Join our FaceBook Group
जब लगने लगे कि लक्ष्य हासिल नहीं  पायेगा तो लक्ष्य को नहीं अपने प्रयासों को बदलो।
जब लगने लगे कि लक्ष्य हासिल नहीं पायेगा तो लक्ष्य को नहीं अपने प्रयासों को बदलो।
शिकायत करके समस्याओं से बचा नहीं जा सकता किन्तु जिम्मेदारी उठाकर समस्याओं को कम अवशय किया जा सकता है।
दौलत भी क्या चीज़ है, जब आती है तो इंसान खुद को भूल जाता है और जब जाती है तो ज़माना उसको भूल जाता है।
दौलत भी क्या चीज़ है, जब आती है तो इंसान खुद को भूल जाता है और जब जाती है तो ज़माना उसको भूल जाता है।
भूखा पेट, खाली जेब और झूठा प्रेम इंसान को बहुत कुछ सिखा जाता है।
रिश्ते मौके के नहीं, भरोसे के मोहताज होते हैं।
रिश्ते मौके के नहीं, भरोसे के मोहताज होते हैं।
किसी के दिल को चोट पहुँचा कर माफ़ी माँगना बहुत आसान है लेकिन खुद चोट खा कर किसी को माफ़ करना बहुत मुश्किल है।
जब से पैसों का निर्माण हुआ है, तब से विश्वास और रिश्तों की कीमत घट गयी है।
जब से पैसों का निर्माण हुआ है, तब से विश्वास और रिश्तों की कीमत घट गयी है।
हमारा सलाहकार कौन है, यह बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि,<br/>
दुर्योधन शकुनि से सलाह लेता था और अर्जुन श्री कृष्ण से।
हमारा सलाहकार कौन है, यह बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि,
दुर्योधन शकुनि से सलाह लेता था और अर्जुन श्री कृष्ण से।
ज़िन्दगी में अगर बुरा वक़्त नहीं आता तो अपनों में छुपे हुए गैर और गैरों में छुपे हुए अपने कभी नज़र नहीं आते।
उन्ही को मिली सारी ऊँचाइयाँ, जो गिरते रहे और संभलते रहे।
उन्ही को मिली सारी ऊँचाइयाँ, जो गिरते रहे और संभलते रहे।