• हम भी जान-ए-मन तेरे लिए ताजमहल बनायेंगे;<br/>
अर्ज़ किया है;<br/>
हम भी जान-ए-मन तेरे लिए ताजमहल बनायेंगे;<br/>
एक कप सुबह पिलायेंगे और एक कप शाम को पिलायेंगे!
    हम भी जान-ए-मन तेरे लिए ताजमहल बनायेंगे;
    अर्ज़ किया है;
    हम भी जान-ए-मन तेरे लिए ताजमहल बनायेंगे;
    एक कप सुबह पिलायेंगे और एक कप शाम को पिलायेंगे!
  • ना जाने कब कोई अपना रूठ जाए;<br/>
ना जाने कब कोई अश्क आँखों से छूट जाए;<br/>
कुछ पल हमारे साथ भी मुस्कुरा लिया करो ए दोस्त;<br/>
न जाने कब तुम्हारे दांत टूट जाएँ!
    ना जाने कब कोई अपना रूठ जाए;
    ना जाने कब कोई अश्क आँखों से छूट जाए;
    कुछ पल हमारे साथ भी मुस्कुरा लिया करो ए दोस्त;
    न जाने कब तुम्हारे दांत टूट जाएँ!
  • आरजू में तेरी  दीवाने हो गए;<br/>
तुझ से दोस्ती करते करते औरों से बेगाने हो गए;<br/>
कर दे कोई तो SMS इस नाचीज़ को;<br/>
तेरे भी बकवास SMS पढ़े ज़माने हो गए!
    आरजू में तेरी दीवाने हो गए;
    तुझ से दोस्ती करते करते औरों से बेगाने हो गए;
    कर दे कोई तो SMS इस नाचीज़ को;
    तेरे भी बकवास SMS पढ़े ज़माने हो गए!
  • आशिक पागल हो जाते हैं प्यार में;<br/ >
बाकी कसर पूरी हो जाती है इंतज़ार में;<br/ >
मगर ये दिलरुबा नहीं समझती;<br/ >
वो तो पानी-पूरी खाती फिरती है बाजार में!
    आशिक पागल हो जाते हैं प्यार में;
    बाकी कसर पूरी हो जाती है इंतज़ार में;
    मगर ये दिलरुबा नहीं समझती;
    वो तो पानी-पूरी खाती फिरती है बाजार में!
  • हसीनों के  चेहरे पर हर लम्हा हर वक्त हंसी होती है;<br/ >
हसीनों के  चेहरे पर हर लम्हा हर वक्त हंसी होती है;<br/ >
कमबख्त हमारा दिल भी ऐसी ही हसीना पर आता है;<br/ >
जो पहले ही किसी कमबख्त से फंसी होती है!
    हसीनों के चेहरे पर हर लम्हा हर वक्त हंसी होती है;
    हसीनों के चेहरे पर हर लम्हा हर वक्त हंसी होती है;
    कमबख्त हमारा दिल भी ऐसी ही हसीना पर आता है;
    जो पहले ही किसी कमबख्त से फंसी होती है!
  • खुशबु ने फूल को ख़ास बनाया;<br/>
फूल ने माली को ख़ास बनाया;<br/>
चाहत ने मोहब्बत को ख़ास बनाया;<br/>
और कमबख्त मोहब्बत ने कितनो को देवदास बनाया!
    खुशबु ने फूल को ख़ास बनाया;
    फूल ने माली को ख़ास बनाया;
    चाहत ने मोहब्बत को ख़ास बनाया;
    और कमबख्त मोहब्बत ने कितनो को देवदास बनाया!
  • इश्क को दर्द-ए-सर कहने वाले सुन;<br/>
हमने भी ये दर्द अपने सर ले लिया;<br/>
हमारी निगाहों से बचकर वो कहा जायेंगे;<br/>
क्योंकि अब हमने उनके मोहल्ले में ही घर ले लिया!
    इश्क को दर्द-ए-सर कहने वाले सुन;
    हमने भी ये दर्द अपने सर ले लिया;
    हमारी निगाहों से बचकर वो कहा जायेंगे;
    क्योंकि अब हमने उनके मोहल्ले में ही घर ले लिया!
  • खुदा करे कि तुझे खुशियों का संसार मिले;<br/>
हर पल तुझे खुशियाँ हज़ार मिलें;<br/>
रब्ब करे तेरी गर्लफ्रेंड तुझे राखी बांध  जाए;<br/>  
और तुझे एक और बहन का प्यार मिले!
    खुदा करे कि तुझे खुशियों का संसार मिले;
    हर पल तुझे खुशियाँ हज़ार मिलें;
    रब्ब करे तेरी गर्लफ्रेंड तुझे राखी बांध जाए;
    और तुझे एक और बहन का प्यार मिले!
  • निगाहें आज भी उस शख्स को शिद्दत से तलाश करती हैं;<br/>
जिसने कहा था, `बस दसवी कर लो, आगे पढ़ाई आसान है`!
    निगाहें आज भी उस शख्स को शिद्दत से तलाश करती हैं;
    जिसने कहा था, "बस दसवी कर लो, आगे पढ़ाई आसान है"!
  • ज़िन्दगी लम्बी है दोस्त बनाते रहो;<br/>
दिल मिले नी मिले हाथ मिलाते रहो;<br/>
ताज महल बनाना तो बहुत महंगा पडेगा; <br/>
इसीलिए हर गली में मुमताज़ बनाते रहो!
    ज़िन्दगी लम्बी है दोस्त बनाते रहो;
    दिल मिले नी मिले हाथ मिलाते रहो;
    ताज महल बनाना तो बहुत महंगा पडेगा;
    इसीलिए हर गली में मुमताज़ बनाते रहो!