• यादों की कीमत वो क्या जाने;<br/>
जो खुद यादों को मिटा दिया करते हैं;<br/>
यादों का मतलब तो उनसे पूछो;<br/>
जो यादों के सहारे जिया करते हैं।
    यादों की कीमत वो क्या जाने;
    जो खुद यादों को मिटा दिया करते हैं;
    यादों का मतलब तो उनसे पूछो;
    जो यादों के सहारे जिया करते हैं।
  • मत इंतज़ार कराओ हमें इतना;<br/>
कि वक़्त के फैसले पर अफ़सोस हो जाये;<br/>
क्या पता कल तुम लौटकर आओ;<br/>
और हम खामोश हो जाएँ!
    मत इंतज़ार कराओ हमें इतना;
    कि वक़्त के फैसले पर अफ़सोस हो जाये;
    क्या पता कल तुम लौटकर आओ;
    और हम खामोश हो जाएँ!
  • सब के होते हुए भी तन्हाई मिलती है;<br/>
यादों में भी गम की परछाई मिलती है;<br/>
जितनी भी दुआ करते हैं किसी को पाने की;<br/>
उतनी ही ज्यादा जुदाई मिलती है!
    सब के होते हुए भी तन्हाई मिलती है;
    यादों में भी गम की परछाई मिलती है;
    जितनी भी दुआ करते हैं किसी को पाने की;
    उतनी ही ज्यादा जुदाई मिलती है!
  • जब याद तुम्हारी आती है;<br/>
पल-पल मुझको तड़पाती है;<br/>
तुम नाम वहाँ पर लेते हो;<br/>
आवाज यहाँ तक आती है!
    जब याद तुम्हारी आती है;
    पल-पल मुझको तड़पाती है;
    तुम नाम वहाँ पर लेते हो;
    आवाज यहाँ तक आती है!
  • खामोश रात के पहलू में सितारे न होते;<br />
इन रूखी आँखों में रगींन नज़ारे न होते;<br />
हम भी न करते याद आपको;<br />
अगर आप इतने प्यारे न होते।
    खामोश रात के पहलू में सितारे न होते;
    इन रूखी आँखों में रगींन नज़ारे न होते;
    हम भी न करते याद आपको;
    अगर आप इतने प्यारे न होते।
  • अगर आप होते भुलाने के क़ाबिल,<br/ >
तो होते कहां दिल लगाने के क़ाबिल!
    अगर आप होते भुलाने के क़ाबिल,
    तो होते कहां दिल लगाने के क़ाबिल!
  • दूरियां ही नज़दीक लाती हैं;<br />
दूरियां ही एक दूजे की याद दिलाती हैं;<br />
दूर होकर भी कोई करीब है कितना;<br />
दूरियां ही इस बात का एहसास दिलाती हैं।
    दूरियां ही नज़दीक लाती हैं;
    दूरियां ही एक दूजे की याद दिलाती हैं;
    दूर होकर भी कोई करीब है कितना;
    दूरियां ही इस बात का एहसास दिलाती हैं।
  • अजीब लगती है शाम कभी-कभी;<br />
जिंदगी लगती है बेजान कभी-कभी;<br />
समझ में आये तो हमें भी बताना कि;<br />
क्यों करती हैं यादें परेशान कभी-कभी।
    अजीब लगती है शाम कभी-कभी;
    जिंदगी लगती है बेजान कभी-कभी;
    समझ में आये तो हमें भी बताना कि;
    क्यों करती हैं यादें परेशान कभी-कभी।
  • ख़ुशी से दिल को आबाद करना;<br />
और गम से दिल को आज़ाद करना;<br />
हमारी बस इतनी गुजारिश है आपसे;<br />
कि हमें भी दिन में एक बार जरूर याद करना।
    ख़ुशी से दिल को आबाद करना;
    और गम से दिल को आज़ाद करना;
    हमारी बस इतनी गुजारिश है आपसे;
    कि हमें भी दिन में एक बार जरूर याद करना।
  • लम्हों की यादें संभाल के रखना;<br />
हम याद तो आयेंगे ही लेकिन - लौटकर नहीं।
    लम्हों की यादें संभाल के रखना;
    हम याद तो आयेंगे ही लेकिन - लौटकर नहीं।