• जैसे कि अब हम साल के आखिरी महीने में आ गए हैं, जाने-अनजाने में 2014 में अगर मैंने आपका दिल दुखाया और कोई तकलीफ दी हो तो...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    2015 में भी तैयार रहना, क्योंकि सिर्फ 'कैलेंडर' बदलेगा - हम नहीं!
  • पठान: मैंने आपकी दूकान से मुर्गी दाना खरीदा था।<br/>
दूकानदार: तो क्या हुआ, कुछ खराबी है क्या?<br/>
पठान: हाँ, एक महीना हो गया उसे खेत में बोये हुए, अभी तक मुर्गी नहीं उगी।
    पठान: मैंने आपकी दूकान से मुर्गी दाना खरीदा था।
    दूकानदार: तो क्या हुआ, कुछ खराबी है क्या?
    पठान: हाँ, एक महीना हो गया उसे खेत में बोये हुए, अभी तक मुर्गी नहीं उगी।
  • लगता है भगवान ने आज दबंग फिल्म देख ली है!<br/>
ऐसा मौसम बनाया है कि लोग कन्फ्यूज हैं कि स्वेटर पहने की रेनकोट।
    लगता है भगवान ने आज दबंग फिल्म देख ली है!
    ऐसा मौसम बनाया है कि लोग कन्फ्यूज हैं कि स्वेटर पहने की रेनकोट।
  • नाथन लियोन ने पहले टेस्ट में कुल 12 विकेट लिए,
    आखिर हम भारतीय 'लियोन' नाम के सामने बेबस क्यों हो जाते हैं?
  • जीवन के हर मोड़ पर अभावों में जो पलते रहे;<br/>
सपने जिनकी आंखों में भरने से पहले तिड़कते रहे;<br/>
आओ थोड़ा ध्यान दें तोहफों से भर दें उनके जीवन में रस;<br/>
मनाएं इस बार प्रभु के संदेश को महकाता यह क्रिसमस। <br/>
क्रिसमस की शुभ कामनाएं!
    जीवन के हर मोड़ पर अभावों में जो पलते रहे;
    सपने जिनकी आंखों में भरने से पहले तिड़कते रहे;
    आओ थोड़ा ध्यान दें तोहफों से भर दें उनके जीवन में रस;
    मनाएं इस बार प्रभु के संदेश को महकाता यह क्रिसमस।
    क्रिसमस की शुभ कामनाएं!
  • पाकिस्तान के कुछ नेता पेशावर में हुए हमले के पीछे भारत का हाथ बता रहे हैं।
    अगर उनके हिसाब से चला जाये तो वो कुछ दिनों बाद ग्लोबल वार्मिंग में पिघलने वाले ग्लेशियर के पीछे भी भारत के "गरम मसालों" का हाथ बताएंगे।
  • देखो तो ख्वाब है ज़िन्दगी;<br/>
पढ़ो तो किताब है ज़िन्दगी;<br/>
सुनो तो ज्ञान है ज़िन्दगी;<br/>
पर हमें लगता है कि<br/>
हँसते रहो तो आसान है ज़िन्दगी।<br/>
सुप्रभात!
    देखो तो ख्वाब है ज़िन्दगी;
    पढ़ो तो किताब है ज़िन्दगी;
    सुनो तो ज्ञान है ज़िन्दगी;
    पर हमें लगता है कि
    हँसते रहो तो आसान है ज़िन्दगी।
    सुप्रभात!
  • यहाँ भी होगा, वहां भी होगा,
    अब तो सारे जहान में होगा।
    क्या?
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    क्या?
    .
    .
    .
    .
    .
    गाजर का हलवा!
  • आँसू टपक पडे बेरोजगारी के उस एहसास पर जब माँ ने कहा,
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    "बेटा खाली बैठा है, लहसुन ही छील दे।"
  • नीचे देखो अपना "नए साल का तोहफा"
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    क्या हुआ नहीं मिला।
    आज नया साल है क्या? चले आये तोहफा लेने।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT