• अगर मेरी याद आए तो चाँद को देख लेना;<br/>
ये सोच कर नहीं कि खूबसूरत है कितना;<br/>
बल्कि यह सोच कर कि हज़ारों सितारों में तन्हा है कितना।
    अगर मेरी याद आए तो चाँद को देख लेना;
    ये सोच कर नहीं कि खूबसूरत है कितना;
    बल्कि यह सोच कर कि हज़ारों सितारों में तन्हा है कितना।
  • पानी का एक कतरा आँख से गिरा अभी;<br/>
क्या तुमने मुझको याद किया अभी;<br/>
तुझसे मिले ज़माना हुआ मगर;<br/>
यूँ लगा कोई मुझसे मिल कर गया अभी।
    पानी का एक कतरा आँख से गिरा अभी;
    क्या तुमने मुझको याद किया अभी;
    तुझसे मिले ज़माना हुआ मगर;
    यूँ लगा कोई मुझसे मिल कर गया अभी।
  • बूँदें बारिश की यूँ ज़मीन पर आने लगी;<br/>
सोंदी सी महक माटी की जगाने लगी;<br/>
हवाओं में भी जैसे मस्ती छाने लगी;<br/>
वैसे ही हमें भी आपकी याद आने लगी।
    बूँदें बारिश की यूँ ज़मीन पर आने लगी;
    सोंदी सी महक माटी की जगाने लगी;
    हवाओं में भी जैसे मस्ती छाने लगी;
    वैसे ही हमें भी आपकी याद आने लगी।
  • ना वो आ सके, ना हम जा सके;<br/>
दर्द दिल का किसी को ना सुना सके;<br/>
यादों को लेकर बैठें हैं आस में उनकी;<br/>
ना उन्होंने याद किया, ना हम उन्हें भुला सके।
    ना वो आ सके, ना हम जा सके;
    दर्द दिल का किसी को ना सुना सके;
    यादों को लेकर बैठें हैं आस में उनकी;
    ना उन्होंने याद किया, ना हम उन्हें भुला सके।
  • जीना चाहते हैं पर ज़िंदगी रास नहीं आती;<br/>
मौत चाहते हैं पर मौत पास नहीं आती;<br/>
उदास हैं हम इस ज़िंदगी से;<br/>
पर उसकी यादें तरसाने से बाज़ नहीं आती।
    जीना चाहते हैं पर ज़िंदगी रास नहीं आती;
    मौत चाहते हैं पर मौत पास नहीं आती;
    उदास हैं हम इस ज़िंदगी से;
    पर उसकी यादें तरसाने से बाज़ नहीं आती।
  • किसी भी मोड़ पर हम आपको खोने नहीं देंगे;<br/>
जुदा होना भी चाहो हम होने नहीं देंगे;<br/>
चाँदनी रातों में आएगी हमारी याद;<br/>
हमारी यादों के वो पल आपको सोने नहीं देंगे।
    किसी भी मोड़ पर हम आपको खोने नहीं देंगे;
    जुदा होना भी चाहो हम होने नहीं देंगे;
    चाँदनी रातों में आएगी हमारी याद;
    हमारी यादों के वो पल आपको सोने नहीं देंगे।
  • तिनकों से बना पल, पल से बना लम्हा;<br/>
और लम्हों ने वक़्त को चुना;<br/>
हर पल कोई किसी के साथ नहीं रह सकता;<br/>
इसीलिए तो खुदा ने यादों को चुना।
    तिनकों से बना पल, पल से बना लम्हा;
    और लम्हों ने वक़्त को चुना;
    हर पल कोई किसी के साथ नहीं रह सकता;
    इसीलिए तो खुदा ने यादों को चुना।
  • बूँद-बूँद से है सागर की गहराई;<br/>
इसकी हर बूँद है मुझ में समाई;<br/>
कोई मांगे तो एक बूँद ना दे सकेंगे;<br/>
क्योंकि हर बूँद में है आपकी याद समाई।
    बूँद-बूँद से है सागर की गहराई;
    इसकी हर बूँद है मुझ में समाई;
    कोई मांगे तो एक बूँद ना दे सकेंगे;
    क्योंकि हर बूँद में है आपकी याद समाई।
  • यूँ ही मुड़कर ना देखा होगा उन्होंने;<br/>
अभी कुछ चाहत तो बाकी होगी;<br/>
भले ही जी रहे होंगे कितने सुकून से वो;<br/>
तड़पने के लिए हमारी बस एक याद ही काफी होगी।
    यूँ ही मुड़कर ना देखा होगा उन्होंने;
    अभी कुछ चाहत तो बाकी होगी;
    भले ही जी रहे होंगे कितने सुकून से वो;
    तड़पने के लिए हमारी बस एक याद ही काफी होगी।
  • कुछ लोग जिंदगी मे इस कदर शामिल हो जाते हैं;<br/>
अगर भूलना चाहो तो और याद आते हैं;<br/>
बस जाते हैं वो दिल में इस कदर;<br/>
कि आंखे बंद करो तो सामने नजर आते हैं।
    कुछ लोग जिंदगी मे इस कदर शामिल हो जाते हैं;
    अगर भूलना चाहो तो और याद आते हैं;
    बस जाते हैं वो दिल में इस कदर;
    कि आंखे बंद करो तो सामने नजर आते हैं।