• आज समय है रजाई का अविष्कार करने वाली महान आत्मा को शत-शत नमन करने का।
    कसम से कमाल की चीज बनाई है।
  • दुनिया में अच्छे आदमी की तलाश में मत निकलना,<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
बाहर बहुत ठण्ड है और मैं घर पर ही हूँ।
    दुनिया में अच्छे आदमी की तलाश में मत निकलना,
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    बाहर बहुत ठण्ड है और मैं घर पर ही हूँ।
  • ख़ून के नापाक ये धब्बे, ख़ुदा से कैसे छिपाओगे;<br/>
मासूमों की क़ब्र पर चढकर, कौन सी ज़न्नत जाओगे!
    ख़ून के नापाक ये धब्बे, ख़ुदा से कैसे छिपाओगे;
    मासूमों की क़ब्र पर चढकर, कौन सी ज़न्नत जाओगे!
  • दोस्त वो हो जो...<br/>
जनवरी की धूप हो<br/>
फ़रवरी की बारिश हो<br/>
मार्च की शाम हो<br/>
अप्रैल की बहार हो<br/>
मई की सुबह हो<br/>
जून की छाँव हो<br/>
जुलाई की खुशबु हो<br/>
अगस्त की तारों भरी रात हो<br/>
सितंबर की चाँदनी हो<br/>
अक्टूबर की रिमझिम हो<br/>
नवंबर की हवा हो<br/>
दिसंबर की सर्द रात हो<br/>
साल के 12 महीने साथ हो<br/>
नए साल की शुभ कामनायें!
    दोस्त वो हो जो...
    जनवरी की धूप हो
    फ़रवरी की बारिश हो
    मार्च की शाम हो
    अप्रैल की बहार हो
    मई की सुबह हो
    जून की छाँव हो
    जुलाई की खुशबु हो
    अगस्त की तारों भरी रात हो
    सितंबर की चाँदनी हो
    अक्टूबर की रिमझिम हो
    नवंबर की हवा हो
    दिसंबर की सर्द रात हो
    साल के 12 महीने साथ हो
    नए साल की शुभ कामनायें!
  • दिल से निकली दुआ है हमारी;<br/>
ज़िंदगी में मिले आपको खुशियां ढेर सारी;<br/>
ग़मों का कहीं नाम-ओ-निशान ना हो;<br/>
बदले में चाहे खुदा खुशियां कम कर दे हमारी।<br/>
जन्मदिन की बधाई!
    दिल से निकली दुआ है हमारी;
    ज़िंदगी में मिले आपको खुशियां ढेर सारी;
    ग़मों का कहीं नाम-ओ-निशान ना हो;
    बदले में चाहे खुदा खुशियां कम कर दे हमारी।
    जन्मदिन की बधाई!
  • वो क्या है जो सिर्फ कहने भर से टूट जाती है?
    वो क्या है जो सिर्फ कहने भर से टूट जाती है?
  • अहंकार को छोड़े बिना सच्चा प्रेम नहीं किया जा सकता।
    अहंकार को छोड़े बिना सच्चा प्रेम नहीं किया जा सकता।
  • बहुत पुरानी कहावत है,
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    इसलिए मुझे याद नहीं।
  • बंता: यार संता, अगर हम मरने के बाद नरक में गए तो क्या करेंगे?<br/>
संता: क्या करेंगे मतलब?<br/>
बंता: मतलब हमें तो नरक के बारे में कुछ पता ही नहीं है।<br/>
संता: ओये यह जो शादी होती है न यह आदमी को नरक का अनुभव दिलाने के लिए ही होती है।
    बंता: यार संता, अगर हम मरने के बाद नरक में गए तो क्या करेंगे?
    संता: क्या करेंगे मतलब?
    बंता: मतलब हमें तो नरक के बारे में कुछ पता ही नहीं है।
    संता: ओये यह जो शादी होती है न यह आदमी को नरक का अनुभव दिलाने के लिए ही होती है।
  • ज़िन्दगी एक सफ़र है सुहाना,
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    सर्दी आ गई अब भाङ में जाए नहाना।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT