• ग़म की अँधेरी रात में;<br/>
खुद को न यूं बेकरार कर;<br/>
सुबह जरुर आयेगी;<br/>
तू बस थोड़ा इंतज़ार कर।
    ग़म की अँधेरी रात में;
    खुद को न यूं बेकरार कर;
    सुबह जरुर आयेगी;
    तू बस थोड़ा इंतज़ार कर।
  • कार्य ही पूजा है:<br/>
महात्मा गाँधी के कपड़ों में एक भी 'जेब' नहीं थी;<br/>
लेकिन अच्छे कर्मों की वजह से, `आज वो हम सबकी जेब में रहते हैं।`
    कार्य ही पूजा है:
    महात्मा गाँधी के कपड़ों में एक भी 'जेब' नहीं थी;
    लेकिन अच्छे कर्मों की वजह से, "आज वो हम सबकी जेब में रहते हैं।"
  • शौंक को कभी पाला नही जाता;<br/>
काँच के खिलौनों को कभी उछाला नहीं जाता;<br/>
मिल जाती है मंज़िल कोशिश करने पर;<br/>
हर बात को किस्मत पर टाला नहीं जाता।
    शौंक को कभी पाला नही जाता;
    काँच के खिलौनों को कभी उछाला नहीं जाता;
    मिल जाती है मंज़िल कोशिश करने पर;
    हर बात को किस्मत पर टाला नहीं जाता।
  • मुश्किलें दिल के इरादे आज़माएंगी;<br/>
ख़्वाबों की मुश्किलें निगाहों से हटाएंगी;<br/>
गिरकर हौंसला मत हारना ओ यार;<br/>
ये ठोकरें ही तुझे चलना सिखाएंगी।
    मुश्किलें दिल के इरादे आज़माएंगी;
    ख़्वाबों की मुश्किलें निगाहों से हटाएंगी;
    गिरकर हौंसला मत हारना ओ यार;
    ये ठोकरें ही तुझे चलना सिखाएंगी।
  • बुझी हुई शमां फिर से जल सकती है;<br />
तूफानों में घिरी कश्ती किनारे लग सकती है;<br />
मायूस न होना कभी जिंदगी में;<br />
ये किस्मत है कभी भी बदल सकती है।
    बुझी हुई शमां फिर से जल सकती है;
    तूफानों में घिरी कश्ती किनारे लग सकती है;
    मायूस न होना कभी जिंदगी में;
    ये किस्मत है कभी भी बदल सकती है।
  • वक्त कहता है की फिर नहीं आऊंगा;<br/>
तेरी आँखों को अब न रुलाऊंगा;<br/>
जीना है तो इस पल को जी ले;<br/>
शायद मैं कल तक न रुक पाऊंगा।
    वक्त कहता है की फिर नहीं आऊंगा;
    तेरी आँखों को अब न रुलाऊंगा;
    जीना है तो इस पल को जी ले;
    शायद मैं कल तक न रुक पाऊंगा।
  • एक बात हमेशा याद रखना;<br/>
खुशनसीब वो नहीं जिनका नसीब अच्छा है;<br/>
बल्कि खुशनसीब तो वो हैं जो अपने नसीब पे खुश हैं।
    एक बात हमेशा याद रखना;
    खुशनसीब वो नहीं जिनका नसीब अच्छा है;
    बल्कि खुशनसीब तो वो हैं जो अपने नसीब पे खुश हैं।
  • पेड़ की शाखा पर पंछी कभी भी इसलिए नहीं डरता कि डाल हिल रही है;<br/>
क्योंकि;<br/>
पंछी डाल पर नहीं अपने पंखों पर भरोसा करता है।
    पेड़ की शाखा पर पंछी कभी भी इसलिए नहीं डरता कि डाल हिल रही है;
    क्योंकि;
    पंछी डाल पर नहीं अपने पंखों पर भरोसा करता है।
  • खुशियाँ मिलती नहीं मांगने से; <br/>
मंजिल मिलती नहीं राह पर रूक जाने से; <br/>
भरोसा रखना खुद पर और उस रब पर; <br/>
सब कुछ देता है वो सही वक्त आने पर।
    खुशियाँ मिलती नहीं मांगने से;
    मंजिल मिलती नहीं राह पर रूक जाने से;
    भरोसा रखना खुद पर और उस रब पर;
    सब कुछ देता है वो सही वक्त आने पर।
  • स्वयं को कभी कमजोर साबित मत होने दें क्योंकि;<br/>
डूबते सूरज को देखकर लोग;<br/>
घरों के दरवाजे बंद करने लगते हैं।
    स्वयं को कभी कमजोर साबित मत होने दें क्योंकि;
    डूबते सूरज को देखकर लोग;
    घरों के दरवाजे बंद करने लगते हैं।