एक शराबी छत से नीचे गिर गया। सब लोग आए और पूछने लगे कि क्या हुआ?
शराबी: पता नही भाई, मैं भी अभी नीचे आया हूँ।
ट्रेन के अंदर की भीड़ के 'चक्रव्यूह' को तोड़ने का जो कौशल इन "नमकीन व नारियल" बेचने वालों के पास होता है वो तो 'अभिमन्यु' के पास भी नही था।
दूरियां ही दोस्तों को नज़दीक लाती हैं;<br/>
दूरियां ही एक दूजे की याद दिलाती हैं;<br/>
दूर रहकर है करीब दोस्त कितना;<br/>
दूरियां ही इस बात का एहसास दिलाती हैं।
दूरियां ही दोस्तों को नज़दीक लाती हैं;
दूरियां ही एक दूजे की याद दिलाती हैं;
दूर रहकर है करीब दोस्त कितना;
दूरियां ही इस बात का एहसास दिलाती हैं।
खुद पर हो विश्वास और मन में हो आस्था;<br/>
फिर कितनी भी आ जायें बाधाएं, मिल ही जाता है रास्ता।
खुद पर हो विश्वास और मन में हो आस्था;
फिर कितनी भी आ जायें बाधाएं, मिल ही जाता है रास्ता।
लफ्ज़ ही ऐसी चीज़ है जिसकी वजह से इंसान या तो दिल में उतर जाता है या दिल से उतर जाता है।
लफ्ज़ ही ऐसी चीज़ है जिसकी वजह से इंसान या तो दिल में उतर जाता है या दिल से उतर जाता है।
एक लड़का और एक लड़की दोनों गोलगप्पे खा रहे थे। लड़की ने 20-25 गोलगप्पे खा लिए और फिर लड़के से बोली,<br/>
'10 और खा लूँ।'<br/>
लड़का झल्ला कर बोला, 'नागिन, खा ले।'<br/>
लड़की ने लड़के की गाल पे चाँटा जड़ दिया और बोली, 'नागिन किसको बोला?'<br/>
लड़का: अरे मार क्यों रही है? मैं तो कह रहा था ना गिन, खा ले।
एक लड़का और एक लड़की दोनों गोलगप्पे खा रहे थे। लड़की ने 20-25 गोलगप्पे खा लिए और फिर लड़के से बोली,
"10 और खा लूँ।"
लड़का झल्ला कर बोला, "नागिन, खा ले।"
लड़की ने लड़के की गाल पे चाँटा जड़ दिया और बोली, "नागिन किसको बोला?"
लड़का: अरे मार क्यों रही है? मैं तो कह रहा था ना गिन, खा ले।
मुस्कुराओ क्योंकि आप प्यारे हो,
.
.
.
.
.
.
.
.
.
हँसो क्योंकि यह मज़ाक था।
किरण बेदी के भाजपा में शामिल होने के बाद दिल्ली की राजनैतिक रामायण का नया सत्य:<br/>
'घर का 'बेदी' लंका ढाए।'
किरण बेदी के भाजपा में शामिल होने के बाद दिल्ली की राजनैतिक रामायण का नया सत्य:
"घर का 'बेदी' लंका ढाए।"
आलिया (पुलिस वालों से): कहाँ जा रहे हो?
पुलिस वाले: लाठी चार्ज करने।
आलिया: अरे 'चार्जर' तो ले जाओ।
कौन 'कमबख्त' कहता है, लड़के सोचते कम हैं,
लड़की एक बार मुस्करा कर तो देखे, शेरवानी के रंग से लेकर बच्चों तक के नाम सोच लेते हैं।