• 40 के बाद स्त्री अकल्मन्द हो जाती है, लेकिन वो अपने आप को 40 का माने तब ना!
    40 के बाद स्त्री अकल्मन्द हो जाती है, लेकिन वो अपने आप को 40 का माने तब ना!
  • एक अत्यंत दुखद समाचार:<br/>
31 दिसंबर को मंगलवार है!
    एक अत्यंत दुखद समाचार:
    31 दिसंबर को मंगलवार है!
  • कल मेरी दादी ने मुझे आलू बोला था लेकिन मुझे गुस्सा नहीं आया,<br/>
क्योंकि आखिर PO_TA_TO उन्ही का हूँ!
    कल मेरी दादी ने मुझे आलू बोला था लेकिन मुझे गुस्सा नहीं आया,
    क्योंकि आखिर PO_TA_TO उन्ही का हूँ!
  • मुर्गा 120 प्याज़ 120!<br/>
मुर्गे में प्याज़ डालें या प्याज़ में मुर्गा डालें, समझ नहीं आ रहा है!
    मुर्गा 120 प्याज़ 120!
    मुर्गे में प्याज़ डालें या प्याज़ में मुर्गा डालें, समझ नहीं आ रहा है!
  • ये जो लोग रोज नहा के पानी बर्बाद करते है!<br/>
उन्हे ही अगले जनम मे ऊंट बना के रेगिस्तान मे छोड दिया जाता है!
    ये जो लोग रोज नहा के पानी बर्बाद करते है!
    उन्हे ही अगले जनम मे ऊंट बना के रेगिस्तान मे छोड दिया जाता है!
  • आज का ज्ञान:<br/>
आदमी `सलून` से आकर नहाता है, जबकि...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
औरत `ब्यूटी पार्लर` से आकर मुँह भी नही धोती!
    आज का ज्ञान:
    आदमी "सलून" से आकर नहाता है, जबकि...
    .
    .
    .
    .
    .
    औरत "ब्यूटी पार्लर" से आकर मुँह भी नही धोती!
  • मोबाइल कंपनियों ने भी अपने यूजर्स को गीता का सार दिया है।<br/>
दुनिया में कुछ भी शाश्वत नहीं है, और परिवर्तन ही संसार का नियम है।
    मोबाइल कंपनियों ने भी अपने यूजर्स को गीता का सार दिया है।
    दुनिया में कुछ भी शाश्वत नहीं है, और परिवर्तन ही संसार का नियम है।
  • अभी मैं बैठा-बैठा सोच ही रहा था कि क्या हूँ मैं, कौनहूं मैं?<br/>
तभी पीछे से मम्मी की आवाज आई... निक्कमा है तू और कामचोर भी!
    अभी मैं बैठा-बैठा सोच ही रहा था कि क्या हूँ मैं, कौनहूं मैं?
    तभी पीछे से मम्मी की आवाज आई... निक्कमा है तू और कामचोर भी!
  • जिस गति से मीठा कम खाने वाले लोगों की तादाद बढ़ती जा रही है वो दिन दूर नहीं जब...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
`गुलाब जामुन`भी मसालेदार बनने लगेंगे!
    जिस गति से मीठा कम खाने वाले लोगों की तादाद बढ़ती जा रही है वो दिन दूर नहीं जब...
    .
    .
    .
    .
    .
    "गुलाब जामुन"भी मसालेदार बनने लगेंगे!
  • समय और पेट कब निकल जाता है पता ही नहीं चलता।<br/>
फिर न पेट अपनी जगह वापस आ पाता है न ही समय।
    समय और पेट कब निकल जाता है पता ही नहीं चलता।
    फिर न पेट अपनी जगह वापस आ पाता है न ही समय।