Join our FaceBook Group
आज कल के बच्चों को सबसे ज्यादा टेंशन कब होती है?
.
.
.
.
परीक्षा?
.
.
.
.
.
नहीं
.
.
.
.
.
रिजल्ट?
.
.
.
.
.
नहीं
जब सुबह सो कर उठते हैं और मोबाइल पास ना पड़ा हो तब।
इससे ज्यादा बेरहमी की इन्तहा और क्या होगी ग़ालिब;
.
.
.
.
.
.
.
.
बाप ने लड़के को पीटने की बजाय उसका नेट कनेक्शन बंद करवा दिया।
बेरोज़गारी की हालत अब ये हो गयी है कि माँ भी कहती है कि...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
कुछ नहीं कर रहा तो मटर ही छील दे।
एक भिखारी भीख मांगता एक घर में पहुंचा। 
भिखारी: माता जी, क्या इस गरीब को केक मिलेगा? 
औरत: क्यों, रोटी से काम नहीं चल सकता? 
भिखारी: चल तो सकता है, पर आज मेरा जन्मदिन है।
एक भिखारी भीख मांगता एक घर में पहुंचा।
भिखारी: माता जी, क्या इस गरीब को केक मिलेगा?
औरत: क्यों, रोटी से काम नहीं चल सकता?
भिखारी: चल तो सकता है, पर आज मेरा जन्मदिन है।
लड़कियां बाल बनाने में तो "एक घंटा" लेती हैं लेकिन मुँह बनाने के लिए "एक सेकंड" भी नहीं लगाती।
मैंने भी अपना सूट नीलामी के लिए निकाला...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
बर्तन वाली चार कटोरी पकड़ाकर चली गयी।
जब डेल स्टेन जैसे बॉलर को मोहम्मद शमी ने चौका मारा तो उससे एक बात तो साफ़ हो गयी कि "मोदी लहर अब पूरी तरह खत्म हो चुकी है"।
मंडप में दुल्हन को सिर झुकाए बैठे देख एक बुज़ुर्ग महिला बोली, "बहू कितनी सुशील और संस्कारी है, जब से बैठी है, सिर नीचे किए हुए है। एक बार भी नज़रें उठा कर नहीं देखा।"
तभी पीछे से आवाज़ आई, "माँ जी, दुल्हन Whatsapp पर online है।"
गर्मी आ रही है।
लड़किया जहाँ खुश हैं कि अब बिना स्वेटर के अंग प्रदर्शन कर सकती हैं।
वही लड़के दुखी है कि बिना जैकेट के ठेके से बोतल कैसे लायेंगे।
हमारे देश में "हंसी - मजाक" भी बिजली की तरह है। आधे से ज्यादा लोगों के नसीब में नहीं।