• कुछ उलझनों के हल वक़्त पे छोड़ देने चाहिए;<br/>
बेशक जवाब देर से मिलेंगे लेकिन बेहतरीन होंगे!
    कुछ उलझनों के हल वक़्त पे छोड़ देने चाहिए;
    बेशक जवाब देर से मिलेंगे लेकिन बेहतरीन होंगे!
  • इंसान की अकड़ वाजिब है जनाब,<br/>
पैसा आने पर तो बटुआ भी फूल जाता है!
    इंसान की अकड़ वाजिब है जनाब,
    पैसा आने पर तो बटुआ भी फूल जाता है!
  • ज़िन्दगी सब्र के अलावा कुछ भी नहीं,<br/>
मैंने हर शख्स को यहाँ खुशियों का इंतज़ार करते देखा है!
    ज़िन्दगी सब्र के अलावा कुछ भी नहीं,
    मैंने हर शख्स को यहाँ खुशियों का इंतज़ार करते देखा है!
  • काश एक ख्वाहिश हो पूरी इबादत के बगैर;<br/>
वो आकर गले लगा ले मेरी इज़ाज़त के बगैर!
    काश एक ख्वाहिश हो पूरी इबादत के बगैर;
    वो आकर गले लगा ले मेरी इज़ाज़त के बगैर!
  • कुछ देर की खामोशी है, फिर शोर आयेगा;<br/>
तुम्हारा सिर्फ़ वक्त आया है, हमारा दौर आयेगा!
    कुछ देर की खामोशी है, फिर शोर आयेगा;
    तुम्हारा सिर्फ़ वक्त आया है, हमारा दौर आयेगा!
  • दर्द तो वही देते हैं, जिन्हें आप अपना होने का हक़ देते हैं;<br/>
वरना गैर तो हल्का सा धक्का लगने पर भी माफ़ी माँग लेते हैं!
    दर्द तो वही देते हैं, जिन्हें आप अपना होने का हक़ देते हैं;
    वरना गैर तो हल्का सा धक्का लगने पर भी माफ़ी माँग लेते हैं!
  • हमें मनाने का गज़ब तरीका है उनके पास;<br/>
वो प्यार से एक नज़र देखते हैं और हम दिल हार जाते हैं!
    हमें मनाने का गज़ब तरीका है उनके पास;
    वो प्यार से एक नज़र देखते हैं और हम दिल हार जाते हैं!
  • कुछ अपनों की वजह से,<br/>
कल अपनों के बीच नहीं रहेंगे हम!
    कुछ अपनों की वजह से,
    कल अपनों के बीच नहीं रहेंगे हम!
  • तस्वीर खिंचवाने के रिवाज़ ने कितना मजबूर कर दिया,<br/>
ग़म कितना भी हो दिल में मुस्कुराना पड़ता है!
    तस्वीर खिंचवाने के रिवाज़ ने कितना मजबूर कर दिया,
    ग़म कितना भी हो दिल में मुस्कुराना पड़ता है!
  • हवा को गुमान था अपने आज़ाद होने का;<br/>
किसी ने उसे भी गुबारे में कैद कर बेच दिया।
    हवा को गुमान था अपने आज़ाद होने का;
    किसी ने उसे भी गुबारे में कैद कर बेच दिया।