• है जिंदगी माना दर्द भरी;<br />
फिर भी इसमें ये राहत भी है;<br />
मैं हूँ तेरा और तु है मेरी;<br />
यूहीं रहें हम ये चाहत भी है।
    है जिंदगी माना दर्द भरी;
    फिर भी इसमें ये राहत भी है;
    मैं हूँ तेरा और तु है मेरी;
    यूहीं रहें हम ये चाहत भी है।
  • भीगी पलकों के संग मुस्कुराते हैं;<br />
पल-पल दिल को कुछ और बहलाते हैं हम;<br />
तू दूर है हमसे तो क्या हुआ मेरे दिलबर;<br />
हर सांस में तेरी आहट को पाते हैं हम।
    भीगी पलकों के संग मुस्कुराते हैं;
    पल-पल दिल को कुछ और बहलाते हैं हम;
    तू दूर है हमसे तो क्या हुआ मेरे दिलबर;
    हर सांस में तेरी आहट को पाते हैं हम।
  • तन्हाईयों में मुस्कुराना इश्क है;<br />
एक बात को सबसे छुपाना इश्क है;<br />
यूं तो नींद नहीं आती हमें रात भर;<br />
मगर सोते-सोते जागना और जागते-जागते सोना इश्क है।
    तन्हाईयों में मुस्कुराना इश्क है;
    एक बात को सबसे छुपाना इश्क है;
    यूं तो नींद नहीं आती हमें रात भर;
    मगर सोते-सोते जागना और जागते-जागते सोना इश्क है।
  • क्यों किसी से इतना प्यार हो जाता है;<br />
एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है;<br />
लगने लगते हैं अपने भी पराये;<br />
और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है।
    क्यों किसी से इतना प्यार हो जाता है;
    एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है;
    लगने लगते हैं अपने भी पराये;
    और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है।
  • तेरे नाम को होंटो पर सजाया है मैंने;<br />
तेरे रूह को अपने दिल में बसाया है मैंने;<br />
दुनिया तुम्हें ढूढ़ते-ढूढ़ते हो जायेगी पागल;<br />
दिल के ऐसे कोने में छुपाया है मैंने।
    तेरे नाम को होंटो पर सजाया है मैंने;
    तेरे रूह को अपने दिल में बसाया है मैंने;
    दुनिया तुम्हें ढूढ़ते-ढूढ़ते हो जायेगी पागल;
    दिल के ऐसे कोने में छुपाया है मैंने।
  • राह ताकते हैं हम उनके इंतज़ार में;<br />
साँसे भरते हैं उनके एक दीदार में;<br />
रात न कटती है न होता है सवेरा;<br />
जबसे दिल के हर कोने में हुआ है आपका बसेरा।
    राह ताकते हैं हम उनके इंतज़ार में;
    साँसे भरते हैं उनके एक दीदार में;
    रात न कटती है न होता है सवेरा;
    जबसे दिल के हर कोने में हुआ है आपका बसेरा।
  • चाँद निकलेगा तो दुआ मांगेंगे;<br />
अपने हिस्से में मुकदर का लिखा मांगेंगे;<br />
हम तलबगार नहीं दुनिया और दौलत के;<br />
हम रब से सिर्फ आपकी वफ़ा मांगेंगे।
    चाँद निकलेगा तो दुआ मांगेंगे;
    अपने हिस्से में मुकदर का लिखा मांगेंगे;
    हम तलबगार नहीं दुनिया और दौलत के;
    हम रब से सिर्फ आपकी वफ़ा मांगेंगे।
  • सपना कभी साकार नहीं होता;<br />
मोहब्बत का कोई आकार नहीं होता;<br />
सब कुछ हो जाता है इस दुनियां में;<br />
मगर दोबारा किसी से प्यार नहीं होता।
    सपना कभी साकार नहीं होता;
    मोहब्बत का कोई आकार नहीं होता;
    सब कुछ हो जाता है इस दुनियां में;
    मगर दोबारा किसी से प्यार नहीं होता।
  • तेरी मोहब्बत को तो पलकों पर सजायेंगे;<br />
मर कर भी हर रस्म हम निभायेंगे;<br />
देने को तो कुछ भी नहीं है मेरे पास;<br />
मगर तेरी ख़ुशी मांगने हम खुदा तक भी जायेंगे।
    तेरी मोहब्बत को तो पलकों पर सजायेंगे;
    मर कर भी हर रस्म हम निभायेंगे;
    देने को तो कुछ भी नहीं है मेरे पास;
    मगर तेरी ख़ुशी मांगने हम खुदा तक भी जायेंगे।
  • मुझे इस बात का गम नहीं कि बदल गया ज़माना;<br />
मेरी जिंदगी तो सिर्फ तुम हो, कहीं तुम ना बदल जाना!
    मुझे इस बात का गम नहीं कि बदल गया ज़माना;
    मेरी जिंदगी तो सिर्फ तुम हो, कहीं तुम ना बदल जाना!