• बुरे वक्त में भी एक अच्छाई होती है;<br/>
जैसे ही ये आता है फालतू के दोस्त विदा हो जाते हैं!
    बुरे वक्त में भी एक अच्छाई होती है;
    जैसे ही ये आता है फालतू के दोस्त विदा हो जाते हैं!
  • आ देख मेरी आँखों के ये भीगे हुए मौसम;<br/>
ये किसने कह दिया कि तुम्हें भूल गए हम!
    आ देख मेरी आँखों के ये भीगे हुए मौसम;
    ये किसने कह दिया कि तुम्हें भूल गए हम!
  • कुछ अपना अंदाज हैं कुछ मौसम रंगीन हैं,<br/>
तारीफ करूँ या चुप रहूँ, जुर्म दोनो ही संगीन हैं!
    कुछ अपना अंदाज हैं कुछ मौसम रंगीन हैं,
    तारीफ करूँ या चुप रहूँ, जुर्म दोनो ही संगीन हैं!
  • बहुत मुश्किल से करता हूँ तेरी यादों का कारोबार;<br/>
मुनाफा कम है, पर गुज़ारा हो ही जाता है!
    बहुत मुश्किल से करता हूँ तेरी यादों का कारोबार;
    मुनाफा कम है, पर गुज़ारा हो ही जाता है!
  • लोग अकसर अपनी खूबियों का दिखावा करते हैं;<br/>
मैं ख़ुद की कमियों से मशहूर होना पसंद करता हूँ!
    लोग अकसर अपनी खूबियों का दिखावा करते हैं;
    मैं ख़ुद की कमियों से मशहूर होना पसंद करता हूँ!
  • उसने कहा तुम्हें कौन सा तोहफा दूँ;<br/>
मैंने कहा वो शाम जो अभी तक उधार है!
    उसने कहा तुम्हें कौन सा तोहफा दूँ;
    मैंने कहा वो शाम जो अभी तक उधार है!
  • झुकी झुकी नजर तेरी कमाल कर जाती है;<br/>
उठती है एक बार तो सवाल कर जाती है!
    झुकी झुकी नजर तेरी कमाल कर जाती है;
    उठती है एक बार तो सवाल कर जाती है!
  • राह-ए-ज़िन्दगी में यह कहानी सभी की है;<br/>
हमराज़ कोई और है, हमसफ़र कोई और है!
    राह-ए-ज़िन्दगी में यह कहानी सभी की है;
    हमराज़ कोई और है, हमसफ़र कोई और है!
  • कुछ तो चाहत होगी इन बारिश की बूंदों की;<br/>
वरना कौन गिरता है इस ज़मीन पे आसमान तक पहुँचने के बाद!
    कुछ तो चाहत होगी इन बारिश की बूंदों की;
    वरना कौन गिरता है इस ज़मीन पे आसमान तक पहुँचने के बाद!
  • मिजाज़ ए इश्क़ होम्योपैथिक है उनका,<br/>
ना सुइयाँ, ना बोतल, ना एक्सरे, ना दाखिला;<br/>
हम दर्द बयाँ करते रहे और वो मीठी गोलियाँ देते रहे!
    मिजाज़ ए इश्क़ होम्योपैथिक है उनका,
    ना सुइयाँ, ना बोतल, ना एक्सरे, ना दाखिला;
    हम दर्द बयाँ करते रहे और वो मीठी गोलियाँ देते रहे!