Join our FaceBook Group
एक फैमिली "शोले" फिल्म देखकर घर पर लौटी। फिल्म का जोश रग रग में दौड रहा था तो पति ने मजाकिया अंदाज़ में अपनी पत्नी से कहा, "नाच बसंती नाच।"
तभी उनका बच्चा बोला, "मम्मी - इस कुत्ते के सामने मत नाचना।"
केजरीवाल ये सोच कर दहल गए कि अभी तो सिर्फ 42 दिन ही हुए हैं।
केजरीवाल ये सोच कर दहल गए कि अभी तो सिर्फ 42 दिन ही हुए हैं।
पडोसी कह रहा है कि मैच हारने का गम उसके कुत्ते को भी है। लगातार रोये जा रहा है।
.
.
.
.
.
.
.
.
अब उसे कौन समझाए कि मैच हारने के बाद मैंने ही उसके कुत्ते को दो लट्ठ टिकाये थे।
एक कटु सत्य यह है कि अगर जिन्दगी इतनी अच्छी होती तो हम इस दुनिया में रोते हुए न आते
मगर एक मीठा सत्य यह भी है कि अगर यह जिन्दगी बुरी होती तो जाते-जाते लोगों को रुलाकर भी न जाते।
दुनिया का दस्तूर ही कुछ अजीब है, दौलत चाहे कितनी भी बेईमानी से आये;
लेकिन उसकी रखवाली के लिए सबको ईमानदार शख्स ही चाहिए।
एक बात हमेशा याद रखना दोस्तों, 
ढूंढने पर वही मिलेंगे जो खो गए थे, 
वो कभी नहीं मिलेंगे जो बदल गए हैं।
एक बात हमेशा याद रखना दोस्तों,
ढूंढने पर वही मिलेंगे जो खो गए थे,
वो कभी नहीं मिलेंगे जो बदल गए हैं।
ज़िन्दगी के उसूल भी 'कबड्डी' के खेल की तरह हैं, 
जैसे ही 'सफलता' की लाइन को छूते हैं लोग लग जाते हैं पीछे खींचने में।
ज़िन्दगी के उसूल भी "कबड्डी" के खेल की तरह हैं,
जैसे ही "सफलता" की लाइन को छूते हैं लोग लग जाते हैं पीछे खींचने में।
हर एक इंसान हवा में उड़ता फिरता है, 
फिर भी ना जाने ज़मीन पर इतनी भीड़ क्यों है।
हर एक इंसान हवा में उड़ता फिरता है,
फिर भी ना जाने ज़मीन पर इतनी भीड़ क्यों है।
हमारे देश में बदलाव नहीं आता, क्योंकि: 
गरीब में हिम्मत नहीं; 
मिडिल क्लास को फुर्सत नहीं; 
और अमीरों को ज़रूरत नहीं।
हमारे देश में बदलाव नहीं आता, क्योंकि:
गरीब में हिम्मत नहीं;
मिडिल क्लास को फुर्सत नहीं;
और अमीरों को ज़रूरत नहीं।
पीतल के पतीले में पपीता पीला पीला।
पीतल के पतीले में पपीता पीला पीला।