मुस्कुराइये आप लखनऊ में हैं।<br/>
खाँसिये आप दिल्ली में हैं।
मुस्कुराइये आप लखनऊ में हैं।
खाँसिये आप दिल्ली में हैं।
दिल्ली में धुंध ऐसी पड़ रही है जैसे Undertaker आने वाला हो।
दिल्ली में धुंध ऐसी पड़ रही है जैसे Undertaker आने वाला हो।
शराब तो हमेशा से ही हमारे जीवन का, हमारी संस्कृति का ज़रूरी हिस्सा रही है।<br/>
देखें, घर - बार, खाना - पीना, दवा - दारू।
शराब तो हमेशा से ही हमारे जीवन का, हमारी संस्कृति का ज़रूरी हिस्सा रही है।
देखें, घर - बार, खाना - पीना, दवा - दारू।
मुँह से धुआं निकलने वाली ठण्ड, पता नहीं कब पड़ेगी।
मुँह से धुआं निकलने वाली ठण्ड, पता नहीं कब पड़ेगी।
जिनका कोई नहीं होता है,<br/>
उनका एक मात्र मोबाइल ही सब कुछ होता है।
जिनका कोई नहीं होता है,
उनका एक मात्र मोबाइल ही सब कुछ होता है।
आदमी: बाबा घर में शांति कैसे लाऊँ?<br/>
बाबा: रात को पीछे के दरवाज़े से।
आदमी: बाबा घर में शांति कैसे लाऊँ?
बाबा: रात को पीछे के दरवाज़े से।
अच्छी खासी गपशप होती थी,<br/>
फिर एक दिन उसने करती की जगह करता लिख दिया!
अच्छी खासी गपशप होती थी,
फिर एक दिन उसने करती की जगह करता लिख दिया!
हाँ हवा भी बिकती है,<br/>
Lays के पैकेट में।
हाँ हवा भी बिकती है,
Lays के पैकेट में।
प्रवेश द्वार पर खाँस कर नयी बहू को अपने आने की सूचना देना...<br/>
भारतीय जेठों का जन्मसिद्ध अधिकार है।
प्रवेश द्वार पर खाँस कर नयी बहू को अपने आने की सूचना देना...
भारतीय जेठों का जन्मसिद्ध अधिकार है।
इश्क़ करने से पहले अंजाम देख लो,<br/>
फिर भी दिमाग में न घुसे तो... गजनी और तेरे नाम देख लो!
इश्क़ करने से पहले अंजाम देख लो,
फिर भी दिमाग में न घुसे तो... गजनी और तेरे नाम देख लो!