आध्यात्मिक Hindi SMS

आँसू पोंछ कर हँसाया है मुझे;<br/>
मेरी गलती पर भी सीने से लगाया है मुझे;<br/>
ऐसे गुरु पर कैसे प्यार ना हो;<br/>
जिस गुरु ग्रंथ साहिब जी ने जीना सिखाया है मुझे।
आँसू पोंछ कर हँसाया है मुझे;
मेरी गलती पर भी सीने से लगाया है मुझे;
ऐसे गुरु पर कैसे प्यार ना हो;
जिस गुरु ग्रंथ साहिब जी ने जीना सिखाया है मुझे।
सुख भी बहुत हैं, परेशानियां भी बहुत हैं,<br/>

ज़िन्दगी में लाभ हैं, तो हानियां भी बहुत हैं,<br/>

क्या हुआ जो प्रभु ने हमें थोड़े गम दे दिए,<br/>

उस की हम पर मेहरबानियाँ भी बहुत हैं।
सुख भी बहुत हैं, परेशानियां भी बहुत हैं,
ज़िन्दगी में लाभ हैं, तो हानियां भी बहुत हैं,
क्या हुआ जो प्रभु ने हमें थोड़े गम दे दिए,
उस की हम पर मेहरबानियाँ भी बहुत हैं।
इंसान जीवन में रिश्ते नातों को निभाता चला गया;<br/>
जीवन की इस दौड़ में खुद को भुलाता चला गया;<br/>
बंदगी भी ना कर पाया उस खुदा की रहमतों की;<br/>
खाली हाथ आया था और मुठी बंद कर चला गया।
इंसान जीवन में रिश्ते नातों को निभाता चला गया;
जीवन की इस दौड़ में खुद को भुलाता चला गया;
बंदगी भी ना कर पाया उस खुदा की रहमतों की;
खाली हाथ आया था और मुठी बंद कर चला गया।
प्रभु के आगे जो झुकता है वो सबको अच्छा लगता है;
लेकिन, जो सबके आगे झुकता है वो प्रभु को अच्छा लगता है।
दौलत छोड़ी दुनिया छोड़ी सारा खज़ाना छोड़ दिया;
वाहेगुरू के प्यार में दीवानों ने राज घराना छोड़ दिया; दरवाज़े पे जब लिखा हमने नाम हमारे वाहेगुरू का;
मुसीबत ने दरवाज़े पे आना छोड़ दिया।
सिमरन कर लोगे तुम जितना, उतना ही अज्ञान मिटेगा;
सुख-दुःख तुमको एक लगेंगे, जब सच्चा वो ज्ञान मिलेगा;
जब औरों के काम आओगे. तब-तब जीवन सफल रहेगा;
उससे मिलना फिर मुमकिन है, जब औरों का ध्यान रहेगा।
हिम्मत ना हारिये, उस मालिक को न बिसारिये;<br/>
मुश्किलों और कठिनाइयों का अगर करना है खात्मा;<br/>
तो हर वक़्त कहते रहो तेरा शुक्र है परमात्मा, तेरा शुक्र है परमात्मा।
हिम्मत ना हारिये, उस मालिक को न बिसारिये;
मुश्किलों और कठिनाइयों का अगर करना है खात्मा;
तो हर वक़्त कहते रहो तेरा शुक्र है परमात्मा, तेरा शुक्र है परमात्मा।
मैं रोज़ गुनाह करता हूँ और खुदा मुझे माफ़ कर देता है;<br/>
मैं मज़बूर आदत से हूँ और वो मज़बूर अपनी रेहमत से है।
मैं रोज़ गुनाह करता हूँ और खुदा मुझे माफ़ कर देता है;
मैं मज़बूर आदत से हूँ और वो मज़बूर अपनी रेहमत से है।
तकदीर पे लिखे पर शिकवा न कर;
तू अभी इतना समझदार नहीं कि रब के इरादे समझ सके।
इस दश्त के सेहरा को समंदर कर दे;<br/>
या मेरी आँख के हर अश्क को पत्थर कर दे;<br/>
या खुदा मैं और कुछ नहीं मांगता तुझ से;<br/>
मेरी चादर मेरे पैरों के बराबर कर दे।
इस दश्त के सेहरा को समंदर कर दे;
या मेरी आँख के हर अश्क को पत्थर कर दे;
या खुदा मैं और कुछ नहीं मांगता तुझ से;
मेरी चादर मेरे पैरों के बराबर कर दे।

Quotes

यह सच है कि पानी में तैरने वाले ही डूबते हैं, किनारे पर खड़े रहने वाले नहीं, मगर किनारे पर खड़े रहने वाले कभी तैरना भी नहीं सीख पाते।

Trivia

More than twice as much chocolate is sold for Halloween than for Valentines Day.

Graffiti

A man needs a mistress just to break the monogamy.