• तुम मुझे भूल कर तो देखो;<br/>
हर ख़ुशी रूठ जाएगी;<br/>
जब अकेले तुम बैठोगे;<br/>
खुद-ब-खुद मेरी याद आएगी।
    तुम मुझे भूल कर तो देखो;
    हर ख़ुशी रूठ जाएगी;
    जब अकेले तुम बैठोगे;
    खुद-ब-खुद मेरी याद आएगी।
  • ख़ूबियाँ इतनी तो नहीं है हम में;<br/>
कि हम आपको हर पल याद आयेंगे;<br/>
पर इतना ऐतबार है हमें खुद पर;<br/>
कि आप कभी हमें भूल ना पायेंगे।
    ख़ूबियाँ इतनी तो नहीं है हम में;
    कि हम आपको हर पल याद आयेंगे;
    पर इतना ऐतबार है हमें खुद पर;
    कि आप कभी हमें भूल ना पायेंगे।
  • भुला ना सकोगे मुझे भूल कर तुम;<br/>
मैं अक्सर तुम्हें याद आता रहूँगा;<br/>
कभी ख़्वाब बन कर कभी याद बन कर;<br/>
मैं नींद तुम्हारी चुराता रहूँगा।
    भुला ना सकोगे मुझे भूल कर तुम;
    मैं अक्सर तुम्हें याद आता रहूँगा;
    कभी ख़्वाब बन कर कभी याद बन कर;
    मैं नींद तुम्हारी चुराता रहूँगा।
  • आँखें बंद करके रोता हूँ तो लगता है तुझे मैं रोया नहीं;<br/>
सदियों तक जागा हूँ मैं तेरे इंतज़ार में सोया नहीं;<br/>
प्यार में पाया क्या है यह मुझे मालूम नहीं है;<br/>
पर तेरे सिवा ज़िंदगी में मैंने कुछ खोया नहीं।
    आँखें बंद करके रोता हूँ तो लगता है तुझे मैं रोया नहीं;
    सदियों तक जागा हूँ मैं तेरे इंतज़ार में सोया नहीं;
    प्यार में पाया क्या है यह मुझे मालूम नहीं है;
    पर तेरे सिवा ज़िंदगी में मैंने कुछ खोया नहीं।
  • आप हमें रुला दो हमें गम नहीं;<br/>
आप हमें भुला दो हमें कोई गम नहीं;<br/>
जिस दिन हमने आपको भुला दिया;<br/>
समझ लेना इस दुनियाँ में हम नहीं।
    आप हमें रुला दो हमें गम नहीं;
    आप हमें भुला दो हमें कोई गम नहीं;
    जिस दिन हमने आपको भुला दिया;
    समझ लेना इस दुनियाँ में हम नहीं।
  • शिकायत न करता ज़माने से कोई;<br/>
अगर मान जाता मनाने से कोई;<br/>
फिर किसी को याद करता न कोई;<br/>
अगर भूल जाता भुलाने से कोई।
    शिकायत न करता ज़माने से कोई;
    अगर मान जाता मनाने से कोई;
    फिर किसी को याद करता न कोई;
    अगर भूल जाता भुलाने से कोई।
  • याद रूकती नहीं रोक पाने से;<br/>
दिल मानता नहीं किसी के समझाने से;<br/>
रुक जाती हैं धड़कनें आपको भूल जाने से;<br/>
इसलिए आपको याद करते हैं ज़ीने के बहाने से।
    याद रूकती नहीं रोक पाने से;
    दिल मानता नहीं किसी के समझाने से;
    रुक जाती हैं धड़कनें आपको भूल जाने से;
    इसलिए आपको याद करते हैं ज़ीने के बहाने से।
  • कब तक खुद को रोक पाएगी;<br/>
बिना मेरे न वो रह पाएगी;<br/>
मैं बस जाऊंगा उसकी यादों में इस तरह;<br/>
कि फिर वो दूसरों को याद करना भूल जाएगी।
    कब तक खुद को रोक पाएगी;
    बिना मेरे न वो रह पाएगी;
    मैं बस जाऊंगा उसकी यादों में इस तरह;
    कि फिर वो दूसरों को याद करना भूल जाएगी।
  • प्यार वो हम को बेपनाह कर गये;<br/>
फिर ज़िंदगी में हम को तनहा कर गये; <br/>  
चाहत थी उनके इश्क़ में फ़नाह होने की;<br/>
पर वो लौट कर आने को भी मना कर गये।
    प्यार वो हम को बेपनाह कर गये;
    फिर ज़िंदगी में हम को तनहा कर गये;
    चाहत थी उनके इश्क़ में फ़नाह होने की;
    पर वो लौट कर आने को भी मना कर गये।
  • वक्त हर चीज़ मिटा देता है;<br/>
हसीन लम्हों को भुला देता है;<br/>
पर नहीं मिटा सकता दोस्तों की यादें;<br/>
क्योंकि वक्त खुद ही दोस्तों की याद दिला देता है।
    वक्त हर चीज़ मिटा देता है;
    हसीन लम्हों को भुला देता है;
    पर नहीं मिटा सकता दोस्तों की यादें;
    क्योंकि वक्त खुद ही दोस्तों की याद दिला देता है।