• शौक-ए-आज़माइश भी एक रोग है;<br/>
लग जाए तो रिश्तों को किश्तों से गुजरना पड़ता है!
    शौक-ए-आज़माइश भी एक रोग है;
    लग जाए तो रिश्तों को किश्तों से गुजरना पड़ता है!
  • शिकवे आँखों से गिर पड़े वरना;<br/>
होठों से शिकायत कब की हमने!
    शिकवे आँखों से गिर पड़े वरना;
    होठों से शिकायत कब की हमने!
  • मैं तो इस वास्ते चुप हूँ की तमाशा ना बने,<br/>
और तू समझता है मुझे तुझसे कोई गिला नहीं!
    मैं तो इस वास्ते चुप हूँ की तमाशा ना बने,
    और तू समझता है मुझे तुझसे कोई गिला नहीं!
  • तेरे हुस्न की तपिश, कहीं जला ना दे मुझे;<br/>
तू कर मोहब्बत मुझसे, ज़रा आहिस्ता आहिस्ता!
    तेरे हुस्न की तपिश, कहीं जला ना दे मुझे;
    तू कर मोहब्बत मुझसे, ज़रा आहिस्ता आहिस्ता!
  • मैं एक शब्द हूँ कागज़ पर बिखरा हुआ;<br/>
तुम विरह की एक अंतहीन कविता हो!
    मैं एक शब्द हूँ कागज़ पर बिखरा हुआ;
    तुम विरह की एक अंतहीन कविता हो!
  • छुपकर मेरी नज़र से गुज़र जाईये मगर;<br/>
बचकर मेरे ख्याल से किधर जाईयेगा!
    छुपकर मेरी नज़र से गुज़र जाईये मगर;
    बचकर मेरे ख्याल से किधर जाईयेगा!
  • अगर हो वक़्त तो मुलाकात कीजिये,<br/> 
दिल कुछ कहना चाहे कुछ बात कीजिये,<br/>  
यूँ तो मुश्किल है हमसे दूर रहना,<br/>  
पर एक लम्हा मिले तो हमें याद कीजिये।
    अगर हो वक़्त तो मुलाकात कीजिये,
    दिल कुछ कहना चाहे कुछ बात कीजिये,
    यूँ तो मुश्किल है हमसे दूर रहना,
    पर एक लम्हा मिले तो हमें याद कीजिये।
  • प्यार से कहो तो आसमान मांग लो,<br/>
रूठ कर कहो तो मुस्कान मांग लो,<br/> 
तमन्ना यही है कि दोस्ती मत तोड़ना,<br/> 
फिर चाहें हँसकर हमारी जान मांग लो।
    प्यार से कहो तो आसमान मांग लो,
    रूठ कर कहो तो मुस्कान मांग लो,
    तमन्ना यही है कि दोस्ती मत तोड़ना,
    फिर चाहें हँसकर हमारी जान मांग लो।
  • जख्म नया क्या दोगे;<br/>
पुराना ही खुरच दो न!
    जख्म नया क्या दोगे;
    पुराना ही खुरच दो न!
  • शिकवे आँखों से गिर पड़े वरना;<br/>
होठों से शिकायत कब की हमने !
    शिकवे आँखों से गिर पड़े वरना;
    होठों से शिकायत कब की हमने !