ओ खेतों की महक, ओ झुमरों का नाचना;  
बड़ा याद आता है, तेरे साथ हर पल;  
मन करता है तेरे पास आकर बैसाखी का आनंद लूँ;  
पर क्या करूं काम की मजबूरी है;  
फिर भी दोस्त तू मेरे दिल में मेरे साथ है।  
बैसाखी की शुभ कामनायें!
ओ खेतों की महक, ओ झुमरों का नाचना;
बड़ा याद आता है, तेरे साथ हर पल;
मन करता है तेरे पास आकर बैसाखी का आनंद लूँ;
पर क्या करूं काम की मजबूरी है;
फिर भी दोस्त तू मेरे दिल में मेरे साथ है।
बैसाखी की शुभ कामनायें!
जो कोई समझ न सके वो बात हैं हम;  
जो ढल के नयी सुबह लाये वो रात हैं हम;  
छोड़ देते हैं लोग रिश्ते बनाकर;  
जो कभी न छूटे वो साथ हैं हम।
जो कोई समझ न सके वो बात हैं हम;
जो ढल के नयी सुबह लाये वो रात हैं हम;
छोड़ देते हैं लोग रिश्ते बनाकर;
जो कभी न छूटे वो साथ हैं हम।
हम और हमारे ईश्वर दोनों एक जैसे हैं।  
जो रोज़ भूल जाते हैं... 
वो हमारी गलतियों को, हम उसकी मेहरबानियों को।
हम और हमारे ईश्वर दोनों एक जैसे हैं।
जो रोज़ भूल जाते हैं...
वो हमारी गलतियों को, हम उसकी मेहरबानियों को।
नदी जब किनारा छोड़ देती है; 
राह की चट्टानों को भी तोड़ देती है; 
बात छोटी सी भी अगर चुभ जाये दिल में; 
तो ज़िंदगी के रास्ते और दिशा बदल देती है।
नदी जब किनारा छोड़ देती है;
राह की चट्टानों को भी तोड़ देती है;
बात छोटी सी भी अगर चुभ जाये दिल में;
तो ज़िंदगी के रास्ते और दिशा बदल देती है।
काश किस्मत भी नींद की तरह होती, रोज़ सुबह खुलती।
काश किस्मत भी नींद की तरह होती, रोज़ सुबह खुलती।
टीचर: सबसे ज्यादा इज्ज़त किसके पास है? 
पप्पू: सर, प्रेम चोपड़ा, शक्ति कपूर और रंजीत के पास। 
टीचर: कैसे? 
पप्पू: सर, सबसे ज्यादा इज्ज़त इन्हीं लोगों ने लूट रखी है।
टीचर: सबसे ज्यादा इज्ज़त किसके पास है?
पप्पू: सर, प्रेम चोपड़ा, शक्ति कपूर और रंजीत के पास।
टीचर: कैसे?
पप्पू: सर, सबसे ज्यादा इज्ज़त इन्हीं लोगों ने लूट रखी है।
बेरोजगार कांग्रेसियों को अगर कोई काम देना हो तो सोनिया गाँधी पर एक कमेन्ट कर दो कांग्रेसियों को एक हफ्ते हंगामा करने का काम मिल जाता है।
बेरोजगार कांग्रेसियों को अगर कोई काम देना हो तो सोनिया गाँधी पर एक कमेन्ट कर दो कांग्रेसियों को एक हफ्ते हंगामा करने का काम मिल जाता है।
लडकी: तुम ने मुझ में क्या देखा जो मुझ से शादी करना चाहते हो? 
लडका: मैं 'FabIndia' मे काम करता हूँ, तुम वहाँ कपडे खरीदने आई थी ना।
लडकी: तुम ने मुझ में क्या देखा जो मुझ से शादी करना चाहते हो?
लडका: मैं 'FabIndia' मे काम करता हूँ, तुम वहाँ कपडे खरीदने आई थी ना।
लड़का और लड़की दोनों रेस्त्रां गए। 
लड़का: क्या तुम मुझसे शादी करोगी? 
लड़की: पर मैं तुम्हें प्यार नहीं करती। 
लड़का: देख लो। 
लड़की: बोला ना नहीं। 
लड़का: वेटर, मेरा अकेले का बिल लेकर आना। 
लड़की: अरे बाबा मज़ाक कर रही हूँ कब करनी है शादी।
लड़का और लड़की दोनों रेस्त्रां गए।
लड़का: क्या तुम मुझसे शादी करोगी?
लड़की: पर मैं तुम्हें प्यार नहीं करती।
लड़का: देख लो।
लड़की: बोला ना नहीं।
लड़का: वेटर, मेरा अकेले का बिल लेकर आना।
लड़की: अरे बाबा मज़ाक कर रही हूँ कब करनी है शादी।
अच्छे दिन वाले सरकार की हालत "जुदाई" फिल्म के जॉनी लीवर जैसी हो गई है।
बड़े अरमानो से दुल्हन लाये थे, पर घूँघट उठाते ही दुल्हन बोली,
"अब्बा डब्बा चब्बा"।