• दुनिया बहुत मतलबी है, साथ कोई क्यों देगा, <br/>
मुफ़्त का यहाँ कफन नही मिलता, तो बिना गम के प्यार कौन देगा।
    दुनिया बहुत मतलबी है, साथ कोई क्यों देगा,
    मुफ़्त का यहाँ कफन नही मिलता, तो बिना गम के प्यार कौन देगा।
  • तेरे प्यार का सिला हर हाल में देंगे,<br/>
खुदा भी मांगे ये दिल तो टाल देंगे,<br/>
अगर दिल ने कहा तुम बेवफ़ा हो,<br/>
तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे।
    तेरे प्यार का सिला हर हाल में देंगे,
    खुदा भी मांगे ये दिल तो टाल देंगे,
    अगर दिल ने कहा तुम बेवफ़ा हो,
    तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे।
  • कल रात को खोल कर देखी यादों की किताब;<br/>
रो पड़े कि क्या क्या खोया है हमने ऐ ज़िंदगी!
    कल रात को खोल कर देखी यादों की किताब;
    रो पड़े कि क्या क्या खोया है हमने ऐ ज़िंदगी!
  • दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,<br/>
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता;<br/>
बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,<br/>
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता!
    दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
    रोता है दिल जब वो पास नहीं होता;
    बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,
    और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता!
  • यूँ ना कहो कि ये किस्मत की बात है;<br/>
मुझे बर्बाद करने में तुम्हारा भी हाथ है।
    यूँ ना कहो कि ये किस्मत की बात है;
    मुझे बर्बाद करने में तुम्हारा भी हाथ है।
  • इश्क हमें जीना सिखा देता है,<br/>
वफा के नाम पर मरना सिखा देता है;<br/>
इश्क नहीं किया तो करके देखो जालिम,<br/>
हर दर्द सहना सिखा देता है।
    इश्क हमें जीना सिखा देता है,
    वफा के नाम पर मरना सिखा देता है;
    इश्क नहीं किया तो करके देखो जालिम,
    हर दर्द सहना सिखा देता है।
  • हमने मोहब्बत के नशे में आकर उसे खुदा बना डाला;<br/>
होश तब आया जब उसने कहा खुदा किसी एक का नहीं होता।
    हमने मोहब्बत के नशे में आकर उसे खुदा बना डाला;
    होश तब आया जब उसने कहा खुदा किसी एक का नहीं होता।
  • बेवफाई उसकी दिल से मिटा के आया हूँ,<br/>
ख़त भी उसके पानी में बहा के आया हूँ,<br/>
कोई पढ़ न ले उस बेवफा की यादों को,<br/>
इसलिए पानी में भी आग लगा कर आया हूँ।
    बेवफाई उसकी दिल से मिटा के आया हूँ,
    ख़त भी उसके पानी में बहा के आया हूँ,
    कोई पढ़ न ले उस बेवफा की यादों को,
    इसलिए पानी में भी आग लगा कर आया हूँ।
  • कैसे मिलेंगे हमें चाहने वाले बताइये,<br/>
दुनिया खड़ी है राह में दीवार की तरह;<br/>
वो बेवफ़ाई करके भी शर्मिंदा ना हुए,<br/>
सजाएं मिली हमें गुनहगार की तरह।
    कैसे मिलेंगे हमें चाहने वाले बताइये,
    दुनिया खड़ी है राह में दीवार की तरह;
    वो बेवफ़ाई करके भी शर्मिंदा ना हुए,
    सजाएं मिली हमें गुनहगार की तरह।
  • भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत, <br/>
तो भूलके तुमको संभलना हमें भी आता है;<br/>
मेरी फ़ितरत में ये आदत नहीं है वरना, <br/>
तेरी तरह बदल जाना मुझे भी आता है।
    भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत,
    तो भूलके तुमको संभलना हमें भी आता है;
    मेरी फ़ितरत में ये आदत नहीं है वरना,
    तेरी तरह बदल जाना मुझे भी आता है।