पत्नी की सुन्दर परिभाषा:<br/>
जो महिला अपने पति से 50,000 रुपये लेकर उसे 60,000 का हिसाब बताने के बाद 20,000 अपने पास बचा ले, उसे पत्नी कहते हैं।
पत्नी की सुन्दर परिभाषा:
जो महिला अपने पति से 50,000 रुपये लेकर उसे 60,000 का हिसाब बताने के बाद 20,000 अपने पास बचा ले, उसे पत्नी कहते हैं।
समय बहाकर ले जाता है, नाम और निशान;<br/>
कोई 'हम' में रह जाता है, और कोई 'अहम' में।
समय बहाकर ले जाता है, नाम और निशान;
कोई 'हम' में रह जाता है, और कोई 'अहम' में।
ब्रेकिंग न्यूज़
सोने में 50% गिरावट आई है।
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
पहले लोग 10 घण्टे सोते थे। अब Facebook और Whatsapp के कारण 5 घण्टे ही सोते हैं।
रास्ते पलट देते हैं हमारे नौजवान जब कोई आकर यह कह दे कि...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
आगे 'चालान' काट रहे हैं।
एक तो लड़कियां वैसे ही नहीं पटती, ऊपर से यह 'सावधान इंडिया' वाले ऐसे दिखाते हैं जैसे हम पैदा ही अपराध करने के लिए हुए हैं।
एक तो लड़कियां वैसे ही नहीं पटती, ऊपर से यह "सावधान इंडिया" वाले ऐसे दिखाते हैं जैसे हम पैदा ही अपराध करने के लिए हुए हैं।
एक पत्नी अपने पति पर बहुत शक करती थी। एक दिन पत्नी की खूबसूरत सहेली उससे मिलने आई थोड़ी देर बातचीत होने के बाद पति बोला, 'डियर, ऐसा लगता है कि रसोई में दाल जल रही है।'<br/>
पत्नी: दाल जल रही है तो जलने दो, पर आज मैं तुम्हारी दाल गलने नहीं दूंगी।
एक पत्नी अपने पति पर बहुत शक करती थी। एक दिन पत्नी की खूबसूरत सहेली उससे मिलने आई थोड़ी देर बातचीत होने के बाद पति बोला, "डियर, ऐसा लगता है कि रसोई में दाल जल रही है।"
पत्नी: दाल जल रही है तो जलने दो, पर आज मैं तुम्हारी दाल गलने नहीं दूंगी।
घडी की सुईयों जैसा रिश्ता है ग्रुप मेंबर्स का;<br/>
मिलते कभी नहीं पर हाँ जुड़े सब से हैं।
घडी की सुईयों जैसा रिश्ता है ग्रुप मेंबर्स का;
मिलते कभी नहीं पर हाँ जुड़े सब से हैं।
सुबह सुबह की खूबसूरत किरणें कहने लगी मुझे,<br/>
जल्दी से बाहर तो देखो मौसम कितना प्यारा है;<br/>
मैंने भी कह दिया, थोड़ी देर रुक जाओ,<br/>
पहले उसको मैसेज तो कर लूँ जो मुझे जान से प्यारा है।<br/>
सुप्रभात!
सुबह सुबह की खूबसूरत किरणें कहने लगी मुझे,
जल्दी से बाहर तो देखो मौसम कितना प्यारा है;
मैंने भी कह दिया, थोड़ी देर रुक जाओ,
पहले उसको मैसेज तो कर लूँ जो मुझे जान से प्यारा है।
सुप्रभात!
हर बार सिर्फ अल्फ़ाज़ ही काफी नही होते किसी को समझाने के लिए।
.
.
.
.
.
.
.
.
.
कभी - कभी चांटे भी लगाने पड़ सकते हैं।
पठान ने अपनी बीवी को गोली मार दी। हालाँकि उसकी बेगम ने सिर्फ इतना कहा था कि -<br/>
'मैं अपनी जिंदगी शान और शौकत के साथ गुजारना चाहती हूँ।'<br/>
अब पठान भाई शान और शौक़त को ढूँढ रहा है।
पठान ने अपनी बीवी को गोली मार दी। हालाँकि उसकी बेगम ने सिर्फ इतना कहा था कि -
"मैं अपनी जिंदगी शान और शौकत के साथ गुजारना चाहती हूँ।"
अब पठान भाई शान और शौक़त को ढूँढ रहा है।