• वो क़त्ल कर के भी मुंसिफों में शामिल है,<br/>
हम जान देकर भी जमाने में ख़तावार हुए!
    वो क़त्ल कर के भी मुंसिफों में शामिल है,
    हम जान देकर भी जमाने में ख़तावार हुए!
  • एक तेरी ज़िद्द ने हमें किस हाल में ला दिया,<br/>
जो जज़्बात सिर्फ़ तेरे लिए थे, उन्हें ज़माना पढ़ रहा है!
    एक तेरी ज़िद्द ने हमें किस हाल में ला दिया,
    जो जज़्बात सिर्फ़ तेरे लिए थे, उन्हें ज़माना पढ़ रहा है!
  • हुस्न के कसीदे तो घडती रहेंगी महफिलें;<br/>
झुर्रियां भी प्यारी लगे तो, मान लेना इश्क है!
    हुस्न के कसीदे तो घडती रहेंगी महफिलें;
    झुर्रियां भी प्यारी लगे तो, मान लेना इश्क है!
  • खोटे सिक्के जो खुद कभी चले नहीं बाजार में,<br/>
वो भी कमियाँ खोज रहे हैं आज मेरे किरदार में;<br/>
पारस हो गए हैं हम यूँ छू करके तुम्हें,<br/>
ना उम्र बढती है, ना इश्क घटता है!
    खोटे सिक्के जो खुद कभी चले नहीं बाजार में,
    वो भी कमियाँ खोज रहे हैं आज मेरे किरदार में;
    पारस हो गए हैं हम यूँ छू करके तुम्हें,
    ना उम्र बढती है, ना इश्क घटता है!
  • ज़ाया ना करो अपने अल्फाज़ हर किसी के लिए,<br/>
थोड़ा ख़ामोश रह कर भी देखो कि तुम्हें समझता कौन है!
    ज़ाया ना करो अपने अल्फाज़ हर किसी के लिए,
    थोड़ा ख़ामोश रह कर भी देखो कि तुम्हें समझता कौन है!
  • मैं एक संजीदा साहिल हूँ, मुझे मौजों से क्या मतलब,<br/>
कई तूफ़ान आये पर, मेरी फितरत नहीं बदली!
    मैं एक संजीदा साहिल हूँ, मुझे मौजों से क्या मतलब,
    कई तूफ़ान आये पर, मेरी फितरत नहीं बदली!
  • मेरे पलकों मे भरे आँसू उन्हें पानी सा लगता है;<br/>
हमारा टूट कर चाहना उन्हे नादानी सा लगता है!
    मेरे पलकों मे भरे आँसू उन्हें पानी सा लगता है;
    हमारा टूट कर चाहना उन्हे नादानी सा लगता है!
  • दर्द ही सही मेरे इश्क़ का इनाम तो आया,<br/>
खाली ही सही होठों तक जाम तो आया;<br/>
मैं हूँ बेवफा सबको बताया उसने,<br/>
यूँ ही सही चलो उसके लबों पर मेरा नाम तो आया!
    दर्द ही सही मेरे इश्क़ का इनाम तो आया,
    खाली ही सही होठों तक जाम तो आया;
    मैं हूँ बेवफा सबको बताया उसने,
    यूँ ही सही चलो उसके लबों पर मेरा नाम तो आया!
  • हर किसी के नसीब में कहाँ लिखी होती हैं चाहतें, <br/>
कुछ लोग दुनिया में आते हैं सिर्फ तन्हाइयों के लिए!
    हर किसी के नसीब में कहाँ लिखी होती हैं चाहतें,
    कुछ लोग दुनिया में आते हैं सिर्फ तन्हाइयों के लिए!
  • दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बैठे,<br/>
यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बैठे;<br/>
वो हमें एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का,<br/>
और हम उनके लिये ज़िन्दगी लुटा बैठे!
    दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बैठे,
    यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बैठे;
    वो हमें एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का,
    और हम उनके लिये ज़िन्दगी लुटा बैठे!