Join our FaceBook Group
नीचे गिरे सूखे पत्तों पर अदब से चलना ज़रा,<br/>
कभी कड़ी धूप में तुमने इनसे ही पनाह माँगी थी।
नीचे गिरे सूखे पत्तों पर अदब से चलना ज़रा,
कभी कड़ी धूप में तुमने इनसे ही पनाह माँगी थी।
जीत की आदत अच्छी होती है लेकिन कुछ रिश्तों में हार जाना बेहतर होता है।
जिंदगी मे चुनौतियाँ हर किसी के हिस्से नहीं आती,
क्योंकि किस्मत भी किस्मत वालों को ही आज़माती है।
ज़रूरी नहीं कि हर समय लबों पर भगवान का नाम आये,
वो लम्हा भी भक्ति से कम नहीं जब इंसान इंसान के काम आये।
कर्मों से ही पहचान होती है इंसानों की क्योंकि महेंगे कपडे तो 'पुतले' भी पहनते है दुकानों में।
कर्मों से ही पहचान होती है इंसानों की क्योंकि महेंगे कपडे तो 'पुतले' भी पहनते है दुकानों में।
इंसान के अंदर जो समा कर रहे वह स्वाभिमान है और जो बाहर छलके वो अभिमान है।
इंसान के अंदर जो समा कर रहे वह स्वाभिमान है और जो बाहर छलके वो अभिमान है।
कभी संघर्ष को ऐसे पढ़ कर देखिये<br/>
'संग' + 'हर्ष'<br/>
बस फिर दुनिया बदल जाएगी।
कभी संघर्ष को ऐसे पढ़ कर देखिये
'संग' + 'हर्ष'
बस फिर दुनिया बदल जाएगी।
सांप घर पर दिखाई दे तो लोग डंडों से मारते हैं और जब शिव लिंग पर दिखाई दे तो दूध पिलाते हैं।
लोग सम्मान आप का नहीं, आप के स्थान और स्थिति का करते हैं।
कमाई छोटी या बड़ी हो सकती है पर रोटी की साईज़ लगभग  सब घर में एक जैसी ही होती है।
कमाई छोटी या बड़ी हो सकती है पर रोटी की साईज़ लगभग सब घर में एक जैसी ही होती है।
पैसा इंसान को ऊपर ले जा सकता है;<br/>
लेकिन इंसान पैसा ऊपर नही ले जा सकता।
पैसा इंसान को ऊपर ले जा सकता है;
लेकिन इंसान पैसा ऊपर नही ले जा सकता।