• बॉम्बे शेयर बाज़ार के पुरुष शौचालय में लिखा था;
    कुछ देर पकड़ कर रखो, यह ज़रूर बढेगा।
  • गर्लफ्रेंड: ये सुहाग रात पे क्या होता है?
    पप्पू: बस यह समझ लो कि 3 नंबर की जूती में 7 नंबर का पाँव डालना होता है।
    गर्लफ्रेंड: फिर क्या होता है?
    पप्पू: उसके बाद जूती 7 नंबर की हो जाती है और पाँव 3 नंबर का हो जाता है।
  • लडकी (दुकानदार से): यह Whisper कितने का है?
    दुकानदार: जी 200 का।
    लडकी: लगाओगे कितने में?
    दुकानदार: माफ करना लगाना आप को खुद ही पडेगा।
  • वो कौन सी चीज़ है जो लड़की चीख-चीख कर लेती है और उसे मज़ा भी आता है?
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    सोचो-सोचो...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    झूला।
    तुम क्या सोच रहे थे!
  • एक बहुत काली औरत अपने दो बच्चों के साथ जा रही थी। उसे देख कर संता ने उससे पूछा, "क्या यह दोनों जुड़वाँ हैं?"
    औरत: नहीं एक साल का फ़र्क़ है।
    संता: यकीन नहीं होता कि कोई आपकी दो बार भी ले सकता है?
  • पप्पू की गर्लफ्रेंड का जन्मदिन था।
    पप्पू: बोलो तुम्हें क्या गिफ्ट चाहिए?
    गर्लफ्रेंड(बड़े प्यार से): जानू, कोई ऐसी चीज़ दो, जो तुम दे सको और मैं ले ना सकूं।
    पप्पू अपनी पेंट उताकर बोला: ले मेरी गांड मार ले?
  • एक गुब्बारे वाले की दुकान के बाहर लिखा था:
    अगर अपने बच्चों को गुब्बारा नहीं दिला सकते तो वक्त पे गुब्बारा चढ़ा लिया करो।
  • सकारात्मक सोच (Positive Thinking) को कैसे बढाया जा सकता है:
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    आप एफ टीवी (FTV) चैनल देखें।
    आप हमेशा सोचेंगे कि "इसका नहीं तो अगली वाली का जरूर दिखेगा।"
  • चाँद देखकर सितारे बने;
    आसमान देखकर बादल बने;
    नदी देखकर किनारे बने;
    आपके कारनामे देखकर कंडोम के कारखाने बने।
  • मेरे हैं सिर्फ दो ही टट्टे;
    वाह वाह...
    भोसड़ी के पहले सुन तो।
    मेरे हैं सिर्फ दो ही टट्टे;
    यार चूस के बता, मीठे हैं या खट्टे।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT