Hindi SMS (Page 3)

Page: 3
आज कल जब भी WhatsApp खोलो तो लगता है WhatsApp नहीं "हरि की पौड़ी, हरिद्वार" आ गए हैं। जहाँ इतना अथाह ज्ञान बरसता है कि मन एकदम शुद्ध हो जाता है।
सभी WhatsApp संतों को प्रणाम।
असल भारतीय स्त्री वही है जो कभी भेद-भाव नहीं करती,
सामने पति हो या बैंगन...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
बनाती वो भुर्ता ही है।
जीवन में कम से कम एक सच्चा मित्र हमेशा अपने पास रखो ताकि...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
जिस दिन आपके यहाँ कद्दू की सब्जी बने, उस दिन उसके घर जाकर खाना खा सको।
अब कितनो का नाम लें अपनी बर्बादी में;
क्योंकि...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
बहुत से लोग आये थे हमारी शादी में।
खुशियों का रहे हमेशा साथ;<br/>
ग़म की घटायें कभी तेरे करीब न आएं;<br/>
पाने को जिस चीज़ को करे तेरा मन;<br/>
चल कर वो खुद तेरे करीब आए।<br/>
जन्मदिन मुबारक!
खुशियों का रहे हमेशा साथ;
ग़म की घटायें कभी तेरे करीब न आएं;
पाने को जिस चीज़ को करे तेरा मन;
चल कर वो खुद तेरे करीब आए।
जन्मदिन मुबारक!
हम शतरंज नही खेलते, क्योंकि...
दुश्मनों की हमारे सामने बैठने की औकात नहीं,
और दोस्तों के सामने हम चाल नही चलते।
वो क्या है जिसका चेहरा है, दो हाथ हैं मगर टाँगे नहीं हैं?
वो क्या है जिसका चेहरा है, दो हाथ हैं मगर टाँगे नहीं हैं?

जज़्बात बहक जाते हैं जब तुमसे मिलते हैं;<br/>
अरमान मचल जाते हैं जब तुमसे मिलते हैं;<br/>
आँखों से आँखें, हाथों से हाथ मिल जाते हैं;<br/>
दिल से दिल, रूह से रूह मिल जाती है, जब तुमसे मिलते हैं।
जज़्बात बहक जाते हैं जब तुमसे मिलते हैं;
अरमान मचल जाते हैं जब तुमसे मिलते हैं;
आँखों से आँखें, हाथों से हाथ मिल जाते हैं;
दिल से दिल, रूह से रूह मिल जाती है, जब तुमसे मिलते हैं।
मंज़िल मिल ही जाएगी एक दिन भटकते भटकते ही सही;<br/>
गुमराह तो वो हैं जो डर के घर से निकलते ही नहीं;<br/>
खुशियां मिल जायेंगी एक दिन रोते रोते ही सही;<br/>
कमज़ोर दिल तो वो हैं जो हँसने की कभी सोचते ही नहीं।
मंज़िल मिल ही जाएगी एक दिन भटकते भटकते ही सही;
गुमराह तो वो हैं जो डर के घर से निकलते ही नहीं;
खुशियां मिल जायेंगी एक दिन रोते रोते ही सही;
कमज़ोर दिल तो वो हैं जो हँसने की कभी सोचते ही नहीं।
जरुरत तोड देती है इंसान के घमंड को,
अगर न होती मजबूरी तो हर बंदा खुदा होता।

Quotes

दुख को दूर करने की एक ही अमोघ ओषधि है - मन से दुखों की चिंता न करना।

Trivia

The word 'Baklava' is derived from an old Mongolian word, Baγla: to pile up or layer.

Graffiti

A man needs a mistress just to break the monogamy.