Join our FaceBook Group
भारी मशक्कत के बाद वॉशिंग मशीन को ठीक करके खुद को मैकेनिक मानने के साथ ये भी समझ आया कि कैसे हर सफल पुरुष के पीछे एक स्त्री का हाथ होता है।
भारी मशक्कत के बाद वॉशिंग मशीन को ठीक करके खुद को मैकेनिक मानने के साथ ये भी समझ आया कि कैसे हर सफल पुरुष के पीछे एक स्त्री का हाथ होता है।
वो आज भी सर्दी में ठिठुर रही है दोस्तों;<br/>
मैंने एक बार बस इतना कहा कि स्वेटर के बिना कैटरीना लगती हो।
वो आज भी सर्दी में ठिठुर रही है दोस्तों;
मैंने एक बार बस इतना कहा कि स्वेटर के बिना कैटरीना लगती हो।
सो कर उठने वाले लोग या तो खूबसूरत दिखते हैं या फिर अजीब से।<br/>
सिर्फ टकले ही ऐसे हैं जो सोने से पहले और सो कर उठने के बाद भी एक जैसे दिखते हैं।
सो कर उठने वाले लोग या तो खूबसूरत दिखते हैं या फिर अजीब से।
सिर्फ टकले ही ऐसे हैं जो सोने से पहले और सो कर उठने के बाद भी एक जैसे दिखते हैं।
इंसान की अदभुत इच्छा:<br/>
पत्नी अच्छी एवं संस्कारी होनी चाहिए और पड़ोसन खुले विचारों की।
इंसान की अदभुत इच्छा:
पत्नी अच्छी एवं संस्कारी होनी चाहिए और पड़ोसन खुले विचारों की।
फ़ास्ट फ़ूड खाने से आदमी फ़ास्ट नहीं हो जाता। स्मार्ट फ़ोन रखने से स्मार्ट नहीं हो जाता।<br/>
लेकिन लूज मोशन होने से 'लूज' ज़रूर हो जाता है।<br/>
दिवाली की बची हुई मिठाई संभाल के खाना रे बाबा।
फ़ास्ट फ़ूड खाने से आदमी फ़ास्ट नहीं हो जाता। स्मार्ट फ़ोन रखने से स्मार्ट नहीं हो जाता।
लेकिन लूज मोशन होने से "लूज" ज़रूर हो जाता है।
दिवाली की बची हुई मिठाई संभाल के खाना रे बाबा।
भले ही तुम्हारी गर्लफ्रेंड बला की खूबसूरत क्यों न हो,<br/>
माँ को तो वो बस बंदरिया ही नज़र आती है।
भले ही तुम्हारी गर्लफ्रेंड बला की खूबसूरत क्यों न हो,
माँ को तो वो बस बंदरिया ही नज़र आती है।
एक निवेदन:<br/>
अब दिवाली बीत गयी है तो पटाके ना छोड़ें, अपने घर वालों से भी मिलवाएं और शादी की बात करें।
एक निवेदन:
अब दिवाली बीत गयी है तो पटाके ना छोड़ें, अपने घर वालों से भी मिलवाएं और शादी की बात करें।
हमारे कमीनेपन की हद मत पूछ गालिब,<br/>
हम तो बचपन में दोसत को साईकल के आगे बिठाकर,जान बूझकर उसकी ऊंगलियां ब्रेक में भींच दिया करते थे।
हमारे कमीनेपन की हद मत पूछ गालिब,
हम तो बचपन में दोसत को साईकल के आगे बिठाकर,जान बूझकर उसकी ऊंगलियां ब्रेक में भींच दिया करते थे।
और वो ऐतिहासिक मौक़ा आने वाला है जब पूरे घरवाले राकेट छोड़ने के लिए बोतल की तलाश में तुम्हारी तरफ उम्मीद से देखेंगे।
और वो ऐतिहासिक मौक़ा आने वाला है जब पूरे घरवाले राकेट छोड़ने के लिए बोतल की तलाश में तुम्हारी तरफ उम्मीद से देखेंगे।
दारु का ठेका और पतंजलि की दुकान भारत के किसी भी कोने में मिल सकती हैं।
दारु का ठेका और पतंजलि की दुकान भारत के किसी भी कोने में मिल सकती हैं।