franklin
  • अगर किसी देश को भ्रष्टाचार - मुक्त और सुन्दर-मन वाले लोगों का देश बनाना है तो, मेरा दृढ़तापूर्वक मानना है कि समाज के तीन प्रमुख सदस्य ये कर सकते हैं। पिता, माता और गुरु। 
Upload to Facebook
    अगर किसी देश को भ्रष्टाचार - मुक्त और सुन्दर-मन वाले लोगों का देश बनाना है तो, मेरा दृढ़तापूर्वक मानना है कि समाज के तीन प्रमुख सदस्य ये कर सकते हैं। पिता, माता और गुरु।
    ~ Dr. APJ Abdul Kalam
  • अपनी क्षमताओं को जान कर और उनमे यकीन करके ही हम एक बेहतर विश्व का नित्मान कर सकते हैं|Upload to Facebook
    अपनी क्षमताओं को जान कर और उनमे यकीन करके ही हम एक बेहतर विश्व का नित्मान कर सकते हैं|
    ~ Dalai Lama
  • मौन सबसे सशक्त भाषण है। धीरे-धीरे दुनिया आपको सुनेगी।Upload to Facebook
    मौन सबसे सशक्त भाषण है। धीरे-धीरे दुनिया आपको सुनेगी।
    ~ Mahatma Gandhi
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT