• कोई लक्ष्य मनुष्य के साहस से बड़ा नहीं,<br />
हारा वही जो कभी लड़ा नहीं।Upload to Facebook
    कोई लक्ष्य मनुष्य के साहस से बड़ा नहीं,
    हारा वही जो कभी लड़ा नहीं।
  • हौसला कम न होगा तेरा तूफानों के सामने,<br />
मेहनत को इबादत में बदल कर देख;<br />
खुद ब खुद हल होंगी ज़िन्दगी की मुश्किलें,<br />
बस ख़ामोशी को सवालों में बदल कर तो देख।Upload to Facebook
    हौसला कम न होगा तेरा तूफानों के सामने,
    मेहनत को इबादत में बदल कर देख;
    खुद ब खुद हल होंगी ज़िन्दगी की मुश्किलें,
    बस ख़ामोशी को सवालों में बदल कर तो देख।
  • अवसरों की राह देखने वाले व्यक्ति साधारण होते हैं;<br />
लेकिन असाधारण व्यक्ति अवसरों को जन्म देते हैं।Upload to Facebook
    अवसरों की राह देखने वाले व्यक्ति साधारण होते हैं;
    लेकिन असाधारण व्यक्ति अवसरों को जन्म देते हैं।
  • मंजिल पर पहुँचना है तो कभी राह के काँटों से मत घबराना,<br />
क्योंकि काँटे ही तो बढ़ाते हैं रफ़्तार हमारे क़दमों की।Upload to Facebook
    मंजिल पर पहुँचना है तो कभी राह के काँटों से मत घबराना,
    क्योंकि काँटे ही तो बढ़ाते हैं रफ़्तार हमारे क़दमों की।
  • बहता पानी ही पत्थरों पर निशान छोड़ता है,<br />
पर पत्थर पानी पर कोई निशान नहीं छोड़ता है,<br />
इसलिए कहते हैं चलने का नाम ज़िन्दगी है।Upload to Facebook
    बहता पानी ही पत्थरों पर निशान छोड़ता है,
    पर पत्थर पानी पर कोई निशान नहीं छोड़ता है,
    इसलिए कहते हैं चलने का नाम ज़िन्दगी है।
  • ज़िन्दगी बहुत कुछ सिखाती है;<br />
कभी हँसती है तो कभी रुलाती है;<br />
पर जो हर हाल में खुश रहते हैं;<br />
ज़िन्दगी उनके आगे सिर झुकाती है।Upload to Facebook
    ज़िन्दगी बहुत कुछ सिखाती है;
    कभी हँसती है तो कभी रुलाती है;
    पर जो हर हाल में खुश रहते हैं;
    ज़िन्दगी उनके आगे सिर झुकाती है।
  • बैठ जाता हूँ अक्सर मिट्टी पर क्योंकि मुझे अपनी औकात अच्छी लगती है;<br />
मैंने समंदर से सीखा है जीने का सलीका चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना।Upload to Facebook
    बैठ जाता हूँ अक्सर मिट्टी पर क्योंकि मुझे अपनी औकात अच्छी लगती है;
    मैंने समंदर से सीखा है जीने का सलीका चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना।
  • कोई साथ दे ना दे, तू चलना सीख ले;<br />
हर आग से हो जा वाकिफ तू जलना सीख ले;<br />
कोई रोक नहीं पायेगा बढ़ने से तुझे मंज़िल की तरफ;<br />
हर मुश्किल का सामना करना तू सीख ले।Upload to Facebook
    कोई साथ दे ना दे, तू चलना सीख ले;
    हर आग से हो जा वाकिफ तू जलना सीख ले;
    कोई रोक नहीं पायेगा बढ़ने से तुझे मंज़िल की तरफ;
    हर मुश्किल का सामना करना तू सीख ले।
  • सोच को अपनी ले जाओ तुम उस शिखर तक;<br>
कि उसके आगे सारे सितारे भी झुक जाएं;<br>
न बनाओ अपने सफ़र को किसी कश्ती का मोहताज़;<br>
चलो इस शान से कि तूफ़ान भी झुक जाए।Upload to Facebook
    सोच को अपनी ले जाओ तुम उस शिखर तक;
    कि उसके आगे सारे सितारे भी झुक जाएं;
    न बनाओ अपने सफ़र को किसी कश्ती का मोहताज़;
    चलो इस शान से कि तूफ़ान भी झुक जाए।
  • हथेली पर रखकर नसीब हर शख्स मुकद्दर ढूंढता है,<br />
सीखो उस समंदर से जो टकराने के लिए हमेशा पत्थर ढूंढता है।Upload to Facebook
    हथेली पर रखकर नसीब हर शख्स मुकद्दर ढूंढता है,
    सीखो उस समंदर से जो टकराने के लिए हमेशा पत्थर ढूंढता है।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT