• क्या हुआ जो हमारा रुपया डॉलर का मुकाबला नहीं कर पाया?<br/>
हमारा प्याज़ तो पूरी टक्कर दे रहा है!
    क्या हुआ जो हमारा रुपया डॉलर का मुकाबला नहीं कर पाया?
    हमारा प्याज़ तो पूरी टक्कर दे रहा है!
  • इंटरव्युअर: आपका चरित्र प्रमाण पत्र?<br/>
कैंडिडेट: सर वो तो लाना भूल गया!<br/>
इंटरव्युअर: कोई बात नहीं लाओ अपना मोबाइल दिखाओ!
    इंटरव्युअर: आपका चरित्र प्रमाण पत्र?
    कैंडिडेट: सर वो तो लाना भूल गया!
    इंटरव्युअर: कोई बात नहीं लाओ अपना मोबाइल दिखाओ!
  • आखिरकार वो मौसम आ ही गया जब गर्मा-गर्म गाजर का हलवाआपको अपनी ओर खींचेगा!<br/>
और ट्रेडमिल अपनी ओर!<br/>
पर अंत में जीत हलवे की ही होगी।
    आखिरकार वो मौसम आ ही गया जब गर्मा-गर्म गाजर का हलवाआपको अपनी ओर खींचेगा!
    और ट्रेडमिल अपनी ओर!
    पर अंत में जीत हलवे की ही होगी।
  • नाराज़गी भी एक खूबसूरत रिश्ता है!<br/>
जिससे भी होती है, वह व्यक्ति दिल और दिमाग, दोनों में रहता है!
    नाराज़गी भी एक खूबसूरत रिश्ता है!
    जिससे भी होती है, वह व्यक्ति दिल और दिमाग, दोनों में रहता है!
  • जो सुख में साथ दें वो रिश्ते होते हैं और जो दुःख में साथ हों वो फ़रिश्ते होते हैं!
    जो सुख में साथ दें वो रिश्ते होते हैं और जो दुःख में साथ हों वो फ़रिश्ते होते हैं!
  • आज का ज्ञान:<br/>
जिंदगी में एक बात हमेशा याद रखना कि प्लेटफोर्म पर पटरी की ओर झुक कर देखने से ट्रेन जल्दी नही आती है।
    आज का ज्ञान:
    जिंदगी में एक बात हमेशा याद रखना कि प्लेटफोर्म पर पटरी की ओर झुक कर देखने से ट्रेन जल्दी नही आती है।
  • उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान: हम भ्रस्टाचारियों को नही छोड़ेंगे!<br/>
उन्हें क्या पता अगर छोड़ दिया तो सरकार ही गिर जाएगी!
    उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान: हम भ्रस्टाचारियों को नही छोड़ेंगे!
    उन्हें क्या पता अगर छोड़ दिया तो सरकार ही गिर जाएगी!
  • कंधे पे हाथ रखे औऱ दिल हल्का हो उसे कहतें हैं, दोस्त;<br/>
कंधे पे हाथ रखे औऱ ज़ेब हल्की हो जाये, उसे कहतें हैं घरवाली!
    कंधे पे हाथ रखे औऱ दिल हल्का हो उसे कहतें हैं, दोस्त;
    कंधे पे हाथ रखे औऱ ज़ेब हल्की हो जाये, उसे कहतें हैं घरवाली!
  • बहुत कुछ ऐसा था जो जीवन की भाग-दौड़ में छोड़ दिया;<br/>
फिर मालूम हुआ कि जो छोड़ा था, वो ही जीवन था।<br/>
सुप्रभात!
    बहुत कुछ ऐसा था जो जीवन की भाग-दौड़ में छोड़ दिया;
    फिर मालूम हुआ कि जो छोड़ा था, वो ही जीवन था।
    सुप्रभात!
  • अगर दो लोग लड़ रहे हैं तो आपका फ़र्ज़ बनता है कि<br/>
नीचे बैठ जाओ ताकि पीछे वालों को भी दिखे!
    अगर दो लोग लड़ रहे हैं तो आपका फ़र्ज़ बनता है कि
    नीचे बैठ जाओ ताकि पीछे वालों को भी दिखे!