• अपनी आलोचना को धैर्य से सुनें, यह हमारी ज़िन्दगी का मैल हटाने में, साबुन का काम करती है !
    अपनी आलोचना को धैर्य से सुनें, यह हमारी ज़िन्दगी का मैल हटाने में, साबुन का काम करती है !
  • अपने अहम् को थोड़ा-सा झुका के चलिये;<br/>
सब अपने लगेंगे ज़रा-सा मुस्कुरा के चलिये।
    अपने अहम् को थोड़ा-सा झुका के चलिये;
    सब अपने लगेंगे ज़रा-सा मुस्कुरा के चलिये।
  • गलत हो कर खुद को सही साबित करना उतना मुश्किल नहीं, <br/>
जितना सही हो कर खुद को सही साबित करना!
    गलत हो कर खुद को सही साबित करना उतना मुश्किल नहीं,
    जितना सही हो कर खुद को सही साबित करना!
  • सुन लेने से कितने सारे सवाल सुलझ जाते हैं,<br/>
सुना देने से हम फिर से वहीं उलझ जाते हैं!
    सुन लेने से कितने सारे सवाल सुलझ जाते हैं,
    सुना देने से हम फिर से वहीं उलझ जाते हैं!
  • जिस दिन आप अपनी हँसी के मालिक ख़ुद बन जाओगे!<br/>
तब आपको कोई भी नहीं रुला सकता!
    जिस दिन आप अपनी हँसी के मालिक ख़ुद बन जाओगे!
    तब आपको कोई भी नहीं रुला सकता!
  • बड़ा होने के लिए हमेशा मर्यादा में  रहना पड़ता है!<br/>
क्योंकि हर बड़ी कंपनी के नाम में भी आखिरी में 'लिमिटेड' लिखा होता है!
    बड़ा होने के लिए हमेशा मर्यादा में रहना पड़ता है!
    क्योंकि हर बड़ी कंपनी के नाम में भी आखिरी में 'लिमिटेड' लिखा होता है!
  • समझ से ज्ञान से ज़्यादा गहरी होती है!<br/>
बहुत से लोग आपको जानते हैं लेकिन कुछ ही आपको समझते हैं!
    समझ से ज्ञान से ज़्यादा गहरी होती है!
    बहुत से लोग आपको जानते हैं लेकिन कुछ ही आपको समझते हैं!
  • प्रतिमा में भगवान हो या चाहे नहीं हो प्रति 'माँ' में भगवान होते हैं!
    प्रतिमा में भगवान हो या चाहे नहीं हो प्रति 'माँ' में भगवान होते हैं!
  • चारों तरफ जय माता दी छाई हुई है;<br/>
फिर ये वृद्धआश्रमों मे किसकी मां आई हुई है।
    चारों तरफ जय माता दी छाई हुई है;
    फिर ये वृद्धआश्रमों मे किसकी मां आई हुई है।
  • ज़िन्दगी की भाग-दौड़ में सेहत का भी ख्याल रखिए...<br/>
ऐसा ना हो कि आप पीछे रह जाएं और पेट आगे निकल जाए।
    ज़िन्दगी की भाग-दौड़ में सेहत का भी ख्याल रखिए...
    ऐसा ना हो कि आप पीछे रह जाएं और पेट आगे निकल जाए।