एकलव्य आज जिंदा होता तो द्रोणचार्य को कोस रहा होता,<br/>
बिना अंगूठे के ना तो उसका आधार कार्ड बनता और ना जियो की सिम मिलती।
एकलव्य आज जिंदा होता तो द्रोणचार्य को कोस रहा होता,
बिना अंगूठे के ना तो उसका आधार कार्ड बनता और ना जियो की सिम मिलती।
जब पहली बार इंसान ने मछली का शिकार किया तो मछली ने इंसान को 'श्राप' दिया कि...<br/>
'हे इंसान तू भी एक दिन 'Net' में फंसोगे और बाहर नहीं निकल पाओगे।'<br/>
आज मछली का श्राप सच हो गया है।
जब पहली बार इंसान ने मछली का शिकार किया तो मछली ने इंसान को "श्राप" दिया कि...
"हे इंसान तू भी एक दिन "Net" में फंसोगे और बाहर नहीं निकल पाओगे।"
आज मछली का श्राप सच हो गया है।
पप्पू की शादी हो गई और उनका वैवाहीक जीवन शुरु हो गया। एक बार पप्पू ने अपनी पत्नि से पूछा,<br/>
'तुमने मुझमें ऐसा क्या देखा कि तुम शादी के लिए तैयार हो गई?'<br/>
पप्पू की पत्नी बोली, 'मैंने एक-दो बार आपको बर्तन मांजते हुए देखा था।'
पप्पू की शादी हो गई और उनका वैवाहीक जीवन शुरु हो गया। एक बार पप्पू ने अपनी पत्नि से पूछा,
"तुमने मुझमें ऐसा क्या देखा कि तुम शादी के लिए तैयार हो गई?"
पप्पू की पत्नी बोली, "मैंने एक-दो बार आपको बर्तन मांजते हुए देखा था।"
कहाँ गए वो समाज सेवक, कहाँ गए वो दानशूर व्यक्ति?<br/>
जो ठंड मे कपडे, स्वेटर, कंबल बांटते हैं और अब इस मरण यातना वाली गर्मी में ठंडी ठंडी बियर बाँटना, यह उनका कर्तव्य नहीं है क्या? आप नहीं पीते तो क्या, परोपकार भी कोई चीज़ है या नहीं।
कहाँ गए वो समाज सेवक, कहाँ गए वो दानशूर व्यक्ति?
जो ठंड मे कपडे, स्वेटर, कंबल बांटते हैं और अब इस मरण यातना वाली गर्मी में ठंडी ठंडी बियर बाँटना, यह उनका कर्तव्य नहीं है क्या? आप नहीं पीते तो क्या, परोपकार भी कोई चीज़ है या नहीं।
हिंदी की कक्षा में:<br/>
मास्टर: कविता और निबंध में अंतर बताओ।<br/>
पप्पू: गर्लफ्रेंड के मुँह से निकला एक शब्द भी कविता के समान होता है और पत्नी के मुँह से निकला एक ही शब्द निबंध के समान होता है।
हिंदी की कक्षा में:
मास्टर: कविता और निबंध में अंतर बताओ।
पप्पू: गर्लफ्रेंड के मुँह से निकला एक शब्द भी कविता के समान होता है और पत्नी के मुँह से निकला एक ही शब्द निबंध के समान होता है।
पति का नाम भले ही शंकर हो लेकिन...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
तांडव हमेशा पत्नी ही करती है।
पति का नाम भले ही शंकर हो लेकिन...
.
.
.
.
.
.
.
.
तांडव हमेशा पत्नी ही करती है।
देखो है आया बैसाखी का त्यौहार, चारों तरफ है खुशियों की बहार;<br/>
चलो मिल के हम सब नाचें गायें, मिल के हम सब ख़ुशी मनायें!<br/>
देखो है आया बैसाखी का त्यौहार, चारों तरफ है खुशियों की बहार;<br/>
आप सब को बैसाखी की हार्दिक बधाई!
देखो है आया बैसाखी का त्यौहार, चारों तरफ है खुशियों की बहार;
चलो मिल के हम सब नाचें गायें, मिल के हम सब ख़ुशी मनायें!
देखो है आया बैसाखी का त्यौहार, चारों तरफ है खुशियों की बहार;
आप सब को बैसाखी की हार्दिक बधाई!
नाचो गाओ हमारे साथ;<br/>
आया है बैसाखी का त्यौहार;<br/>
मना लो खुशियाँ सबके साथ;<br/>
आई है अब मौजों की बहार;<br/>
मुबारक हो आपको बैसाखी का त्यौहार।
नाचो गाओ हमारे साथ;
आया है बैसाखी का त्यौहार;
मना लो खुशियाँ सबके साथ;
आई है अब मौजों की बहार;
मुबारक हो आपको बैसाखी का त्यौहार।
बैसाखी का मौका आया है;<br/>
ठंडी हवा का झौंका आया है;<br/>
लेकिन आप बिना सब अधूरा है;<br/>
लौट आओ हमने खुशियों को रोका है।<br/>
बैसाखी मुबारक हो!
बैसाखी का मौका आया है;
ठंडी हवा का झौंका आया है;
लेकिन आप बिना सब अधूरा है;
लौट आओ हमने खुशियों को रोका है।
बैसाखी मुबारक हो!
स्टेट हाईवे को बदलकर जिला मार्ग घोषित कर दिया।<br/>
इससे अच्छा था कि दारू को ही मिनरल वॉटर घोषित कर देते।
स्टेट हाईवे को बदलकर जिला मार्ग घोषित कर दिया।
इससे अच्छा था कि दारू को ही मिनरल वॉटर घोषित कर देते।