• खिलाफ कितने हैं क्या फर्क पड़ता है;<br/>
साथ जिनका है वो लाजवाब हैं!
    खिलाफ कितने हैं क्या फर्क पड़ता है;
    साथ जिनका है वो लाजवाब हैं!
  • बेशक थोड़ा इंतज़ार मिला हमको,<br/>
पर दुनिया का सबसे हंसी यार मिला हमको;<br/>
न रही तमन्ना किसी जन्नत की,<br/>
तेरी दोस्ती में वो प्यार मिला हमको!
    बेशक थोड़ा इंतज़ार मिला हमको,
    पर दुनिया का सबसे हंसी यार मिला हमको;
    न रही तमन्ना किसी जन्नत की,
    तेरी दोस्ती में वो प्यार मिला हमको!
  • दिल से दिल कभी जुदा नहीं होते,<br/>
यूं हम किसी पर फ़िदा नहीं होते;<br/>
मोहब्बत से बढ़कर तो दोस्ती का रिश्ता है,<br/>
क्योंकि दोस्त कभी बेवफा नहीं होते।
    दिल से दिल कभी जुदा नहीं होते,
    यूं हम किसी पर फ़िदा नहीं होते;
    मोहब्बत से बढ़कर तो दोस्ती का रिश्ता है,
    क्योंकि दोस्त कभी बेवफा नहीं होते।
  • एक सच्चा दोस्त वो होता है जो...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
आपके पाजिटिव होने के बाद भी आपको गले लगा ले, बाकी तो सब दिखावा है!
    एक सच्चा दोस्त वो होता है जो...
    .
    .
    .
    .
    .
    आपके पाजिटिव होने के बाद भी आपको गले लगा ले, बाकी तो सब दिखावा है!
  • भगवान करे हमारी दोस्ती इतनी गहरी हो,<br/>
करतूतें मेरी हो और बेइज़्ज़ती तुम्हारी हो!
    भगवान करे हमारी दोस्ती इतनी गहरी हो,
    करतूतें मेरी हो और बेइज़्ज़ती तुम्हारी हो!
  • जो आसानी से मिले वो है धोखा,<br/>
जो मुश्किल से मिले वो है इज़्ज़त;<br/>
जो दिल से मिले वो है प्यार,<br/>
और जो नसीब से मिले वो हैं दोस्त!
    जो आसानी से मिले वो है धोखा,
    जो मुश्किल से मिले वो है इज़्ज़त;
    जो दिल से मिले वो है प्यार,
    और जो नसीब से मिले वो हैं दोस्त!
  • दोस्ती कभी बड़ी नहीं होती, निभाने वाले यार हमेशा बड़े होते हैं!
    दोस्ती कभी बड़ी नहीं होती, निभाने वाले यार हमेशा बड़े होते हैं!
  • अगर आपके पास, आपको गाली देने वाले 2-4 दोस्त हैं तो<br/>
यकीन मानिये आप कभी आत्महत्या नहीं कर सकते!
    अगर आपके पास, आपको गाली देने वाले 2-4 दोस्त हैं तो
    यकीन मानिये आप कभी आत्महत्या नहीं कर सकते!
  • दोस्तों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,<br/>
लगता है जैसे खुल के जिए एक ज़माना हो गया;<br/>
काश कहीं मिल जाये वो काफिला दोस्तों का,<br/>
ज़िंदगी जिए एक ज़माना हो गया!
    दोस्तों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
    लगता है जैसे खुल के जिए एक ज़माना हो गया;
    काश कहीं मिल जाये वो काफिला दोस्तों का,
    ज़िंदगी जिए एक ज़माना हो गया!
  • असली दोस्त गणितज्ञ होना चाहिए, जो खुशियों में गुणा कर दें, दुःखों में भाग दें, बुराइयों को घटा दें, और गुणों को जोड़ दें।
    असली दोस्त गणितज्ञ होना चाहिए, जो खुशियों में गुणा कर दें, दुःखों में भाग दें, बुराइयों को घटा दें, और गुणों को जोड़ दें।