• वो शायद मतलब से मिलते हैं;<br/>
मुझे तो मिलने से मतलब है!
    वो शायद मतलब से मिलते हैं;
    मुझे तो मिलने से मतलब है!
  • कुछ तबियत ही मिली थी ऐसी, चैन से जीने की सूरत न हुयी;<br/>
जिसको चाहा उसको अपना न सके, जो मिला उस से मोहब्बत न हुयी!
    कुछ तबियत ही मिली थी ऐसी, चैन से जीने की सूरत न हुयी;
    जिसको चाहा उसको अपना न सके, जो मिला उस से मोहब्बत न हुयी!
  • होते ही शाम मैं किधर जाता हूँ;<br/>
जुदा ख्यालों से मैं बिखर जाता हूँ;<br/>
खौफ इस कदर होता है यादों का;<br/>
जाम की महफिल में नजर आता हूँ!
    होते ही शाम मैं किधर जाता हूँ;
    जुदा ख्यालों से मैं बिखर जाता हूँ;
    खौफ इस कदर होता है यादों का;
    जाम की महफिल में नजर आता हूँ!
  • ना हथियार से मिलते हैं ना अधिकार से मिलते हैं;<br/>
दिलों पर कब्जे तो बस प्यार और प्यार से मिलते हैं!
    ना हथियार से मिलते हैं ना अधिकार से मिलते हैं;
    दिलों पर कब्जे तो बस प्यार और प्यार से मिलते हैं!
  • मिज़ाज को तल्ख़ियाँ ही रास आईं;<br/>
हम ने कई बार मुस्कुरा कर देख लिया!
    मिज़ाज को तल्ख़ियाँ ही रास आईं;
    हम ने कई बार मुस्कुरा कर देख लिया!
  • चलो मैं भी दौड़ता हूँ इस होड़ की दौड़ में;<br/>
तुम सिर्फ ये बता दो इसकी मंज़िल कहाँ है!
    चलो मैं भी दौड़ता हूँ इस होड़ की दौड़ में;
    तुम सिर्फ ये बता दो इसकी मंज़िल कहाँ है!
  • यादों से ज़िन्दगी खूबसूरत रहेगी;<br/>
निगाहों में हर पल ये सूरत रहेगी;<br/>
कोई ना ले सकेगा कभी आपकी जगह;<br/>
इस दोस्त को हमेशा आपकी ज़रुरत रहेगी!
    यादों से ज़िन्दगी खूबसूरत रहेगी;
    निगाहों में हर पल ये सूरत रहेगी;
    कोई ना ले सकेगा कभी आपकी जगह;
    इस दोस्त को हमेशा आपकी ज़रुरत रहेगी!
  • हक़ीक़त हो तुम कैसे तुझे सपना कहूँ;<br/>
तेरे हर दर्द को में अपना कहूँ;<br/>
सब कुछ क़ुर्बान है मेरे प्यार पर;<br/>
कौन है तेरे सिवा जिसे में अपना कहूँ!
    हक़ीक़त हो तुम कैसे तुझे सपना कहूँ;
    तेरे हर दर्द को में अपना कहूँ;
    सब कुछ क़ुर्बान है मेरे प्यार पर;
    कौन है तेरे सिवा जिसे में अपना कहूँ!
  • वक्त की यारी तो हर कोई करता है मेरे दोस्त;<br/>
मजा तो तब है जब वक्त बदल जाये पर यार ना बदले!
    वक्त की यारी तो हर कोई करता है मेरे दोस्त;
    मजा तो तब है जब वक्त बदल जाये पर यार ना बदले!
  • वो खेलती है मुझसे मुझे भी ये पता है;<br/>
पर उसके हाथ का खिलौना होने में भी एक मज़ा है!
    वो खेलती है मुझसे मुझे भी ये पता है;
    पर उसके हाथ का खिलौना होने में भी एक मज़ा है!