जिंदगी Hindi SMS

वक़्त बदल जाता है इंसान बदल जाते हैं;<br/>
वक़्त वक़्त पे रिश्तों के अंदाज़ बदल जाते हैं;<br/>
कभी कह दिया अपना तो कभी कर दिया पराया;<br/>
दिन और रात की तरह ज़िंदगी के एहसास बदल जाते हैं।
वक़्त बदल जाता है इंसान बदल जाते हैं;
वक़्त वक़्त पे रिश्तों के अंदाज़ बदल जाते हैं;
कभी कह दिया अपना तो कभी कर दिया पराया;
दिन और रात की तरह ज़िंदगी के एहसास बदल जाते हैं।
ज़िंदगी पल-पल ढलती है;
जैसे रेत बंद मुट्ठी से फिसलती है;
शिकवे कितने भी हो हर पल;
फिर भी हँसते रहना;
क्योंकि ये ज़न्दगी जैसी भी है,
बस एक बार ही मिलती है।
ज़िंदगी ज़ख्मों से भरी है;<br/>
वक़्त को मरहम बनाना सीख लो;<br/>
हारना तो है मौत के सामने एक दिन;<br/>
फ़िलहाल ज़िंदगी से जीतना सीख लो।
ज़िंदगी ज़ख्मों से भरी है;
वक़्त को मरहम बनाना सीख लो;
हारना तो है मौत के सामने एक दिन;
फ़िलहाल ज़िंदगी से जीतना सीख लो।
जब ज़िंदगी हंसाये तो समझना कि अच्छे कर्मों का फल मिल रहा है;<br/>
और जब ज़िंदगी रुलाये तो समझ लेना कि अच्छे कर्म करने का वक़्त आ गया है।
जब ज़िंदगी हंसाये तो समझना कि अच्छे कर्मों का फल मिल रहा है;
और जब ज़िंदगी रुलाये तो समझ लेना कि अच्छे कर्म करने का वक़्त आ गया है।
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
एक यही किस्सा मशहूर है ज़िंदगी का;
बीते हुए पल कभी लौट कर नहीं आते;
यही सबसे बड़ा कसूर है ज़िंदगी का।
ज़िंदगी जब भी आपको रुलाने लगे;<br/>
आप इतना मुस्कुराओ कि दर्द भी शर्माने लगे;<br/>
निकले ना आँसू आँखों से आप के कभी;<br/>
किस्मत भी मज़बूर होकर आपको हँसाने लगे।
ज़िंदगी जब भी आपको रुलाने लगे;
आप इतना मुस्कुराओ कि दर्द भी शर्माने लगे;
निकले ना आँसू आँखों से आप के कभी;
किस्मत भी मज़बूर होकर आपको हँसाने लगे।
फूल बनकर मुस्कुराना ही ज़िंदगी है;<br/>
मुस्कुरा कर गम भुलाना ही ज़िंदगी है;<br/>
जीत कर कोई खुश हो तो अच्छा है;<br/>
हार कर भी खुशियां मनाना ही ज़िंदगी है।
फूल बनकर मुस्कुराना ही ज़िंदगी है;
मुस्कुरा कर गम भुलाना ही ज़िंदगी है;
जीत कर कोई खुश हो तो अच्छा है;
हार कर भी खुशियां मनाना ही ज़िंदगी है।
वो यारों की महफ़िल वो मुस्कुराते पल;<br/>
दिल से जुदा है अपना बीता हुआ कल;<br/>
कभी गुज़रती थी ज़िंदगी वक़्त बिताने में;<br/>
अब वक़्त गुज़रता है चाँद कागज़ के नोट कमाने में।
वो यारों की महफ़िल वो मुस्कुराते पल;
दिल से जुदा है अपना बीता हुआ कल;
कभी गुज़रती थी ज़िंदगी वक़्त बिताने में;
अब वक़्त गुज़रता है चाँद कागज़ के नोट कमाने में।
ख्वाहिश ऐसी करो कि आसमान तक जा सको;<br/>
दुआ ऐसी करो कि खुदा को पा सको;<br/>
यूँ तो जीने के लिए पल बहुत कम हैं;<br/>
जियो ऐसे कि हर पल में ज़िंदगी पा सको।
ख्वाहिश ऐसी करो कि आसमान तक जा सको;
दुआ ऐसी करो कि खुदा को पा सको;
यूँ तो जीने के लिए पल बहुत कम हैं;
जियो ऐसे कि हर पल में ज़िंदगी पा सको।
बहुत कुछ सिखा जाती है ये ज़िंदगी;<br/>
हँसा के भी रुला जाती है ये ज़िंदगी;<br/>
जी सको जितना उतना जी लो दोस्तो;<br/>
क्योंकि बहुत कुछ बाकी रह जाता है और ख़त्म हो जाती है ज़िंदगी।
बहुत कुछ सिखा जाती है ये ज़िंदगी;
हँसा के भी रुला जाती है ये ज़िंदगी;
जी सको जितना उतना जी लो दोस्तो;
क्योंकि बहुत कुछ बाकी रह जाता है और ख़त्म हो जाती है ज़िंदगी।

Quotes

पाषाण के भीतर भी मधुर स्रोत होते हैं, उसमें मदिरा नहीं शीतल जल की धारा बहती है।

Trivia

The word 'Baklava' is derived from an old Mongolian word, Baγla: to pile up or layer.

Graffiti

I was arrested after my therapist suggested I take something for my kleptomania!