Hindi SMS (Page 2)

Page: 2
आज-कल तो सारी रात गुज़र जाती है बस इसी कश्मकश में कि...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
यह साली रजाई में हवा कहाँ से घुस रही है।
सिंधी(पठान से): यार तुम्हारा जन्मदिन कब आता है?<br/>
पठान: नहीं यार, मेरा जन्मदिन नहीं आता।<br/>
सिंधी: ऐसा कैसे हो सकता है? जन्मदिन तो सबका आता है।<br/>
पठान: वो मैं रात को पैदा हुआ था, इसलिए मेरा जन्म दिन नहीं आता।
सिंधी(पठान से): यार तुम्हारा जन्मदिन कब आता है?
पठान: नहीं यार, मेरा जन्मदिन नहीं आता।
सिंधी: ऐसा कैसे हो सकता है? जन्मदिन तो सबका आता है।
पठान: वो मैं रात को पैदा हुआ था, इसलिए मेरा जन्म दिन नहीं आता।
जो बच्चे बचपन में स्कूल में कभी 'मॉनिटर' नहीं बन पाए,
वो आजकल WhatsApp और Facebook पे ADMIN बने बैठे हैं।
आपके अंदर का जानवर एक समय के बाद ही बाहर आता है। जैसे शादी के बाद ही पता चलता है कि आप कौन हो
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
शेर या चूहा।
जो लोग रोज मन्दिर जाते हैं, भगवान को याद करते हैं,
यह भी ध्यान रखें कि...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
कभी गलती से भगवान ने याद कर लिया तो लेने के देने पड़ जाएंगे।
हकीकत समझो या फ़साना;<br/>
अपना समझो या बेगाना;<br/>
हमारा आपका है रिश्ता पुराना;<br/>
इसलिए फ़र्ज़ था आपको बताना;<br/>
ठंड शुरू हो गयी है, कृपया रोज़ मत नहाना!
हकीकत समझो या फ़साना;
अपना समझो या बेगाना;
हमारा आपका है रिश्ता पुराना;
इसलिए फ़र्ज़ था आपको बताना;
ठंड शुरू हो गयी है, कृपया रोज़ मत नहाना!
यादें अक्सर होती हैं सताने के लिए;<br/>
कोई रूठ जाता है फिर मान जाने के लिए;<br/>
रिश्ते निभाना कोई मुश्किल तो नहीं;<br/>
बस दिलों में प्यार चाहिए उसे निभाने के लिए।
यादें अक्सर होती हैं सताने के लिए;
कोई रूठ जाता है फिर मान जाने के लिए;
रिश्ते निभाना कोई मुश्किल तो नहीं;
बस दिलों में प्यार चाहिए उसे निभाने के लिए।
मैं हूँ तो एक ही जगह, लेकिन यहाँ हर हफ्ते कुछ नया दिखने को मिलता है। मैं क्या हूँ?
मैं हूँ तो एक ही जगह, लेकिन यहाँ हर हफ्ते कुछ नया दिखने को मिलता है। मैं क्या हूँ?

काश उसे चाहने का अरमान ना होता;<br/>
मैं होश में रहते हुए अनजान ना होता;<br/>
ना प्यार होता किसी पत्थर दिल से हम को;<br/>
या फिर कोई पत्थर दिल इंसान ना होता।
काश उसे चाहने का अरमान ना होता;
मैं होश में रहते हुए अनजान ना होता;
ना प्यार होता किसी पत्थर दिल से हम को;
या फिर कोई पत्थर दिल इंसान ना होता।
वक़्त से लड़कर जो नसीब बदल दे;
इंसान वही जो अपनी तक़दीर बदल दे;
कल होगा क्या, कभी ना यह सोचो;
क्या पता कल खुद वक़्त अपनी तस्वीर बदल दे।

Quotes

सुख सर्वत्र मौजूद है, उसका स्त्रोत हमारे ह्रदयों में है।

Trivia

The word 'Baklava' is derived from an old Mongolian word, Baγla: to pile up or layer.

Graffiti

This statement is false!