• बीवी जब गुस्सा होती है तो आधे घण्टे में सब कुछ पैक कर लेती है।
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    लेकिन घूमने जाने के लिए पैकिंग करने में एक हफ्ते का समय लग जाता है।
  • पप्पू दुकान पे सामान लेने गया तो दुकानदार 500 का नोट बहुत ध्यान से देख रहा था।
    पप्पू: लाला जी, कितने भी ध्यान से देख लो गांधी जी की जगह कैटरीना नहीं दिखेगी।
  • लड़की के मना करने पर इतना दुःख नहीं होता, जितना दोस्त के ये कहने पर होता है कि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    यार, आज रहने दे कल पिएंगे।
  • ਨਾ ਪੁੱਛ ਤੇਰੀ ਜੁਦਾਈ ਦੇ ਲਮਹੇ ਮੈਂ ਕਿੱਦਾਂ ਬਿਤਾਏ;<br/>
ਪਾਣੀ ਵਿਚ Surf ਘੋਲ ਕੇ ਪਾਇਪ ਨਾਲ ਬੁਲਬੁਲੇ ਫੁਲਾਏ।Upload to Facebook
    ਨਾ ਪੁੱਛ ਤੇਰੀ ਜੁਦਾਈ ਦੇ ਲਮਹੇ ਮੈਂ ਕਿੱਦਾਂ ਬਿਤਾਏ;
    ਪਾਣੀ ਵਿਚ Surf ਘੋਲ ਕੇ ਪਾਇਪ ਨਾਲ ਬੁਲਬੁਲੇ ਫੁਲਾਏ।
  • यू पी के छात्र: सर जी, बिजली नही आती इसलिए पढाई नही हो पा रही।<br/>
अध्यापक: मैं कुछ इंतज़ाम करता हूँ।<br/>
छात्र: बिजली का?<br/>
अध्यापक: नही डिग्री का।Upload to Facebook
    यू पी के छात्र: सर जी, बिजली नही आती इसलिए पढाई नही हो पा रही।
    अध्यापक: मैं कुछ इंतज़ाम करता हूँ।
    छात्र: बिजली का?
    अध्यापक: नही डिग्री का।
  • साँस रोक कर तुझे छूने की कवायद;
    और हल्का सा छू कर ख़ुशी खुशी लौट आना;
    जैसे सारा जहाँ जीत लिया।
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    रोमांटिक शायरी नही है, कब्बडी की परिभाषा है। फिर से पढों समझ आएगा, मोहब्बत के मरीज़ो।
  • एक विज्ञापन आता है:<br/>
Lovely प्रोफेशनल यूनीवेर्सिटी 600 एकड़ मे फैला है।<br/>
अब कोई पूछे... बच्चों को पढ़ने जाना है या चरने।Upload to Facebook
    एक विज्ञापन आता है:
    Lovely प्रोफेशनल यूनीवेर्सिटी 600 एकड़ मे फैला है।
    अब कोई पूछे... बच्चों को पढ़ने जाना है या चरने।
  • थक गया हूँ तेरी नौकरी से ऐ जिन्दगी;<br/>
मुनासिब होगा तू अब मेरा हिसाब कर दे।Upload to Facebook
    थक गया हूँ तेरी नौकरी से ऐ जिन्दगी;
    मुनासिब होगा तू अब मेरा हिसाब कर दे।
  • भीगने का अगर शौक हो तो आकर वाहेगुरू के चरणों में बैठ जाना,<br/>
ये बादल तो कभी कभी बरसते हैं, मगर मेरे वाहेगुरू की कृपा हर पल बरसती है।Upload to Facebook
    भीगने का अगर शौक हो तो आकर वाहेगुरू के चरणों में बैठ जाना,
    ये बादल तो कभी कभी बरसते हैं, मगर मेरे वाहेगुरू की कृपा हर पल बरसती है।
  • अच्छे के साथ अच्छे रहो लेकिन बुरे के साथ बुरे नहीं बनो।<br/>
क्योंकि पानी से गंदगी साफ कर सकते हैं, गंदगी से गंदगी नही।<br/>
सुप्रभात!Upload to Facebook
    अच्छे के साथ अच्छे रहो लेकिन बुरे के साथ बुरे नहीं बनो।
    क्योंकि पानी से गंदगी साफ कर सकते हैं, गंदगी से गंदगी नही।
    सुप्रभात!
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT