• प्यार किया तो उनकी मोहब्बत नज़र आई;<br />
दर्द हुआ तो पलके उनकी भर आई;<br />
दो दिलों की धड़कन में एक बात नज़र आई;<br />
दिल तो उनका धड़का पर आवाज़ इस दिल की आई!
    प्यार किया तो उनकी मोहब्बत नज़र आई;
    दर्द हुआ तो पलके उनकी भर आई;
    दो दिलों की धड़कन में एक बात नज़र आई;
    दिल तो उनका धड़का पर आवाज़ इस दिल की आई!
  • तनहाई ले जाती है जहाँ तक याद तुम्हारी;<br />
वहीँ से शुरू होती है जिंदगी हमारी;<br />
नहीं सोचा था हम चाहेंगे तुम्हें इस कदर;<br />
पर अब तो बन गए हो तुम किसमत हमारी!
    तनहाई ले जाती है जहाँ तक याद तुम्हारी;
    वहीँ से शुरू होती है जिंदगी हमारी;
    नहीं सोचा था हम चाहेंगे तुम्हें इस कदर;
    पर अब तो बन गए हो तुम किसमत हमारी!
  • ये जो सिलसिला चल पड़ा है, जहां में रिश्वतों का;<br />
तुम भी कुछ ले दे कर मेरे क्यों नहीं हो जाते!
    ये जो सिलसिला चल पड़ा है, जहां में रिश्वतों का;
    तुम भी कुछ ले दे कर मेरे क्यों नहीं हो जाते!
  • अँखियाँ दे कोलो सदा रह सजना;<br />
असी लाख वॉर तक के वी नहीं रजना;<br />
मुखड़ा ना मोड़ी साड्डा जोर कोई ना;<br />
कदे झड के ना जावीं साडा होर कोई ना!
    अँखियाँ दे कोलो सदा रह सजना;
    असी लाख वॉर तक के वी नहीं रजना;
    मुखड़ा ना मोड़ी साड्डा जोर कोई ना;
    कदे झड के ना जावीं साडा होर कोई ना!
  • प्यार करो तो मुस्कुरा के;<br />
किसी को धोखा न देना अपना बना के;<br />
कर लो याद जब तक हम जिंदा हैं;<br />
वर्ना ये मत कहना;<br />
छोड़ गये दिल में यादे बसा के!
    प्यार करो तो मुस्कुरा के;
    किसी को धोखा न देना अपना बना के;
    कर लो याद जब तक हम जिंदा हैं;
    वर्ना ये मत कहना;
    छोड़ गये दिल में यादे बसा के!
  • आज की रात मेरा दर्द मोहब्बत सुन ले;<br />
कप कपाते हुए होंठों की शिकायत सुन ले;<br />
आज इज़हारे ख़यालात का मौका दे दे;<br />
हम तेरे शहर में आये हैं, मुसाफिर की तरह!
    आज की रात मेरा दर्द मोहब्बत सुन ले;
    कप कपाते हुए होंठों की शिकायत सुन ले;
    आज इज़हारे ख़यालात का मौका दे दे;
    हम तेरे शहर में आये हैं, मुसाफिर की तरह!
  • हमसे भुलाया ही नहीं जाता, एक मुखलिस का प्यार;<br />
लोग जिगर वाले हैं, जो रोज नया महबूब बना लेते हैं!
    हमसे भुलाया ही नहीं जाता, एक मुखलिस का प्यार;
    लोग जिगर वाले हैं, जो रोज नया महबूब बना लेते हैं!
  • जज़्बात बहकता है, जब तुमसे मिलती हूँ;<br />
अरमां मचलता है, जब तुमसे मिलती हूँ;<br />
हाथों से हाथ और होठों से होंठ मिलते हैं;<br />
दिल से दिल मिलते हैं, जब तुमसे मिलती हूँ!
    जज़्बात बहकता है, जब तुमसे मिलती हूँ;
    अरमां मचलता है, जब तुमसे मिलती हूँ;
    हाथों से हाथ और होठों से होंठ मिलते हैं;
    दिल से दिल मिलते हैं, जब तुमसे मिलती हूँ!
  • हसरतों पर रिवाजों का सख्त पहरा है;<br />
न जाने कौन सी उम्मीद पर जाकर, यह दिल ठहरा है;<br />
मेरी आँखों में से छलकते हुए यह अश्क और गम की कसम;<br />
मेरा यह प्यार, बहुत गहरा है!
    हसरतों पर रिवाजों का सख्त पहरा है;
    न जाने कौन सी उम्मीद पर जाकर, यह दिल ठहरा है;
    मेरी आँखों में से छलकते हुए यह अश्क और गम की कसम;
    मेरा यह प्यार, बहुत गहरा है!
  • तूने मुझको नहीं सारे इश्क को बदनाम किया;<br />
उसको क्या सज़ा दूं, जिसने मोहब्बत में हमारा दिल तोड़ दिया!
    तूने मुझको नहीं सारे इश्क को बदनाम किया;
    उसको क्या सज़ा दूं, जिसने मोहब्बत में हमारा दिल तोड़ दिया!