Join our FaceBook Group
ज़िंदगी में आगे बढ़ना है तो एक बात गांठ बांध लो।<br/>
Excuse Me बोलते जाओ, आगे बढ़ते जाओ।
ज़िंदगी में आगे बढ़ना है तो एक बात गांठ बांध लो।
Excuse Me बोलते जाओ, आगे बढ़ते जाओ।
कुछ लोग खाने के इतने शौक़ीन होते हैं कि,<br/>
वो दूसरों की खुशियाँ भी खा जाते हैं।
कुछ लोग खाने के इतने शौक़ीन होते हैं कि,
वो दूसरों की खुशियाँ भी खा जाते हैं।
बचपन की जिद्द समझौते में बदल जाती है,<br/>
उम्र बदलने के साथ।
बचपन की जिद्द समझौते में बदल जाती है,
उम्र बदलने के साथ।
आदमी ही आदमी का रास्ता काट रहा है,<br/>
बिल्लियाँ तो बेचारी बेरोज़गार बैठी हैं।
आदमी ही आदमी का रास्ता काट रहा है,
बिल्लियाँ तो बेचारी बेरोज़गार बैठी हैं।
'शेरों' की तरह जीते थे जब तक कमाते नहीं थे।<br/>
जब कमाना शुरू किया ज़िंदगी 'शेरू' की तरह हो गई।
"शेरों" की तरह जीते थे जब तक कमाते नहीं थे।
जब कमाना शुरू किया ज़िंदगी "शेरू" की तरह हो गई।
बचपन के वो दिन भी क्या खूब थे;<br/>
ना दोस्ती का मतलब पता था, ना मतलब की दोस्ती थी।
बचपन के वो दिन भी क्या खूब थे;
ना दोस्ती का मतलब पता था, ना मतलब की दोस्ती थी।
अनुपम खेर PM बन कर घूम रहे हैं, PM विदेश मंत्री बन कर घूम रहे है, वकील मारपीट कर रहे है और विधायक जज बनकर फैसले सुना रहे हैं।
अनुपम खेर PM बन कर घूम रहे हैं, PM विदेश मंत्री बन कर घूम रहे है, वकील मारपीट कर रहे है और विधायक जज बनकर फैसले सुना रहे हैं।
आज कल लोग भगवान से कम और CCTV कैमरे से ज्यादा डरते हैं।
आज कल लोग भगवान से कम और CCTV कैमरे से ज्यादा डरते हैं।
भारत में राजनीती के हिसाब से मौतें दो प्रकार की होती हैं।
एक दलित - दूसरी मुस्लिम
और बाकी सब लावारिस की श्रेणी में आते हैं।
यहाँ तू हिन्दू और मुसलमाँ के, फ़र्क में मर जाता है।<br/>
वहाँ कोई हम दोनों की ख़ातिर' 'बर्फ़' में मर जाता है।
यहाँ तू हिन्दू और मुसलमाँ के, फ़र्क में मर जाता है।
वहाँ कोई हम दोनों की ख़ातिर' 'बर्फ़' में मर जाता है।