• आँखों के सागर में ये जलन है कैसी;<br/>
आज दिल को तड़पने की लगन है कैसी;<br/>
बर्फ की तरह पिघल जाएगी जिंदगी;<br/>
ये तेरी दूर रहने की कसम है कैसी।
    आँखों के सागर में ये जलन है कैसी;
    आज दिल को तड़पने की लगन है कैसी;
    बर्फ की तरह पिघल जाएगी जिंदगी;
    ये तेरी दूर रहने की कसम है कैसी।
  • सभी नगमे साज़ में गाए नहीं जाते;<br/>
सभी लोग महफ़िल में बुलाए नहीं जाते;<br/>
कुछ पास रहकर भी याद नहीं आते;<br/>
कुछ दूर रहकर भी भुलाए नहीं जाते।
    सभी नगमे साज़ में गाए नहीं जाते;
    सभी लोग महफ़िल में बुलाए नहीं जाते;
    कुछ पास रहकर भी याद नहीं आते;
    कुछ दूर रहकर भी भुलाए नहीं जाते।
  • कुछ पल की ख़ुशी आपके साथ में थी;<br/>
ऐसी कोई लकीर हमारे हाथ में होती;<br/>
दूर रहकर भी आपको याद करते हैं हम;<br/>
शायद कोई बहुत प्यारी सी बात हमारी मुलाक़ात में थी।
    कुछ पल की ख़ुशी आपके साथ में थी;
    ऐसी कोई लकीर हमारे हाथ में होती;
    दूर रहकर भी आपको याद करते हैं हम;
    शायद कोई बहुत प्यारी सी बात हमारी मुलाक़ात में थी।
  • तुम पास हो तो तुझपे प्यार आता है;<br/>
तुम दूर हो तो तेरा इंतज़ार सताता है;<br/>
क्या कहें इस दिल की हालत;<br/>
तुझसे दूर होकर दिल बेक़रार हो जाता है।
    तुम पास हो तो तुझपे प्यार आता है;
    तुम दूर हो तो तेरा इंतज़ार सताता है;
    क्या कहें इस दिल की हालत;
    तुझसे दूर होकर दिल बेक़रार हो जाता है।
  • दूरियां ही सही पर देरी तो नहीं;<br/>
इंतज़ार भला पर जुदाई तो नहीं;<br/>
मिलना बिछड़ना तो किस्मत है अपनी;<br/>
आखिर इंसान हैं हम फ़रिश्ते तो नहीं।
    दूरियां ही सही पर देरी तो नहीं;
    इंतज़ार भला पर जुदाई तो नहीं;
    मिलना बिछड़ना तो किस्मत है अपनी;
    आखिर इंसान हैं हम फ़रिश्ते तो नहीं।
  • ढलती शाम का खुला एहसास है;<br/>
मेरे दिल में तेरी जगह कुछ ख़ास है;<br/>
तुम दूर हो, ये मालूम है मुझे;<br/>
पर दिल कहता है तू यहीं मेरे आस-पास है।
    ढलती शाम का खुला एहसास है;
    मेरे दिल में तेरी जगह कुछ ख़ास है;
    तुम दूर हो, ये मालूम है मुझे;
    पर दिल कहता है तू यहीं मेरे आस-पास है।
  • बहुत दूर मगर बहुत पास रहते हो;<br/>
आँखों से दूर मगर दिल के पास रहते हो;<br/>
मुझे बस इतना बता दो क्या तुम भी मेरे बिना उदास रहते हो!
    बहुत दूर मगर बहुत पास रहते हो;
    आँखों से दूर मगर दिल के पास रहते हो;
    मुझे बस इतना बता दो क्या तुम भी मेरे बिना उदास रहते हो!
  • गलतियों से जुदा तु भी नहीं, मैं भी नहीं;<br/>
दोनों इंसान हैं, ख़ुदा तु भी नहीं, मैं भी नहीं;<br/>
गलतफहमियों ने कर दी दोनों में पैदा दूरियां;<br/>
वरना फितरत का बुरा तु भी नहीं था, मैं भी नहीं!
    गलतियों से जुदा तु भी नहीं, मैं भी नहीं;
    दोनों इंसान हैं, ख़ुदा तु भी नहीं, मैं भी नहीं;
    गलतफहमियों ने कर दी दोनों में पैदा दूरियां;
    वरना फितरत का बुरा तु भी नहीं था, मैं भी नहीं!
  • रिश्तों में दूरियां तो आती रहती हैं;<br/>
फिर भी दूरियां दिलों को मिला देती हैं;<br/>
वो रिश्ता ही क्या जिसमें नाराज़गी ना हो;<br/>
पर सच्ची दोस्ती दोस्तों को मना लेती है।
    रिश्तों में दूरियां तो आती रहती हैं;
    फिर भी दूरियां दिलों को मिला देती हैं;
    वो रिश्ता ही क्या जिसमें नाराज़गी ना हो;
    पर सच्ची दोस्ती दोस्तों को मना लेती है।
  • भीगी पलकों के संग मुस्कुराते हैं हम;<br/>
पल-पल दिल को बहलाते हैं हम;<br/>आप दूर हैं हमसे तो क्या हुआ;<br/>
हर सांस में आपकी आहट पाते हैं हम।
    भीगी पलकों के संग मुस्कुराते हैं हम;
    पल-पल दिल को बहलाते हैं हम;
    आप दूर हैं हमसे तो क्या हुआ;
    हर सांस में आपकी आहट पाते हैं हम।