Join our FaceBook Group
दौलत छोड़ी दुनिया छोड़ी सारा खज़ाना छोड़ दिया;
सतगुरु के प्यार में दीवानों ने राज घराना छोड़ दिया;
दरवाज़े पे जब लिखा हमने नाम हमारे सतगुरु का;
मुसीबत ने दरवाज़े पे आना छोड़ दिया।
भगवान कहते हैं,
'तलाश ना कर मुझे ज़मीन-ओ-आसमान की गर्दिशों में, अगर तेरे दिल में नहीं तो कहीं नहीं हूँ मैं।'
कान्हा तेरे वादे तू ही जाने, मेरा तो आज भी वही कहना है,<br/>
जिस दिन साँस टूटेगी, उस दिन ही तेरी आस छूटेगी।
कान्हा तेरे वादे तू ही जाने, मेरा तो आज भी वही कहना है,
जिस दिन साँस टूटेगी, उस दिन ही तेरी आस छूटेगी।
'श्याम' से मोहब्बत कोई बारिश का नाम नहीं<br/>
जो बरसे और थम जाए।<br/>
'श्याम' से मोहब्बत सूरज भी नहीं<br/> 
जो चमके और डूब जाए।<br/>
'श्याम' से मोहब्बत तो नाम है सांस का<br/> 
जो चले तो जिदंगी चले और रूके तो मौत बन जाए।<br/>
जय जय श्री राधे - हरे कृष्णा!
'श्याम' से मोहब्बत कोई बारिश का नाम नहीं
जो बरसे और थम जाए।
'श्याम' से मोहब्बत सूरज भी नहीं
जो चमके और डूब जाए।
'श्याम' से मोहब्बत तो नाम है सांस का
जो चले तो जिदंगी चले और रूके तो मौत बन जाए।
जय जय श्री राधे - हरे कृष्णा!
मुझे अक्ल उतनी ही देना मेरे साहिब,<br/>
कि कभी दखल ना कर सकूँ तेरी रज़ा में।
मुझे अक्ल उतनी ही देना मेरे साहिब,
कि कभी दखल ना कर सकूँ तेरी रज़ा में।
सुख मै बहु संगी भए दुख मै संगि न कोई।।<br/>
कहु नानक हरि भजु मना अंति सहाई होई।।
सुख मै बहु संगी भए दुख मै संगि न कोई।।
कहु नानक हरि भजु मना अंति सहाई होई।।
तू नहीं तेरे अंदर बैठे रब्ब से मोहब्बत है मुझे,<br/>
तू तो बस एक जरिया है मेरी इबादत का।
तू नहीं तेरे अंदर बैठे रब्ब से मोहब्बत है मुझे,
तू तो बस एक जरिया है मेरी इबादत का।
तेरी मोहब्बत में साँवरे एक बात सीखी है,<br/>
तेरी भक्ति के बिना ये सारी दुनिया फीकी है,<br/>
तेरा दर ढूंढ़ते - ढूंढ़ते ज़िन्दगी की शाम हो गयी,<br/>
जब तेरा दर देखा मेरे साँवरे तो ज़िंदगी ही तेरे नाम हो गयी।<br/>
बोलो राधे राधे!
तेरी मोहब्बत में साँवरे एक बात सीखी है,
तेरी भक्ति के बिना ये सारी दुनिया फीकी है,
तेरा दर ढूंढ़ते - ढूंढ़ते ज़िन्दगी की शाम हो गयी,
जब तेरा दर देखा मेरे साँवरे तो ज़िंदगी ही तेरे नाम हो गयी।
बोलो राधे राधे!
सतगुरु हैं तो बसंत है;<br/>
सतगुरु नहीं तो बस अंत है।
सतगुरु हैं तो बसंत है;
सतगुरु नहीं तो बस अंत है।
आँधियों से न बुझूं ऐसा उजाला हो जाऊँ;<br/>
तू नवाज़े तो जुगनू से सितारा हो जाऊँ;<br/>
एक बून्द हूँ मुझे ऐसी फितरत दे मेरे मालिक;<br/>
कोई प्यासा दिखे तो दरिया हो जाऊँ।
आँधियों से न बुझूं ऐसा उजाला हो जाऊँ;
तू नवाज़े तो जुगनू से सितारा हो जाऊँ;
एक बून्द हूँ मुझे ऐसी फितरत दे मेरे मालिक;
कोई प्यासा दिखे तो दरिया हो जाऊँ।