• मौसम की बहार अच्छी हो;<br />
फूलों की कलियाँ कच्ची हो;<br />
हमारी ये दोस्ती पक्की हो;<br />
और आपकी हर सुबह अच्छी हो।<br />
शुभ दिवस।
    मौसम की बहार अच्छी हो;
    फूलों की कलियाँ कच्ची हो;
    हमारी ये दोस्ती पक्की हो;
    और आपकी हर सुबह अच्छी हो।
    शुभ दिवस।
  • सूरज की पहली किरण ख़ुशी दे आपको;<br />
दूसरी किरण हंसी दे आपको;<br />
तीसरी कामयाबी दे आपको;<br />
चौथी तंदरुस्ती दे आपको;<br />
इतना काफी है वर्ना गर्मी लग जायेगी आपको।<br />
शुभ दिवस।
    सूरज की पहली किरण ख़ुशी दे आपको;
    दूसरी किरण हंसी दे आपको;
    तीसरी कामयाबी दे आपको;
    चौथी तंदरुस्ती दे आपको;
    इतना काफी है वर्ना गर्मी लग जायेगी आपको।
    शुभ दिवस।
  • सुबह सुबह एक पैगाम देना है;<br />
आपकी सुबह को पहला सलाम देना है;<br />
गुजरे सारे दिन आपके खुशियों में;<br />
आपकी सुबह को एक खूबसूरत नाम देना है।<br />
शुभ दिवस दोस्तो।
    सुबह सुबह एक पैगाम देना है;
    आपकी सुबह को पहला सलाम देना है;
    गुजरे सारे दिन आपके खुशियों में;
    आपकी सुबह को एक खूबसूरत नाम देना है।
    शुभ दिवस दोस्तो।
  • मौसम की बहार अच्छी हो;<br/>
फूलों की कलियाँ कच्ची हो;<br/>
हमारी ये दोस्ती सच्ची हो;<br/>
रब तेरे से बस एक दुआ है;<br/>
कि मेरे यार की हर सुबह अच्छी हो!<br/>
शुभ दिवस!
    मौसम की बहार अच्छी हो;
    फूलों की कलियाँ कच्ची हो;
    हमारी ये दोस्ती सच्ची हो;
    रब तेरे से बस एक दुआ है;
    कि मेरे यार की हर सुबह अच्छी हो!
    शुभ दिवस!
  • अगर आप एक पेंसिल बनकर किसी की खुशियाँ नहीं लिख सकते हो;<br />
तो कोशिश करो कि एक अच्छी रबड़ बनके किसी के गम मिटा दो।<br />
शुभ दिन।
    अगर आप एक पेंसिल बनकर किसी की खुशियाँ नहीं लिख सकते हो;
    तो कोशिश करो कि एक अच्छी रबड़ बनके किसी के गम मिटा दो।
    शुभ दिन।
  • सितारों के बिस्तर से सूरज को जगाया है;<br />
चाँद को रात का मेहमान बनाया है;<br />
कोई इंतज़ार कर रहा है मेरे मैसेज का;<br />
ठंडी हवाओं ने मुझे अभी-अभी बताया है।<br />
शुभ दिवस।
    सितारों के बिस्तर से सूरज को जगाया है;
    चाँद को रात का मेहमान बनाया है;
    कोई इंतज़ार कर रहा है मेरे मैसेज का;
    ठंडी हवाओं ने मुझे अभी-अभी बताया है।
    शुभ दिवस।
  • हर सुबह की धूप कुछ याद दिलाती है;<br/>
हर महकती खुशबू एक जादू जगाती है;<br/>
जिंदगी कितनी भी ब्यस्त क्यों ना हो?<br/>
निगाहों पर सुबह सुबह अपनों की याद आ ही जाती है!<br/>
शुभ दिवस!
    हर सुबह की धूप कुछ याद दिलाती है;
    हर महकती खुशबू एक जादू जगाती है;
    जिंदगी कितनी भी ब्यस्त क्यों ना हो?
    निगाहों पर सुबह सुबह अपनों की याद आ ही जाती है!
    शुभ दिवस!
  • सुबह होते ही जब दुनिया आबाद होती है;<br />
आँख खुलते ही आपकी याद होती है;<br />
खुशियों के फूल हो आपके आँचल में;<br />
ये मेरे होंठो पर पहली फ़रियाद होती है।<br />
शुभ दिवस।
    सुबह होते ही जब दुनिया आबाद होती है;
    आँख खुलते ही आपकी याद होती है;
    खुशियों के फूल हो आपके आँचल में;
    ये मेरे होंठो पर पहली फ़रियाद होती है।
    शुभ दिवस।
  • ना किसी के 'आभाव' में जियो;<br />
ना किसी के 'प्रभाव' में जियो;<br />
ये जिंदगी आपकी है;<br />
बस इसे अपने मस्त 'स्वाभाव' में जियो।<br />
शुभ दिवस।
    ना किसी के 'आभाव' में जियो;
    ना किसी के 'प्रभाव' में जियो;
    ये जिंदगी आपकी है;
    बस इसे अपने मस्त 'स्वाभाव' में जियो।
    शुभ दिवस।
  • तेरी बेरुखी को भी रुतबा दिया हमने;<br />
तेरे प्यार का हर क़र्ज़ अदा किया हमने;<br />
मत सोच कि हम भूल गए है तुझे;<br />
आज भी खुदा से पहले याद किया है तुझे।<br />
शुभ दिन!
    तेरी बेरुखी को भी रुतबा दिया हमने;
    तेरे प्यार का हर क़र्ज़ अदा किया हमने;
    मत सोच कि हम भूल गए है तुझे;
    आज भी खुदा से पहले याद किया है तुझे।
    शुभ दिन!