• एक कामचोर मंदिर में भगवान से कह रहा था कि...<br />
मुझे अगले जन्म में बचपन राहुल जैसा;<br />
जवानी थुरूर जैसी;<br />
और बुढ़ापा दिग्विजय जैसा देना।Upload to Facebook
    एक कामचोर मंदिर में भगवान से कह रहा था कि...
    मुझे अगले जन्म में बचपन राहुल जैसा;
    जवानी थुरूर जैसी;
    और बुढ़ापा दिग्विजय जैसा देना।
  • हर तालियों के पीछे जरुरी तो नही आपकी तारिफ हो,
    हो सकता है कि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    कोई 'जौनपुरिया' खैनी बना रहा हो!
  • साला प्यार पर यकीन करने की कितनी भी कोशिश करो...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    "सावधान इंडिया" का एक एपिसोड सारी मेहनत पर पानी फेर ही देता है।
  • रोहतक में लगाई थी एक नेपाली ने मोमोज़ की रेहड़ी,
    एक ताऊ आ गया खाने और खाते ही बोला,
    "रै सुसरे, तेरे समोसे तो कच्चे हैं।"
  • पति: कहाँ गयी थी?<br />
पत्नी: खून देने।<br />
पति: जब तक मेरा खून पीती थी तब तक तो ठीक था, अब उसे बेचने भी लगी?Upload to Facebook
    पति: कहाँ गयी थी?
    पत्नी: खून देने।
    पति: जब तक मेरा खून पीती थी तब तक तो ठीक था, अब उसे बेचने भी लगी?
  • आज का ज्ञान:
    अपनी बीवी को हमेशा इस धोखे में रखो कि हर लड़ाई, हर झगड़े, हर बात में वही जीतती है।
    आप सुखी रहोगे!
  • पत्नी: अजी सुनते ही, यह मिर्ची किस मौसम में लगती है?<br />
पति: कोई ख़ास मौसम नहीं है, जब सच बात बोलो तब लग जाती है।Upload to Facebook
    पत्नी: अजी सुनते ही, यह मिर्ची किस मौसम में लगती है?
    पति: कोई ख़ास मौसम नहीं है, जब सच बात बोलो तब लग जाती है।
  • ज़मीन पे सुकून की तलाश है;<br />
मालिक तेरा बंदा कितना उदास है;<br />
क्यों खोजता है इंसान राहत दुनिया में;<br />
हर मसले का हल तेरी अरदास है।Upload to Facebook
    ज़मीन पे सुकून की तलाश है;
    मालिक तेरा बंदा कितना उदास है;
    क्यों खोजता है इंसान राहत दुनिया में;
    हर मसले का हल तेरी अरदास है।
  • खुद पर भरोसा करना कोई परिंदो से सीखे,<br />
क्योंकि शाम को जब वो घोंसलों में जाते हैं तो उनकी चोंच में कल के लिए कोई दाना नहीं होता।Upload to Facebook
    खुद पर भरोसा करना कोई परिंदो से सीखे,
    क्योंकि शाम को जब वो घोंसलों में जाते हैं तो उनकी चोंच में कल के लिए कोई दाना नहीं होता।
  • इंसान तब समझदार नहीं होता जब बड़ी बड़ी बातें करने लगे बल्कि तब समझदार होता है जब वो छोटी छोटी बातें समझने लगे।Upload to Facebook
    इंसान तब समझदार नहीं होता जब बड़ी बड़ी बातें करने लगे बल्कि तब समझदार होता है जब वो छोटी छोटी बातें समझने लगे।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT