Join our FaceBook Group
हे मेरे दाता हम अगर वो न कर सके जो आप चाहते हैं,<br/>
तो कम से कम हमें इतनी समझ ज़रूर देना,<br/>
कि हम वो तो कतई न करें जो आप कभी नहीं चाहते हैं।
हे मेरे दाता हम अगर वो न कर सके जो आप चाहते हैं,
तो कम से कम हमें इतनी समझ ज़रूर देना,
कि हम वो तो कतई न करें जो आप कभी नहीं चाहते हैं।
धनगुरु नानक रखी लाज,<br/>
किसी दे ना होविये मोहताज़,<br/>
सानु बस तेरी ही आस,<br/>
सतगुरु रखना चरना दे पास।
धनगुरु नानक रखी लाज,
किसी दे ना होविये मोहताज़,
सानु बस तेरी ही आस,
सतगुरु रखना चरना दे पास।
इंसान मायूस इसलिए होता है क्योंकि वह परमात्मा को राज़ी करने की बजाये लोगों को राज़ी करने में लगा रहता है।<br/>
वह भूल जाता है कि रब राज़ी तो सब राज़ी।
इंसान मायूस इसलिए होता है क्योंकि वह परमात्मा को राज़ी करने की बजाये लोगों को राज़ी करने में लगा रहता है।
वह भूल जाता है कि रब राज़ी तो सब राज़ी।
साधू कहावन कठिन है, लम्बा पेड़ खजूर। <br/>
चढ़े तो चखे प्रेम रस, गिरे तो चकनाचूर।<br/>
~Sant  Kabir Das
साधू कहावन कठिन है, लम्बा पेड़ खजूर।
चढ़े तो चखे प्रेम रस, गिरे तो चकनाचूर।
~Sant Kabir Das
ज़रूरी नहीं कि हर समय लबों पर भगवान का नाम आये,<br/>
वो लम्हा भी भक्ति से कम नहीं जब इंसान इंसान के काम आये।
ज़रूरी नहीं कि हर समय लबों पर भगवान का नाम आये,
वो लम्हा भी भक्ति से कम नहीं जब इंसान इंसान के काम आये।
स्वर्ग का सपना छोड़ दो,<br/>
नरक का डर छोड़ दो,<br/>
कौन जाने क्या पाप, क्या पुण्य,<br/>
बस किसी का दिल न दुखे अपने स्वार्थ के लिए,<br/>
बाक़ी सब कुदरत पर छोड़ दो।
स्वर्ग का सपना छोड़ दो,
नरक का डर छोड़ दो,
कौन जाने क्या पाप, क्या पुण्य,
बस किसी का दिल न दुखे अपने स्वार्थ के लिए,
बाक़ी सब कुदरत पर छोड़ दो।
हे प्रभु,<br/> 
मनुष्य होना मेरा भाग्य है -<br/>
पर आप से जुड़े रहना मेरा सौभाग्य है।
हे प्रभु,
मनुष्य होना मेरा भाग्य है -
पर आप से जुड़े रहना मेरा सौभाग्य है।
भगवान के नाम पर काम शुरू करो।<br/>
भगवान की मदद के साथ काम करो।<br/>
भगवान को धन्यवाद के साथ काम संपूर्ण करो।<br/>
क्योंकि भगवान ही फैसला करता है, वही सब कुछ देता है और आपके जीवन में सब कुछ संभव बना देता है।
भगवान के नाम पर काम शुरू करो।
भगवान की मदद के साथ काम करो।
भगवान को धन्यवाद के साथ काम संपूर्ण करो।
क्योंकि भगवान ही फैसला करता है, वही सब कुछ देता है और आपके जीवन में सब कुछ संभव बना देता है।
ज़रूर कोई तो लिखता होगा कागज़ और पत्थर का भी नसीब; 
वरना यह मुमकिन नहीं कि कोई पत्थर ठोकर खाए और कोई पत्थर भगवान बन जाये, 
और कोई कागज़ रद्दी और कोई कागज़ गीता और कुरान बन जाये।
ज़रूर कोई तो लिखता होगा कागज़ और पत्थर का भी नसीब;
वरना यह मुमकिन नहीं कि कोई पत्थर ठोकर खाए और कोई पत्थर भगवान बन जाये,
और कोई कागज़ रद्दी और कोई कागज़ गीता और कुरान बन जाये।
बहुत सुन्दर शब्द जो एक गुरुद्वारे के दरवाज़े पर लिखे थे :
सेवा करनी है तो, घड़ी मत देखो !
लंगर छ्कना है तो, स्वाद मत देखो !
सत्संग सुनाना है तो, जगह मत देखो !
बिनती करनी है तो, स्वार्थ मत देखो !
समर्पण करना है तो, खर्चा मत देखो !
रहमत देखनी है तो, जरूरत मत देखो !!