Join our FaceBook Group
जिंदगी मेँ सुखी होने का एक रास्ता है<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
ये फोन बेच के<br/>
ये फोन ले लो!
जिंदगी मेँ सुखी होने का एक रास्ता है
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
ये फोन बेच के
ये फोन ले लो!
हम जब भी पलटकर अपना बचपन देखते हैं तो, ऐसा क्यों लगता है कि...<br/>
चप्पल का आविष्कार पहनने के लिए नहीं बल्कि हमें पीटने के लिए ही किया गया था।
हम जब भी पलटकर अपना बचपन देखते हैं तो, ऐसा क्यों लगता है कि...
चप्पल का आविष्कार पहनने के लिए नहीं बल्कि हमें पीटने के लिए ही किया गया था।
ख़ुशी और अफ़सोस की मिक्स फीलिंग तब आती है जब...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
स्कूल में साथ पढ़ी हुई लड़की बोल दे कि मैं उन दिनों तुमको बहुत पसंद करती थी।
ख़ुशी और अफ़सोस की मिक्स फीलिंग तब आती है जब...
.
.
.
.
.
.
.
.
स्कूल में साथ पढ़ी हुई लड़की बोल दे कि मैं उन दिनों तुमको बहुत पसंद करती थी।
गर्लफ्रेंड से ब्रेकअप होने के बाद उसके बॉयफ्रेंड ने उससे दिल छू जाने वाली बात कही...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
बहन, गिफ्ट तो वापिस करती जा। तेरी भाभी को क्या दूँगा?
गर्लफ्रेंड से ब्रेकअप होने के बाद उसके बॉयफ्रेंड ने उससे दिल छू जाने वाली बात कही...
.
.
.
.
.
बहन, गिफ्ट तो वापिस करती जा। तेरी भाभी को क्या दूँगा?
कल एक बहुत ही बुरा ख्वाब देखा, ख्वाब में किसी ने कहा,<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
'तेरा नेट बंद हो गया।' कसम से जान ही चली गयी थी।
कल एक बहुत ही बुरा ख्वाब देखा, ख्वाब में किसी ने कहा,
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
"तेरा नेट बंद हो गया।" कसम से जान ही चली गयी थी।
चीन में जब बच्चा पैदा होता है तो वो बाप या माँ पर नहीं, पूरे चीन पर जाता है।<br/>
इसे कहते हैं देशभक्ति!
चीन में जब बच्चा पैदा होता है तो वो बाप या माँ पर नहीं, पूरे चीन पर जाता है।
इसे कहते हैं देशभक्ति!
जितना गौर से लोग टकराने के बाद एक दूसरे को देखते हैं उतनी गौर से अगर पहले ही देख लें, तो टक्कर ही नहीं होती।
जितना गौर से लोग टकराने के बाद एक दूसरे को देखते हैं उतनी गौर से अगर पहले ही देख लें, तो टक्कर ही नहीं होती।
'मोटापा' और 'गंजापन' दो ऐसी चीजें हैं, जिसे दूसरे के पास ज्यादा देखकर जलन नहीं, बल्कि खुशी होती है।<br/>

चाणक्य तो रहे नहीं, सोचा मैं ही बाता दूं।
"मोटापा" और "गंजापन" दो ऐसी चीजें हैं, जिसे दूसरे के पास ज्यादा देखकर जलन नहीं, बल्कि खुशी होती है।
चाणक्य तो रहे नहीं, सोचा मैं ही बाता दूं।
अब तो खैर लोग इतना नहीं रोते वरना, पहले लोग लड़की की विदाई के वक्त इतना रोते थे कि...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
दूल्हा भी कह देता था, 'रख लो भाई... नहीं चाहिए!'
अब तो खैर लोग इतना नहीं रोते वरना, पहले लोग लड़की की विदाई के वक्त इतना रोते थे कि...
.
.
.
.
.
.
दूल्हा भी कह देता था, "रख लो भाई... नहीं चाहिए!"
तमन्ना थी कि तेरे हाथों का रुमाल बनूँ लेकिन<br/>
तेरी जुकाम देखा तो इरादा बदल गया।
तमन्ना थी कि तेरे हाथों का रुमाल बनूँ लेकिन
तेरी जुकाम देखा तो इरादा बदल गया।