• तुझे भूलने की कोशिशें कभी कामयाब न हो सकें;<br />
तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब है, जो हवा चली तो महक गई!
    तुझे भूलने की कोशिशें कभी कामयाब न हो सकें;
    तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब है, जो हवा चली तो महक गई!
  • हम तुमसे दूर कैसे रह पाते;<br />
दिल से तुमको कैसे भूल पाते;<br />
काश तुम आईने में बसे होते;<br />
ख़ुद को देखते तो तुम नज़र आते!
    हम तुमसे दूर कैसे रह पाते;
    दिल से तुमको कैसे भूल पाते;
    काश तुम आईने में बसे होते;
    ख़ुद को देखते तो तुम नज़र आते!
  • वो न आए उनकी याद वफ़ा कर गई;<br />
उनसे मिलने की चाह सुकून तबाह कर गई;<br />
आहट दरवाज़े की हुई तो उठकर देखा;<br />
मज़ाक हमसे हवा कर गई!
    वो न आए उनकी याद वफ़ा कर गई;
    उनसे मिलने की चाह सुकून तबाह कर गई;
    आहट दरवाज़े की हुई तो उठकर देखा;
    मज़ाक हमसे हवा कर गई!
  • शोर न कर धड़कन ज़रा, थम जा कुछ पल के लिए;<br />
बड़ी मुश्किल से मेरी आखों में उसका ख्वाब आया है!
    शोर न कर धड़कन ज़रा, थम जा कुछ पल के लिए;
    बड़ी मुश्किल से मेरी आखों में उसका ख्वाब आया है!
  • मुझे नींद की इजाज़त भी उसकी यादों से लेनी पड़ती है;<br />
जो खुद तो सो जाता है, मुझे करवटों में छोड़ कर!
    मुझे नींद की इजाज़त भी उसकी यादों से लेनी पड़ती है;
    जो खुद तो सो जाता है, मुझे करवटों में छोड़ कर!
  • एक दिन हमारे आंसुओ ने हमसे पूछा, `हमें रोज़ रोज़ क्यों बुलाते हो?`<br />
हम ने कहा, `हम 'नाम-ऐ-हुसैन' लेते हैं, तुम तो खुद ही चले आते हो!`
    एक दिन हमारे आंसुओ ने हमसे पूछा, "हमें रोज़ रोज़ क्यों बुलाते हो?"
    हम ने कहा, "हम 'नाम-ऐ-हुसैन' लेते हैं, तुम तो खुद ही चले आते हो!"
  • पत्ते गिर सकते है, पर पेड़ नहीं;<br />
सूरज डूब सकता है, पर आसमान नहीं;<br />
आप भूल सकते है, पर हम नहीं!
    पत्ते गिर सकते है, पर पेड़ नहीं;
    सूरज डूब सकता है, पर आसमान नहीं;
    आप भूल सकते है, पर हम नहीं!
  • ये चाँद चमकना छोड़ भी दे, तेरी चांदनी मुझे सताती है;<br />
तेरे जैसा ही था उसका चेहरा, तुझे देख के वो याद आती है!
    ये चाँद चमकना छोड़ भी दे, तेरी चांदनी मुझे सताती है;
    तेरे जैसा ही था उसका चेहरा, तुझे देख के वो याद आती है!
  • तड़प उठते है, उन्हें याद करके;<br />
जो गए है, हमे बर्बाद करके;<br />
अब तो इतना ही ताल्लुक रह गया है;<br />
कि रो लेते है, बस उन्हें याद करके!
    तड़प उठते है, उन्हें याद करके;
    जो गए है, हमे बर्बाद करके;
    अब तो इतना ही ताल्लुक रह गया है;
    कि रो लेते है, बस उन्हें याद करके!