• आओ दर्द बाँटते हैं,<br/>
तुम दरवाज़े में ऊँगली दो, मैं तुम्हारे साथ चिल्लाऊँगा!
    आओ दर्द बाँटते हैं,
    तुम दरवाज़े में ऊँगली दो, मैं तुम्हारे साथ चिल्लाऊँगा!
  • एक मुर्गा एक मुर्गी के पीछे भाग रहा था, अचानक मुर्गी कार के नीचे आ गई और मर गई!<br/>
मुर्गा: लगता है देसी मुर्गी थी, जान दे दी मगर इज़्ज़त बचा ली!
    एक मुर्गा एक मुर्गी के पीछे भाग रहा था, अचानक मुर्गी कार के नीचे आ गई और मर गई!
    मुर्गा: लगता है देसी मुर्गी थी, जान दे दी मगर इज़्ज़त बचा ली!
  • गम के बादल कुछ इस तरह हटा देंगे...<br/>
<br/>
<br/>
<br/>
<br/>
तुम्हारा नाम लिखेंगे पेंसिल से और उसको रबड से मिटा देंगे!
    गम के बादल कुछ इस तरह हटा देंगे...




    तुम्हारा नाम लिखेंगे पेंसिल से और उसको रबड से मिटा देंगे!
  • खुद को कर बुलन्द इतना कि लड़की खुद पूछे...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
बता तेरा मोबाइल नम्बर क्या है?
    खुद को कर बुलन्द इतना कि लड़की खुद पूछे...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    बता तेरा मोबाइल नम्बर क्या है?
  • अगर माँ कहे, मोबाइल रख दो, तो रख दिया करो...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
क्यों कि माँ के पैरों में जन्नत के साथ साथ, चप्पल भी होती है!
    अगर माँ कहे, मोबाइल रख दो, तो रख दिया करो...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    क्यों कि माँ के पैरों में जन्नत के साथ साथ, चप्पल भी होती है!
  • सुबह का भुला अगर शाम को वापस आए तो...<br/>
घसीट घसीट कर मारो साले को, ताकि दोबारा ऐसी हरकत ना करे!
    सुबह का भुला अगर शाम को वापस आए तो...
    घसीट घसीट कर मारो साले को, ताकि दोबारा ऐसी हरकत ना करे!
  • बहुत ध्यान रखता हूँ अपने प्यार का,<br/>
इधर नहीं लगता तो उधर पड़ोसन को देखकर लगा लेता हूँ!
    बहुत ध्यान रखता हूँ अपने प्यार का,
    इधर नहीं लगता तो उधर पड़ोसन को देखकर लगा लेता हूँ!
  • लाइफ बड़ी बोर सी हो गयी है। हे भगवान उठा ले...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
और बैंकाक में पटक दे।
    लाइफ बड़ी बोर सी हो गयी है। हे भगवान उठा ले...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    और बैंकाक में पटक दे।
  • खाना खाने के बाद लड़कियाँ टिशू पेपर से इतने प्यार से मुँह पाेछती है कि कहीं होंठ उखड़ के टिशू पेपर के साथ ना आ जाये।<br/>
और लड़के ऐसे साफ करते हैं कि जैसे दीवार पे रेगमार रगड़ रहें हो।
    खाना खाने के बाद लड़कियाँ टिशू पेपर से इतने प्यार से मुँह पाेछती है कि कहीं होंठ उखड़ के टिशू पेपर के साथ ना आ जाये।
    और लड़के ऐसे साफ करते हैं कि जैसे दीवार पे रेगमार रगड़ रहें हो।
  • बिजली विभाग कर्मचारी: सर बाहर पेड़ के पत्ते हिल रहें हैं!<br/>
अफसर: लाइट काट जल्दी, आंधी आ गई!
    बिजली विभाग कर्मचारी: सर बाहर पेड़ के पत्ते हिल रहें हैं!
    अफसर: लाइट काट जल्दी, आंधी आ गई!