Join our FaceBook Group
कुकिंग शो वाले जहाँ पहले कहते थे 'नमक स्वादानुसार' अब कहते हैं,<br/>
'नमक स्वादानुसार और प्याज़ औकातानुसार'।
कुकिंग शो वाले जहाँ पहले कहते थे 'नमक स्वादानुसार' अब कहते हैं,
'नमक स्वादानुसार और प्याज़ औकातानुसार'।
अपना आधा देश तो EX, SEX और SENSEX के चक्कर में ही बर्बाद हो रहा है।
अपना आधा देश तो EX, SEX और SENSEX के चक्कर में ही बर्बाद हो रहा है।
अमीर वो नही जो महंगी दारु पीते हैं, अरे अमीर तो वो है जो...
.
.
.
.
.
.
.
.
साथ में प्याज का सलाद खाते हैं।
जो लोग गाडी का पेट्रोल टैंक फुल भरवा के खुद को अमीर समझ रहे हैं, उन्हें बता दूँ कि मैंने अभी-अभी प्याज़ के परांठे खाये हैं।
जो लोग गाडी का पेट्रोल टैंक फुल भरवा के खुद को अमीर समझ रहे हैं, उन्हें बता दूँ कि मैंने अभी-अभी प्याज़ के परांठे खाये हैं।
मैं कोई नक्शा, ग्लोब, सेटेलाइट, नासा को नहीं मानता। मैं खुद घूमकर तय करूँगा कि दुनिया गोल है।<br/>
~ नरेंदर मोदी
मैं कोई नक्शा, ग्लोब, सेटेलाइट, नासा को नहीं मानता। मैं खुद घूमकर तय करूँगा कि दुनिया गोल है।
~ नरेंदर मोदी
आज का ज्ञान:
पानी में गयी भैंस और शॉपिंग मॉल में गयी औरत कभी जल्दी बाहर नहीं आती।
एक जरुरी सूचना:<br/>
जो अपने प्रेमी / प्रेमिका को 'मेरा बेबी' या 'मेरा बच्चा' कह कर बुलाते हैं वो रविवार को उन्हें पोलियो की बूंदे पिलाना ना भूलें।
एक जरुरी सूचना:
जो अपने प्रेमी / प्रेमिका को 'मेरा बेबी' या 'मेरा बच्चा' कह कर बुलाते हैं वो रविवार को उन्हें पोलियो की बूंदे पिलाना ना भूलें।
टीचर: छोटी मधुमक्खी तुम्हें क्या देती है?<br/>
चिन्टू: शहद!<br/>
टीचरल: पतली बकरी?
मोनू: दूध!<br/>
टीचर: और मोटी भैंस?<br/>
बंटी: होमवर्क!<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
दे थप्पड़ पे थप्पड़...
टीचर: छोटी मधुमक्खी तुम्हें क्या देती है?
चिन्टू: शहद!
टीचरल: पतली बकरी? मोनू: दूध!
टीचर: और मोटी भैंस?
बंटी: होमवर्क!
.
.
.
दे थप्पड़ पे थप्पड़...
आज का ज्ञान:
शादी करना इसलिए भी जरुरी है क्योकि...
.
.
.
.
.
हम पूरी ज़िन्दगी बस अपने परिवार वालो की गाली नहीं सुनकर रह सकते।
एक ज़रूरी सूचना:<br/>
अगर कोई अनजान लड़की आपको कोई 'गिफ्ट' दे तो कृपया उसे न लें।<br/>
क्योकि उसमे 'राखी' हो सकती है। आपकी ज़रा सी लापरवाही आपको 'भाई' बना सकती है।<br/>
जनहित में जारी!
एक ज़रूरी सूचना:
अगर कोई अनजान लड़की आपको कोई 'गिफ्ट' दे तो कृपया उसे न लें।
क्योकि उसमे 'राखी' हो सकती है। आपकी ज़रा सी लापरवाही आपको 'भाई' बना सकती है।
जनहित में जारी!