• नौकर: बीवी जी मुझे पागलखाने में ज्यादा तनख्वाह की नौकरी मिल रही है।<br/>
जीतो: लेकिन तुम्हें पागलखाने में काम करने का तजुर्बा कहां है?<br/>
नौकर: वहां का न सही आपके घर काम करने का तजुर्बा तो है।
    नौकर: बीवी जी मुझे पागलखाने में ज्यादा तनख्वाह की नौकरी मिल रही है।
    जीतो: लेकिन तुम्हें पागलखाने में काम करने का तजुर्बा कहां है?
    नौकर: वहां का न सही आपके घर काम करने का तजुर्बा तो है।
  • जीतो: तुमने आखिर क्या देखकर अपने नौकर से शादी कर ली?<br/>
प्रीतो: दरअसल वह बहुत बदतमीज हो गया था और मैं उसे सबक सिखाना चाहती थी।
    जीतो: तुमने आखिर क्या देखकर अपने नौकर से शादी कर ली?
    प्रीतो: दरअसल वह बहुत बदतमीज हो गया था और मैं उसे सबक सिखाना चाहती थी।
  • प्रीतो: घर की सुख शांति के लिए कौन सा व्रत रखूं?<br />
पंडित जी: मौन व्रत।
    प्रीतो: घर की सुख शांति के लिए कौन सा व्रत रखूं?
    पंडित जी: मौन व्रत।
  • डॉक्टर: आपको कोई तकलीफ नही है, बस आराम की जरूरत है।<br />
प्रीतो: लेकिन आपने मेरी जुबान तो देखी ही नही।<br />
डॉक्टर: उसे भी आराम की जरूरत है।
    डॉक्टर: आपको कोई तकलीफ नही है, बस आराम की जरूरत है।
    प्रीतो: लेकिन आपने मेरी जुबान तो देखी ही नही।
    डॉक्टर: उसे भी आराम की जरूरत है।
  • संता: ये कैसा खाना बनाया है? बिल्कुल गोबर जैसा लग रहा है।<br />
जीतो: हे भगवान! इस आदमी ने हर चीज चख रखी है।
    संता: ये कैसा खाना बनाया है? बिल्कुल गोबर जैसा लग रहा है।
    जीतो: हे भगवान! इस आदमी ने हर चीज चख रखी है।