• मुहब्बत के लिए इक ज़िंदगी कम पड़ गयी होगी;<br/> 
तभी तो सात जन्मों का खुदा ने कर दिया बंधन।Upload to Facebook
    मुहब्बत के लिए इक ज़िंदगी कम पड़ गयी होगी;
    तभी तो सात जन्मों का खुदा ने कर दिया बंधन।
  • जख्म बन जाने की आदत है उन्हें;<br/>
रुला कर मुस्कुराने की आदत है उन्हें;<br/>
मिलेंगे कभी तो खूब रुलाएंगे;<br/>
सुना हैं रोते हुए लिपट जाने की आदत है उन्हें।Upload to Facebook
    जख्म बन जाने की आदत है उन्हें;
    रुला कर मुस्कुराने की आदत है उन्हें;
    मिलेंगे कभी तो खूब रुलाएंगे;
    सुना हैं रोते हुए लिपट जाने की आदत है उन्हें।
  • जनाजा रोक कर वो मेरा कुछ इस अन्दाज़ मे बोले;<br/>
गली छोड्ने को कहा था, तुमने तो दुनियां ही छोड दी।Upload to Facebook
    जनाजा रोक कर वो मेरा कुछ इस अन्दाज़ मे बोले;
    गली छोड्ने को कहा था, तुमने तो दुनियां ही छोड दी।
  • तुम रख ना सकोगे मेरा तौफ़ा संभालकर;<br/>
वरना मैं अभी दे दूं जिस्म से रूह निकाल कर।   Upload to Facebook
    तुम रख ना सकोगे मेरा तौफ़ा संभालकर;
    वरना मैं अभी दे दूं जिस्म से रूह निकाल कर।
  • किसी की क्या मजाल थी;<br/>
जो हमें खरीद सकता;<br/>
हम तो खुद ही बिक गये;<br/>
खरीददार देख के।Upload to Facebook
    किसी की क्या मजाल थी;
    जो हमें खरीद सकता;
    हम तो खुद ही बिक गये;
    खरीददार देख के।
    ~ Mirza Ghalib
  • अपनी तो यारो बस इतनी सी कहानी है;<br/>
कुछ तो खुद से ही बर्बाद थे;<br/>
कुछ इश्क की मेहरबानी है।Upload to Facebook
    अपनी तो यारो बस इतनी सी कहानी है;
    कुछ तो खुद से ही बर्बाद थे;
    कुछ इश्क की मेहरबानी है।
  • अक्ल कहती है, ना जा कूचा-ए-क़ातिल की तरफ;<br/>
सरफ़रोशी  की  हवस  कहती है चल क्या  होगा।Upload to Facebook
    अक्ल कहती है, ना जा कूचा-ए-क़ातिल की तरफ;
    सरफ़रोशी की हवस कहती है चल क्या होगा।
    ~ Bedil Ajhimabadi
  • इश्क की चोट का कुछ दिल पे असर हो तो सही;<br/>
दर्द कम हो कि ज्यादा हो, मगर हो तो सही।Upload to Facebook
    इश्क की चोट का कुछ दिल पे असर हो तो सही;
    दर्द कम हो कि ज्यादा हो, मगर हो तो सही।
    ~ Jhlal
  • जिस दिल में बसा था प्यार तेरा;<br/>
वो दिल तो कभी का तोड़ दिया;<br/>
बदनाम ना होने देंगे तुझे इसलिए;<br/>
तेरा नाम भी लेना छोड़ा दिया।Upload to Facebook
    जिस दिल में बसा था प्यार तेरा;
    वो दिल तो कभी का तोड़ दिया;
    बदनाम ना होने देंगे तुझे इसलिए;
    तेरा नाम भी लेना छोड़ा दिया।
  • गहराई प्यार में हो तो बेवफाई नहीं होती;<br/>
सच्चे प्यार में कहीं तन्हाई नहीं होती;<br/>
मगर प्यार ज़रा संभल कर करना मेरे दोस्त;<br/>
प्यार के ज़ख्म की कोई दवा नहीं होती।Upload to Facebook
    गहराई प्यार में हो तो बेवफाई नहीं होती;
    सच्चे प्यार में कहीं तन्हाई नहीं होती;
    मगर प्यार ज़रा संभल कर करना मेरे दोस्त;
    प्यार के ज़ख्म की कोई दवा नहीं होती।