ग़म में हँसने वालों को कभी रुलाया नहीं जाता;<br/>
लहरों से पानी को हटाया नहीं जाता;<br/>
होने वाले हो जाते हैं खुद ही दिल से जुदा;<br/>
किसी को जबर्दस्ती दिल में बसाया नहीं जाता।
ग़म में हँसने वालों को कभी रुलाया नहीं जाता;
लहरों से पानी को हटाया नहीं जाता;
होने वाले हो जाते हैं खुद ही दिल से जुदा;
किसी को जबर्दस्ती दिल में बसाया नहीं जाता।
सूरज हर शाम को ढल ही जाता है,<br/>
पतझड़ बसंत में बदल ही जाता है,<br/>
मेरे मन मुसीबत में हिम्मत मत हारना,<br/>
समय कैसा भी हो गुज़र ही जाता है।
सूरज हर शाम को ढल ही जाता है,
पतझड़ बसंत में बदल ही जाता है,
मेरे मन मुसीबत में हिम्मत मत हारना,
समय कैसा भी हो गुज़र ही जाता है।
कामयाबी तक जाने वाले रास्ते सीधे नहीं होते पर कामयाबी मिलने के बाद सभी रास्ते सीधे हो जाते हैं।
कामयाबी तक जाने वाले रास्ते सीधे नहीं होते पर कामयाबी मिलने के बाद सभी रास्ते सीधे हो जाते हैं।
कोशिश करने वालों की कभी हार नही होती बस...
.
.
.
.
.
.
.
.
बेइज़्ज़ती हो जाती है।
बंता: यार संता, मोहब्बत शादी से पहले होनी चाहिए या शादी के बाद? 
संता: शादी से पहले हो या शादी के बाद बस पत्नी को इसकी हवा भी नहीं लगनी चाहिए।
बंता: यार संता, मोहब्बत शादी से पहले होनी चाहिए या शादी के बाद?
संता: शादी से पहले हो या शादी के बाद बस पत्नी को इसकी हवा भी नहीं लगनी चाहिए।
कभी रोता हूँ, वो किसी को दिखाई नहीं देता; 
कभी चिंतित रहता हूँ, कोई परवाह नही करता; 
कभी मायूस होता हूँ, कोई पूछने तक नही आता; 
पर जब कभी बीयर की दुकान पर अकेला जाता हूँ; कोई ना कोई पीछे आ ही जाता है और पूछ लेता है - 
'क्या भाई अकेले-अकेले?'
कभी रोता हूँ, वो किसी को दिखाई नहीं देता;
कभी चिंतित रहता हूँ, कोई परवाह नही करता;
कभी मायूस होता हूँ, कोई पूछने तक नही आता;
पर जब कभी बीयर की दुकान पर अकेला जाता हूँ; कोई ना कोई पीछे आ ही जाता है और पूछ लेता है -
"क्या भाई अकेले-अकेले?"
भक्त: बाबा मुझे ऐसा काम बताओ कि मुझे कुछ करना न पड़े, लोग करें और पैसे मुझे मिलें।  
बाबा: जा बेटा, 'सुलभ शौचालय' खोल ले।
भक्त: बाबा मुझे ऐसा काम बताओ कि मुझे कुछ करना न पड़े, लोग करें और पैसे मुझे मिलें।
बाबा: जा बेटा, 'सुलभ शौचालय' खोल ले।
हमने दो ग्रुप बनाए,
एक को योग करवाया,
दूसरे को जिम करवाई,
लेकिन बिस्तर पर लेटकर Whatsapp चलाने वाले ज्यादा खुश नज़र आये।
यादों की कीमत वो क्या जाने, 
जो ख़ुद यादों के मिटा दिया करते हैं, 
यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो, 
सिर्फ यादों के सहारे ही जिया करते हैं।
यादों की कीमत वो क्या जाने,
जो ख़ुद यादों के मिटा दिया करते हैं,
यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो,
सिर्फ यादों के सहारे ही जिया करते हैं।
मुस्कुराते रहो तो दुनिया आपके क़दमों में होगी क्योंकि आँसुओं को तो आँखें भी जगह नहीं देती।
मुस्कुराते रहो तो दुनिया आपके क़दमों में होगी क्योंकि आँसुओं को तो आँखें भी जगह नहीं देती।